विन्‍यास योग और इसके लाभ

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jul 16, 2013
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • विन्‍यास योग मुद्राओं की एक श्रृंखला है।
  • यह सांस तेजी से अंदर और बाहर लेने में मदद करती है।
  • विन्यास का अर्थ है, 'सांसों की गति को संकलित करना'।
  • इससे शारीरिक और मानसिक दोनों लाभ पहुंचता है।

विन्‍यास योग मुद्राओं की एक श्रृंखला है, जो सांस को तेजी से अंदर और बाहर करने में मदद करती है। विन्‍यास संस्‍कृत का शब्‍द है जिसका अर्थ है, 'सांसों की गति को संकलित करना या ब्रीथ सिंक्रोनाइज्‍ड मूवमेंट'। विन्‍यास योग नृत्‍य जैसा है, योग के इस प्रकार को फ्लो या प्रवाह के रूप में जाना जाता है।
 

Vinyasa yoga


विन्‍यास योग करने से शारीरिक और मानसिक दोनों को लाभ पहुंचता है। इसे करने से शरीर से पसीने के रूप में दूषित पदार्थ बाहर निकलते हैं, जिससे शरीर स्‍वस्‍थ और रोगमुक्‍त रहता है। सांस लेने की गति इस योग में तेज होती है जिससे दिमाग को आराम मिलता है।

विन्‍यास योग की शुरुआत तिरूमाला कृष्‍णमचार्य नामक साधु ने की। उन्‍होंने सांसों की महत्ता को जानते हुए इस योग के इस प्रकार का प्रसार किया। इस योग के दौरान शरीर का झुकाव हर दिशा में होता है। इसलिए विन्‍यास योग को करते वक्‍त बहुत सावधानी बरतनी चाहिए। आइए हम आपको विन्‍यास योग और इससे होने वाले लाभ की जानकारी देते हैं।


 

विन्‍यास योग के लाभ


शक्ति प्रशिक्षण या स्‍ट्रेंथ ट्रेनिंग
विन्‍यास योग शक्ति प्रशिक्षण की प्रक्रिया की तरह काम करता है। यह शरीर की कमजोर मांसपेशियों को मजबूत बनाता है। इसकी मुद्रायें ऐसी होती हैं जो शरीर के हर हिस्‍से को प्रभावी रूप से मजबूत बनाती हैं।


तनाव कम होता है
विन्‍यास योग करने से न केवल शरीर निरोग और स्‍वस्‍थ रहता है बल्कि यह मानसिक रूप से भी आदमी को मजबूत बनाता है। योग एक प्रकार की आध्‍यात्मिक प्रक्रिया है, जिससे आदमी अपनी भावनाओं पर काबू पाता है। इस योग को करने से सकारात्‍मक विचार आते हैं जिसके कारण तनाव नही होता है और तन के साथ मन भी तंदरुस्‍त होता है।


शरीर में लचीलापन

विन्‍यास योग करने से शरीर लचीला और कोमल होता है। इस योग की मुद्राओं के दौरान मांसपेशियों में खिंचाव होता है जिसके कारण कड़ी मांसपेशियां लचीली होती हैं। विन्‍यास योग के दौरान मांसपेशियों को पर्याप्‍त मात्रा में ऑक्‍सीजन मिलती है जिसके कारण मांसपेशियां लचीली होती हैं। शरीर में लचीलापन आने से मोच और चोट लगने की संभावना कम होती है।



बीमारियों से बचाव

विन्‍यास योग को नियमित रूप से 60-90 मिनट तक करने से बीमारियां होने का खतरा कम होता है। इससे दिल की बीमारियां होने की आशंका भी काफी कम हो जाती है। रक्‍तचाप नियंत्रण में रहता है, डायबिटीज होने का खतरा कम होता है। साथ ही वजन भी काबू में रहता है। जिन लोगों को अनिद्रा की शिकायत है उनके लिए भी यह योग काफी लाभकारी है क्योंकि इसे करने से नींद भी बहुत अच्‍छी आती है।


विन्‍यास योग करते वक्‍त बरतें सावधानी

  • विन्‍यास योग करते वक्‍त शरीर का झुकाव लगभग हर तरफ होता है। इसलिए इस योग को करने के दौरान आरामदेह और ढीले कपड़े पहनें।
  • इस योग को शुरू करने से पहले जमीन पर चटाई जरूर बिछाइए, खुली जमीन पर इस आसन को करने से बचें।
  • विन्‍यास योग के दौरान पसीना निकलता है, इसलिए पानी की बॉटल और टॉवेल भी साथ रखें।
  • जब तक पूरी तरह सीख न जाएं इस आसन को स्‍वयं करने की कोशिश न करें। बेहतर होगा कि किसी प्रशिक्षित योग गुरु की देखरेख में ही विन्‍यास योग करें।

 

 

Read More Articles on Yoga in Hindi

Write a Review
Is it Helpful Article?YES19 Votes 5691 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर