खर्राटों से परेशान हैं, तो इन तरीकों से पायें निजात

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Aug 21, 2012
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • खर्राटे लेने में व्‍यक्ति अपनी नाक से तेज सांस छोड़ता है।
  • गले का पिछला हिस्‍सा होने के कारण खर्राटे आते हैं।
  • नाक में खराबी, एलर्जी, नाक की सूजन हैं खर्राटे का कारण।
  • इससे बचाव के लिए धूम्रपान, शराब आदि का सेवन न करें।

खर्राटे, जिसमें व्‍यक्ति सोने के बाद नाक से तेज आवाज के साथ सांस लेता और छोड़ता है। क्या आपको खर्राटे की समस्या है क्‍या कभी आप खर्राटे की समस्‍या को लेकर डॉक्‍टर के पास गए हैं? नहीं!, अधिकतर लोग खर्राटे को एक साधारण प्रक्रिया समझकर टालते हैं, पर खर्राटे स्लिपिंग डिसऑर्डर का हिस्सा भी हो सकता है। इसलिए खर्राटों से बचने के उपाय करने चाहिए।

सोते समय गले का पिछला हिस्सा थोड़ा संकरा हो जाता है। ऐसे में ऑक्सीजन जब संकरी जगह से अंदर जाती है तो आस-पास के टिशु वायब्रेट होते हैं। और इस वायब्रेशन से होने वाली आवाज को ही खर्राटे कहते हैं। रात को सोते समय रोगी इतनी तेज आवाज निकालता है कि उसके पास सोना बिल्कुल मुश्किल हो जाता है।

खर्राटे लेने के कई कारण हो सकते हैं जैसे, नाक में खराबी, एलर्जी, नाक की सूजन, जीभ मोटी होना, अधिक धूम्रपान करना, शराब पीना या नशीले पदार्थों का सेवन करना और रात को अधिक भोजन करना आदि। आइए जाने खर्राटे से बचने के तरीको के बारें में।

Ways to Avoid snoring

 

मन रखें शांत

जिन्हें रात को सोते समय खर्राटे लेने की आदत हो उसे खर्राटे से बचने के लिए रात को सोते समय मन को शांत व मस्तिष्क को बाहरी विचारों से मुक्त रखकर सोना चाहिए।


शरीर को पूर्ण आराम

सोते समय अपने शरीर को पूर्ण आराम दें तथा सोते समय ध्यान रखें कि किसी भी अंग पर जोर न पड़ें।


कम भोजन

रात को सोने से पहले भोजन ज्‍यादा मात्रा में न करें, साथ ही अधिक देर तक जागने से भी बचे।

 

वजन कम करें

यदि आप मोटे है तो भी आपको खर्राटे की आदत हो सकती है इसलिए वजन को कम करने के उपाय करें।


करवट

खर्राटे आने पर करवट लेकर सोना चाहिए। जिस करवट पर सोने पर ज्‍यादा खर्राटे आते हों उस तरफ नही सोना चाहिए।

Avoid snoring

 

नींद की गोलियां

सोने के लिए अगर आप नींद की गोलियों या अन्‍य दवाईयों का प्रयोग करते है तो बंद कर देना चाहिए। क्‍योंकि इससे भी खर्राटे आते है।


सिर ऊंचा

सोते समय अगर सिर को थोड़ा ऊंचा करके सोया जाए तो भी खर्राटे की समस्‍या से बचा जा सकता है।

 

सांस

सांस लेने व छोड़ने की क्रिया को सही तरीके से करना चाहिए।

 

नशीले पदार्थ

सोने से पहले शराब व सिगरेट आदि नशीले पदार्थों का सेवन न करें। नशे से भी खर्राटे ज्‍यादा आते है।

 

सोने का त‍रीका

आपको अगर पीठ के बल सोने की आदत है तो आपको इस आदत से भी बचना चाहिए।


खर्राटे अनबन का कारण बन सकते हैं, इसकी वजह से रिश्‍तों में दरार पड़ सकती है, इसलिए इससे बचाव के लिए आज से प्रयास शुरू कर दीजिए। यदि इन तरीकों से राहत न मिले तो चिकित्‍सक से संपर्क करें।

 

Read More Articles on Sports-Fitness in hindi.

Write a Review Feedback
Is it Helpful Article?YES15 Votes 16147 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर