ज्यादा सोचने से बढ़ता है कई रोगों का खतरा, आप को भी है ये आदत तो काम आएंगी ये 5 मेडिटेशन टिप्स

एक हद तक सोचना बिल्कुल सही है, लेकिन हद से ज्यादा सोचना और किसी बात के बारे में विचार करते रहना आपको गंभीर बीमारी की ओर धकेल सकता है। 

Monika Agarwal
Written by: Monika AgarwalUpdated at: Apr 11, 2021 13:30 IST
ज्यादा सोचने से बढ़ता है कई रोगों का खतरा, आप को भी है ये आदत तो काम आएंगी ये 5 मेडिटेशन टिप्स

जितनी तरह के लोग, उनके अंदर उतनी ही तरह की आदतें पर अधिकांश लोगों में मिलती है ओवर थिंकिंग (Overthinking) की आदत यानी ज्यादा सोचने की आदत। ज्यादा सोचना ना सिर्फ सेहत के लिए नुकसानदायक है बल्कि, दिमाग पर भी काफी हद तक प्रभाव डालता है (Overthinking affects Health)। ऐसे में इस स्थिति से उबरने की सबसे ज्यादा जरूरत होती है। क्योंकि ओवर थिंकिंग के चलते आप डिप्रेशन का भी शिकार हो सकते हैं। अगर आप भी अपनी आदत से परेशान हैं तो सिर्फ मेडिटेशन से आप अपनी खुद की मदद कर सकते हैं। लेकिन सबसे जरूरी बात यह है कि यदि आपको लगता है टांगों को क्रॉस करके बैठना और कमर और हाथों को सीधा रखना ही केवल ध्यान (Meditation) करने का यही "सही तरीका"  है, तो सच्चाई यह है नहीं। जरुरी है आपका आराम से बैठना और बिना ध्यान बटें मेडिटेशन करना। दूसरी जरूरी बात यह है कि आपको घंटों के लिए ध्यान मुद्रा में नहीं बैठना। न ही आपको घंटा या आधा घंटा बैठना है। आप कुल 3 मिनट बैठें, क्योंकि जितनी देर आप इस अवस्था में बैठेंगे आप पर ओवरथिंकिंग हावी होगी ही। शुरुआत में इतना ही समय काफी है बाद में आप इसे धीरे-धीरे अपनी सुविधा के अनुसार बढ़ा सकते हैं। वैसे भी आपको आपका दिमाग नहीं कह रहा कि 'आप यह नहीं कर सकते'; 'इतनी देर नहीं बैठ सकते'; बल्कि यह आपके अधिक सोचने का नतीजा है। लेकिन 3 मिनट का समय अपने बिजी शेड्यूल से आराम से निकाला जा सकता है। याद रखिए कि मेडिटेशन का मतलब आपके विचारों को खत्म करना नहीं है, बल्कि आपको आपके विचारों से अलग करना है। निम्न टिप्स को अपनाकर, आप अपनी ओवरथिंकिंग की आदत को बदल सकते हैं।

meditate with others

1. दूसरों के साथ करें ध्यान (Meditate with others)

अकेले ध्यान करने से बेहतर है कि आप किसी के साथ ध्यान करें। ये आपके लिए आश्चर्यजनक हो सकता है लेकिन यकीन मानिये जब आप किसी के साथ ध्यान करते हैं तो उर्जा और भी प्रभावशाली हो जाती है। और साथ में ध्यान करने से आपको भी अच्छी मदद मिलती है। आपको अकेले ध्यान करने से ज्यादा अच्छा किसी के साथ ध्यान करने में ज्यादा अच्छा फील होगा।

2. खुद के लिए चुनें बेहतर जगह (meditative space)

हमारी रोजमर्रा की जिंदगी में कई ऐसे काम होते हैं, जिन्हें लेकर दिमाग में कुछ ना कुछ चलता रहता है। ये कोई बड़ी बात भी नहीं है। आप कोई ऐसा स्थान चुनें जहां आपके मन को शांति मिल सके। आप थोड़ा मन बहलाने की कोशिश करें। आप घूमने के लिए निकलें। आप इसके अलावा आप अपने घर में भी एक अच्छा सा वातावरण बना सकते हैं। आप घर में खुशबूदार मोमबत्तियां जलाएं, जिससे मन को शांति मिल सके। आप ऐसे में कुछ ध्यान भी लगा सकते हैं।

इसे भी पढ़ें- गर्मी के मौसम में आप भी होते हैं झुंझलाहट और तनाव का शिकार? जानें इसका कारण और समस्या दूर करने के उपाय

3. शेड्यूल बनाएं (Create a schedule)

अगर आपका मन शांत नहीं रहता और आप जरूरत से ज्यादा सोचते हैं, तो आपके लिए जरूरी है कि आप अच्छी आदत को अपनी जीवन शैली का हिस्सा बनाएं। जिससे हमारे दिमाग को शांति मिल सके। आप अपने खुद के लिए एक समय चुनें, और अपने दिमाग को आराम देने की कोशिश करें। दिमाग को थोड़ा चिल करने की कोशिश करें। आपकी हर रोज की ये कोशिश आपको मानसिक रूप से स्वस्थ्य रखेगी।

4. वर्चुअल मेडिटेशन करें (Meditate virtually)

virtual meditation

ओवर थिंकिंग से छुटकारा पाने के लिए, आप अभ्यास में इमर्सिव टेक्नोलॉजी की मदद ले सकते हैं। आज कल भारतीय बाजार में कई तरह की डिवाइस आ चुकी हैं। लेकिन एक डिवाइस ऐसी भी है जो आपको ध्यान लगाने में मदद कर सकती है वह है वर्चुअल रियलिटी हैंडसेट। अगर यह है आपके बजट से बाहर है तो आप प्रकृति से जुड़ाव महसूस करने के लिए यूट्यूब वीडियोस देखिए।  जिसमें आपको बारिश, समुद्र तट के किनारे होने का फील हो व मन शांत हो।

इसे भी पढ़ें- कब्ज से परेशान रहते हैं तो इन 5 तरीकों से मसाज कर पाएं तुरंत छुटकारा, पेट होगा साफ

5. योग भी करेगा आपकी मदद (Yoga is Beneficial)

yoga for stress

हर मर्ज की दवा है योग, कहीं से भी गलत नहीं होगा। इससे ना सिर्फ शारीरिक बल्कि मानसिक तनाव से भी छुटकारा मिलता है। हम में से काफी लोग ऐसे हैं जो खाली समय में बैठकर कुछ ना कुछ सोचते ही रहते हैं। विशेषज्ञों की मानें तो योग ही मात्र एक ऐसा जरिया है, जिसकी मदद से इस आदत को कंट्रोल किया जा सकता है। मन अशांत होना, कुछ ना कुछ हमेशा सोचते रहना, हर किसी की परेशानी का सबब बन गया है। आज के समय में अपने बिजी शेड्यूल से समय निकालना मुश्किल है, लेकिन ना मुमकिन नहीं। इन टिप्स के अलावा आप हल्के संगीत की मदद भी ले सकते हैं। संगीत भी सारी टेंशन को भगाने के लिए अच्छी थेरेपी है।

इन तरीकों की मदद से आप ओवर थिंकिंग को पीछे छोड़कर आगे बढ़ें और बीमारियों से दूर रहें।

Read more on Mind & Body in Hindi 

Disclaimer