वजन बढ़ाने वाली दवाओं का सेवन कितना सही? जानें इसके फायदे और नुकसान

क्या वजन बढ़ाने के लिए दवाओं (वेट गेन कैप्सूल्स) का सेवन करना सही है? इन कैप्सूल्स के सेवन से आपको क्या फायदे या नुकसान हो सकते हैं, जानें यहां।

Anurag Anubhav
Written by: Anurag AnubhavPublished at: Feb 09, 2013
वजन बढ़ाने वाली दवाओं का सेवन कितना सही? जानें इसके फायदे और नुकसान

दुबले-पतले शरीर को कई बार लोग मोटापे से ज्यादा हेल्दी मानते हैं, मगर ये सही नहीं है। अगर किसी व्यक्ति का शरीर बहुत ज्यादा दुबला-पतला है, यानी मांस कम है और हड्डियां झलक रही हैं तो ये भी अच्छा संकेत नहीं है। कुछ लोग अनुवांशिक कारणों से दुबले-पतले होते हैं। लेकिन ज्यादातर लोगों में किसी शारीरिक समस्या, गलत खानपान, गलत लाइफस्टाइल या ओवर डाइटिंग के कारण वजन कम होने की समस्या पाई जाती है। अच्छा बॉडी शेप पाने और वजन बढ़ाने के लिए कुछ लोग आजकल दवाओं और कैप्सूल्स (Weight Gain Products) का सेवन करने लगे हैं। बाजार में वजन बढ़ाने के नाम पर दवाएं, कैप्सूल्स, पाउडर, फूड्स आदि उपलब्ध हैं। मगर क्या आपने कभी सोचा है कि इस तरह के वेट गेन पिल्स या कैप्सूल्स का सेवन आपकी सेहत के लिए कितना सही व सुरक्षित है?

कई बार देखा जाता है कि वजन बढ़ाने को लेकर जब डाइट और एक्सरसाइज से भी कोई फर्क नहीं पड़ता तो लोग दवाईयों का सहारा लेते हैं। अक्सर ऐसी दवाएं शरीर को फायदा पहुंचाने के बजाए नुकसान पहुंचाने का काम करती हैं। हालांकि हेल्थ एक्सपर्ट्स, डायटीशियन या न्यूट्रीशनिस्ट्स की सलाह पर वजन बढ़ाने के लिए कुछ सप्लीमेंट्स लिए जा सकते हैं लेकिन बिना सलाह इन्हें लेना आपके लिए नुकसानदायक हो सकता है। आइए आपको बताते हैं वजन बढ़ाने वाली दवाओं के सेवन के फायदे और नुकसान।

कैसे काम करते हैं वजन बढ़ाने वाले कैप्‍सूल?

कुछ लोगों का वजन सही डाइट लेने के बाद भी नहीं बढ़ता। वो कुछ भी खा लें उनका वजन सामान्‍य से कम ही रहता है। जिसके बाद उनका रूख वजन बढ़ाने वाले कैप्सूल की ओर होता है। आमतौर पर ये कैप्‍सूल अप्राकृतिक तौर पर व्‍यक्ति की भूख बढ़ाने का काम करते हैं। जब व्‍यक्ति को अधिक भूख लगती है, तो वह अधिक भोजन करता है। लेकिन, इसका एक नुकसान यह भी है कि अधिक भूख को शांत करने के चक्‍कर में व्‍यक्ति कई बार जंक फूड्स और अनहेल्दी फूड्स की ओर ध्यान लगाने लगता है जो कि सेहत के लिए काफी नुकसानदायक होते हैं। इसके साथ ही जरूरत से ज्यादा खाना सेहत और शरीर के अंगों को भी कई तरह से प्रभावित कर सकता है।

weight

क्या वजन बढ़ाने वाली दवाओं (कैप्सूल्स) के सेवन से कुछ फायदा है?

प्रयागराज में 'हार्ड मसल्स जिम' के ओनर और फिटनेस ट्रेनर शाकिब खान बताते हैं कि आमतौर पर इन कैप्सूल को बनाने वाली कंपनियों के कई दावे होते हैं। इनमें से ज्यादातर दावे कई शर्तों के साथ होते हैं जैसे बेहतर परिणाम के लिए आप कैप्सूल को दूध के साथ लें, या इसके साथ-साथ हेल्दी डाइट, अच्छी एक्सरसाइज, अच्छी नींद, लें और स्ट्रेस कम करें आदि। जबकि अगर कोई व्यक्ति इन शर्तों को ही मान ले और कैप्सूल का सेवन न करे, तो भी उसका वजन आसानी से और सुरक्षित तरीके से बढ़ सकता है। एक बैलेंस डाइट और अच्छी एक्सरसाइज के द्वारा मेटाबॉलिज्म को बूस्ट करके प्राकृतिक तरीके से भूख बढ़ाई जा सकती है। हां अगर किसी व्यक्ति को किसी तरह के एलर्जी या बीमारी की वजह से कुछ पोषक तत्वों की कमी होती है, तो उसके लिए डॉक्टर की सलाह लेकर सप्लीमेंट्स लिए जा सकते हैं।

इसके अलावा अपने फिटनेस ट्रेनर से सलाह लेकर कुछ अच्छे ब्रांड्स के वेट गेन पाउडर्स या प्रोटीन पाउडर आदि का सेवन किया जा सकता है।

इसे भी पढ़ें: इन 5 हाई कैलोरी फूड्स से वजन बढ़ेगा तेजी से और शरीर बनेगा फिट

समय दें 

आपको सबसे पहले इस बात पर ध्यान देने की जरूरत है कि आपका वजन अचानक से नहीं बढ़ेगा बल्कि इसके लिए आपको पूरी मेहतन के साथ अच्छी डाइट और एक्सरसाइज की प्रैक्टिस करते रहना है। ऐसा नहीं होता कि आपने आज कोई कैप्सूल ली और कल से आपका वजन बढ़ने लग गया। ये पाउडर या कैप्‍सूल अपना असर दिखाने में कुछ समय लेती हैं। ऐसे में आपके लिए जरूरी है कि दिशा-निर्देशों का सही प्रकार से पालन करते हुए धैयपूर्वक इनका सेवन करें। 

वजन बढ़ाने वाली दवाओं और कैप्सूल्स के नुकसान

1. घट सकता है मेटाबॉलिज्म

वजन बढ़ाने वाले कुछ कैप्‍सूल ऐसे भी हैं जो आपके मेटा‍बॉलिज्‍म की रफ्तार को धीमा कर देती हैं। इससे भी वजन बढ़ने लगता है। लेकिन, कई बार मेटा‍बॉलिज्‍म की धीमी गति कई स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याएं दे सकती है। इससे शरीर में ऊर्जा की कमी हो जाती है और व्‍यक्ति को लंबे समय तक थकान का अनुभव होता है। 

इसे भी पढ़ें: ये 5 जड़ी बूटियां तेजी से बढ़ाती हैं वजन, नहीं होते कोई साइड इफेक्ट्स

2. दिल के लिए खतरनाक

मेटबाबॉलिज्‍म की धीमी गति के चलते शरीर के कई अंगों को सही मात्रा में ऑक्‍सीजन नहीं मिल पाता है। इसके कारण हमारे दिल पर भी अतिरिक्‍त दबाव पड़ता है। कई जानकार मानते हैं कि मेटाबॉलिज्‍म की जरूरत से ज्‍यादा धीमी होने पर इसका सीधा असर हमारे दिल पर होता है। 

3. ओवरईटिंग दे सकता है कई बीमारियां

वजन बढ़ाने वाले कैप्सूल्स आपकी भूख को अचानक से बढ़ा देते हैं, जिससे आप ओवरईटिंग कर सकते हैं और ये आदत आपको लंबे समय में कई बीमारियों जैसे- डायबिटीज, हाई ब्लड प्रेशर, फैटी लिवर आदि का शिकार बना सकती है।

4. हो सकता है नकारात्मक प्रभाव

कई बार कुछ कंपनियों की दवाओं में प्रतिबंधित ड्रग्स या दवाओं का इस्तेमाल किया जाता है, जिससे ये आपकी मसल्स को फुलाने में तो कारगर होती दिखती हैं, मगर शरीर के महत्वपूर्ण अंगों को नुकसान पहुंचाती जाती हैं। ऐसे ज्यादातर मामलों में देखा जाता है कि दवा का सेवन छोड़ते ही कुछ दिन में शरीर पहले जैसा ही हो जाता है और बढ़ा हुआ वजन रुकता नहीं है। शरीर के साथ बार-बार ऐसा प्रयोग हानिकारक हो सकता है।

Read More Articles On Weight Management in Hindi

Disclaimer