जानें क्‍यों बड़े बच्‍चे के स्वास्थ्य के लिए बेहतर होते हैं छोटे बच्चे

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Mar 28, 2016
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • जिन बच्चों के छोटे भाई-बहन होते हैं वे कम मोटे होते हैं।
  • छोटे भाई-बहन की जिम्मोदारी बनाती है उन्हें सक्रिय।
  • बड़े बच्चे अपने छोटे भाई-बहन से कम खाते हैं।
  • छोटे भाई-बहनों के साथ खेलने कूदने से होते हैं लम्बे।

बच्चे जैसे ही बड़े भाई या बड़ी बहन बनती है उनकी मानसिक स्थिति पूर्णतया बदल जाती है। असल में छोटे भाई या बहन बड़े भाई या बहन के मानसिक ही नहीं शारीरिक स्वास्थ्य को भी प्रभावित करते हैं। यही नहीं उनके भावनात्मक स्तर को भी सकारात्मक दिशा देने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करते हैं। आइये जानते हैं कि छोटे बच्चे, बड़े बच्चों के स्वास्थ्य लिए किस तरह बेहतर होते हैं।

मोटे नहीं होते

जिन बच्चों के छोटे भाई या बहन होते हैं वे अन्य बच्चों की तुलना में कम मोटे होते हैं। असल में बड़े बच्चे अपने छोटे भाई या बहन के साथ हर चीज साझा करके खाना पसंद करते हैं। वे अपने हिस्से से ज्यादा छोटे को बांटते हैं। परिणामस्वरूप वे मोटापे को खुद से दूर रखते हैं। शोध अध्ययनों के मुताबिक ऐसे बच्चे जिनके भाई या बहन नहीं होते, वे उनके मुकाबले जिनके छोटे भाई-बहन होते हैं, तीन गुना ज्यादा मोटे होते हैं।

भाई-बहन

फिट होते हैं

जिन बच्चों के छोटे-भाई या बहन होते हैं, सिंगल चाइल्ड की तुलना में ज्यादा फिट होते हैं। यही नहीं वे ज्यादा सक्रिय भी होते हैं। उनमें आलसपना नहीं होता और न वे कामचोरी करते हैं। इसके उलट जो सिंगल चाइल्ड होते हैं वे आलसी तो होते ही हैं साथ ही उनमें सक्रियपना भी कम देखने को मिलता है।

 

कम खाते हैं

ऐसे बच्चे कम खाना पसंद करते हैं जिनके छोटे भाई या बहन होते हैं। दरअसल बड़े भाई या बहन खुद को हमेशा जिम्मेदारी के पद पर महसूस करते हैं। यही कारण है कि वे कुछ भी खाने से पहले अपने छोटे भाई या बहन को देते हैं। कई बार वे अपना हिस्सा भी अपने छोटे भाई-बहन को दे दते हैं। नतीजतन वे फैट या कैलोरी के नाम पर काफी कम हासिल करते हैं।

 

टीवी स्क्रीन पर कम बैठते हैं

चूंकि ऐसे बच्चे जिनके छोटे भाई-बहन होते हैं, वे स्क्रीन के सामने कम बैठते हैं तो उनमें बंद कमरे में पनपने वाली बीमारियां भी नहीं होती। असल में जो लोग स्क्रीन के सामने कम से कम समय बिताते हैं, उनकी आंखें खराब होने की आशंका भी कम होती है। अतः यह कहना कि जिन बच्चों के छोटे भाई-बहन होते हैं, उनकी आंखें कम खराब होती है, जरा भी गलत नहीं है।

लम्बाई अच्छी होती है

अध्ययनों के मुताबिक जिन बच्चों के छोटे भाई-बहन होते हैं उनकी लम्बाई भी अच्छी होती है। दरअसल वे अपने छोटे भाई के साथ खेलते हैं, उछलते-कूदते हैं। ऐसे में उनकी लम्बाई बढ़ना लाजिमी है।


ओवर वेट की आशंका कम होती है

ऐसे बच्चों में वजन बढ़ने की आशंका भी कम होती है जिनके छोटे भाई-बहन होते हैं। जैसा कि पहले ही बताया जा चुका है कि बच्चे अपने छोटे भाई-बहन के साथ खेलने में, उनके खानपान आदि सब चीज का ख्याल रखते हैं। ऐसे में वे अपना ख्याल भी रखना सीख जाते हैं। यही नहीं वे बाहर की चीजों को खाने और खिलाने से बचते हैं। ऐसे में उनके वजन में बढ़ोत्तरी की आशंका भी कम होती है।

 

Read more articles on Parenting in Hindi.

Write a Review
Is it Helpful Article?YES1 Vote 620 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर