घर के बड़ों-बुजुर्गों को कोरोना वायरस से बचाने के लिए 'सोशल डिस्टेंस' के बारे में कैसे समझाएं? जानें 5 टिप्स

माता-पिता, दादा-दादी और घर के दूसरे बड़ों को इस समय सोशल डिस्टेंस का महत्व समझाना और अफवाहों से दूर रखना जरूरी है। जानें कैसे कर सकते हैं आप ये काम।

Anurag Anubhav
Written by: Anurag AnubhavPublished at: Mar 25, 2020
घर के बड़ों-बुजुर्गों को कोरोना वायरस से बचाने के लिए 'सोशल डिस्टेंस' के बारे में कैसे समझाएं? जानें 5 टिप्स

कोरोना वायरस के कारण सबसे ज्यादा खतरा बड़ों और बुजुर्गों को बताया जा रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी अपने संबोधन में कहा था कि घर में जो भी बुजुर्ग हैं, उन्हें इस संकट से बचाएं। देखा गया है कि तमाम देशों में कोरोना वायरस से फैलने वाले रोग कोविड-19 ने सबसे ज्यादा बड़ी उम्र के लोगों को ही अपना शिकार बनाया है। आपके घर में भी माता-पित, दादा-दादी या नाना-नानी आदि ऐसे सदस्य होंगे, जिनकी उम्र के लिहाज से आपको उनके लिए चिंता हो रही होगी। बहुत सारे बुजुर्गों को, खासकर अल्प शिक्षित लोगों को इस समय सोशल डिस्टेंसिंग का महत्व समझाना बड़ा मुश्किल हो रहा है। चूंकि सभी घरों में लोग अपने बड़ों से खुलकर बात नहीं कर पाते हैं, इसलिए आज हम आपको बता रहे हैं ऐसी 5 टिप्स, जिनकी मदद से आप अपने घर के बड़ों और बुजुर्गों को सोशल डिस्टेंसिंग का महत्व समझा पाएंगे।

क्या आप बात करने के लिए सही इंसान हैं?

कई बार देखा जाता है कि घर के बुजुर्ग, बच्चों की बातों को महत्व देना जरूरी नहीं समझते हैं। ऐसी अवस्था में आपके सामने सबसे बड़ी चुनौती तो यही हो सकती है कि क्या आप अपने घर के बड़े बुजुर्गों से बात करने के लिए सही व्यक्ति हैं या नहीं? अगर आपको लगता है कि आप उनसे खुलकर बात कर सकते हैं और बिना डर या झिझक के उनसे अपनी बात कह सकते हैं, तभी आपको आगे आना चाहिए। अन्यथा आप घर में मौजूद किसी दूसरे सदस्य के द्वारा उन्हें सोशल डिस्टेंस का महत्व और कोरोना वायरस के बढ़ते खतरों के लिए जरूरी सावधानियां बतलाएं।

इसे भी पढ़ें:- कोरोना वायरस जैसे लक्षण महसूस हों तो आपको क्या करना चाहिए? जानें रोगी और फैमिली मेंबर्स के लिए जरूरी टिप्स

प्यार से बात करें, आदेश जैसा न दें

हर व्यक्ति के लिए उसका आत्म सम्मान एक बड़ी चीज होती है। घर के छोटे बच्चे अगर बुजुर्गों से गलत टोन में बात करें, तो उन्हें बुरा लगता है। इसलिए जब आप अपने घर के किसी बुजुर्ग को कोरोना वायरस या इसके खतरे के बारे में समझा रहे हों और उन्हें ये हिदायत दे रहे हों कि उन्हें घर से नहीं निकलना चाहिए, तो इस दौरान अपने टोन को ऐसा रखें जैसे आप उन्हें प्यार से समझा रहे हैं, न कि आदेश दे रहे हैं। प्यार से समझाने पर उनके मन में यह बात भी आती है कि आप उनके लिए फिक्रमंद हैं, इसलिए वो आपकी बात को ज्यादा महत्व देते हैं।

सवालों से करें शुरुआत

वैसे तो कोरोना वायरस और इसके खतरों की चर्चा इस समय पूरे देश में है। मगर हो सकता है कि आपके घर के बुजुर्गों के पास सोशल मीडिया या व्हाट्सएप के द्वारा गलत भ्रामक जानकारी और अफवाहें आ गई हों, जिसके कारण वो अपने आपको सुरक्षित महसूस करने लगे हों या डर गए हों। ऐसे में आपको हमेशा बातचीत की शुरुआत सवालों से करनी चाहिए। आप उनसे पूछ सकते हैं कि कोरोना वायरस के बारे में आप क्या जानते हैं? इसके खतरों के बारे में क्या जानते हैं या वायरस से बचाव के लिए क्या उपाय जानते हैं?

इन सवालों के बाद धीरे-धीरे आप उनके मन में उठ रहे सवालों का जवाब देते जाएं और अफवाहों की सच्चाई बताते जाएं। इस तरह जल्द ही उन्हें आपकी बातों के लिए मनाना आसान होता जाएगा।

इसे भी पढ़ें:- बुजुर्गों में बहुत सामान्य है आई फ्लू की समस्या, जानें क्या हैं इसके सामान्य लक्षण

डराएं नहीं, सही जानकारी दें

देखा जा रहा है कि बहुत सारे लोग अपने घर के बुजुर्गों को बेवजह डरा रहे हैं और गलत जानकारियां दे रहे हैं, ताकि वो डर से घर में ही बैठे रहें। मगर ये तरीका सही नहीं है। आजकल सूचनाएं कब, कहां से व्यक्ति तक पहुंच जाएं, इसका पता नहीं होता है। ऐसे में अगर आपने बड़ों के सामने गलत तथ्य पेश किए, तो हो सकता है कि बाद में वो आपसे नाराज हो जाएं या अपने आप को सुरक्षित मानकर घर से बाहर निकल जाएं। इसलिए उन्हें वही बातें और तथ्य बताएं, जो सच्चे हैं और विश्वसनीय स्रोतों जैसे- विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO), सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (CDC) और स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय भारत सरकार से प्राप्त हुए हों।

उन्हें बताएं कि आप उन्हें कितना प्यार करते हैं

ममत्व से बढ़कर कोई दूसरा हथियार घर के बड़ों और बुजुर्गों को परास्त नहीं कर सकता है। इसलिए ऐसे समय में जब दुनियाभर में बूढ़े लोग लगातार मर रहे हैं आप अपने घर के बड़ों और बुजुर्गों को बताएं कि आप उन्हें कितना प्यार करते हैं और वो आपके जीवन में कितना महत्व रखते हैं। इससे उनके मन में आपसे बिछड़ने का जो संदेह और डर पैदा होगा, वही आपकी जीत है और इसी तरह आप उन्हें अपनी बातों को मनवा सकते हैं। इसके अलावा आप सोशल डिस्टेंसिंग पर इंटरनेट पर ढेर सारे वीडियोज हैं, जिन्हें आप उन्हें दिखा सकते हैं।

Read more articles on Parenting in Hindi

Disclaimer