सप्‍ताह भर हील्‍स से मिली परेशानियों से पायें दिन में निजात

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Sep 29, 2014
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • लगातार हील्‍स पहनने से होते हैं नुकसान।
  • अपने पैरों को गर्म पानी में डुबोकर रखें।
  • फुट मसाज से भी मिलता है पैरों की तकलीफ से आराम।
  • कुछ देर नंगे पांव घास पर चलना भी होता है फायदेमंद ।

आजकल कई महिलायें ऊंची एड़ी के सैंडल पहनती हैं। दिन में कई घंटे वे ऐसे सैंडल पहने रहती हैं। लेकिन, ऊंची एड़ी के सैंडल आपके शरीर पर काफी बुरा असर डालते हैं। लगातार ऐसी एड़ी के सैंडल पहने रखने से पैरों में काफी दर्द हो सकता है।

हील्‍स पहनने से पैरों पर नाहक ही दबाव पड़ता है। इसके साथ ही पंजे की नाजुक मांसपेशियां भी इससे प्रभावित होती हैं। इनता ही नहीं, हील्‍स पहनकर चलते समय आपकी कमर और घुटनों पर भी काफी दबाव पड़ता है। और यह बात भी याद रखिये जितनी ऊंची हील होगी, दबाव भी उतना ही ज्‍यादा होगा।

heals disadvantages in hindi

एक शोध के मुताबिक हर तीसरी महिला को लगातार हील्‍स पहने रखने के कारण कमर, घुटने और पैरों की स्‍थायी समस्‍या हो गई है। हील्‍स से पड़ने वाले दबाव से तो पैरों के ऊत्‍तकों पर भी नकारात्‍मक असर पड़ता है।

अगर हील्‍स पहनने से आपको भी पैरों संबंधी परेशानियां शुरू हो गयी हैं, तो कुछ उपाय अपनाकर आप इस तकलीफ को कुछ हद तक कम कर सकती हैं।

नंगे पैर चलें

हील्‍स को भूल जाइये और वीकएंड पर अपने पैरों को आराम दीजिये। जब भी संभव हो नंगे पैर चलिये। पैरों को जमीन पर रखकर चलिये। घास पर नंगे पैर सैर कीजिये। कारपेट पर नंगे पैर घूमिये। इससे हील्‍स पहनने से आपके पैरों और पिंडलियों में जो सूजन आ गयी है, वह कम हो जाएगी।

उन छालों का करें इलाज

खुले जख्‍म आपके लिए अच्‍छे नहीं। उन जख्‍मों पर एंटीसेप्टिक क्रीम लगायें। इससे उन फफालों और छालों में संक्रमण होने का खतरा कम हो जाएगा। किसी भी फफोले को न फोड़ें। कुछ समय बाद वे अपने आप ही समाप्‍त हो जाएंगे। हालांकि, आपका दिल ऐसा किया जाने को मचल रहा होगा, लेकिन खुद पर काबू रखिये।

soak in water in hindi

पानी में डुबोयें

सप्‍ताह भर की थकान के बाद आपके पैरों को आराम चाहिये। आप अपने पैरों को टब में गर्म पानी में अच्‍छी तरह भिगोकर रखें। अगर आपको छाले हैं, तो हो सकता है कि आपको थोड़े समय के लिए तकलीफ हो, लेकिन आखिर में आपकी मांसपेशियों को इससे बहुत आराम मिलेगा। इस सिंकाई का अधिक लाभ लेने के लिए आप इस पानी में कुछ बूंदे तेल की भी डाल सकती हैं।

इंतजार करें

बेशक, आपके पास बेहद खूबसूरत जूते हैं, जिन्‍हें आप पहनना चाहती हैं। लेकिन, कुछ समय इंतजार कीजिये। इतनी जल्‍दबाजी अच्‍छी नहीं। जल्‍दबाजी करने से आपकी समस्‍या बढ़ सकती है। तो आराम से काम करें और धीरे-धीरे अपनी तकलीफ के कम होने की प्रतीक्षा करें। अन्‍यथा आपकी तकलीफ बढ़ जाती है।

 

पैरों की मसाज

यह पैरों की तकलीफ से राहत पाने का बहुत अच्‍छा तरीका है। स्‍पा में जाकर पैरों की मसाज करवाइये। विशेषज्ञ मसाज करने वाला आपके पैरों की मांसपेशियों को तकलीफ कम हो जाती है। आप चाहें तो योग की मदद भी ले सकती हैं।

soak in water in hindi

सपाट चप्‍पल या सैंडल पहनें

अगर आपने कहीं बाहर जाना है, तो बेशक आप नंगे पैर तो नहीं जा सकतीं। ऐसे में आप सपाट चप्‍पल या सैंडल पहन सकती हैं। ये न केवल आरामदेह होते हैं, बल्कि इससे आपके पैरों का दर्द भी कम होता है। हो सकता है कि इससे आपको हील्‍स वाला मजा और लुक्‍स न मिलें, लेकिन क्‍या आपके पास कोई दूसरा विकल्‍प मौजूद है।

पैडीक्‍योर करवायें

पैरों को आरा‍म मिलने के बाद आप उन पर पैडीक्‍योर करवा सकती हैं। इससे आपके स्‍वस्‍थ पैरों को फाइनल टच मिलता है। आपके पैर स्‍वस्‍थ और स्‍टाइलिश नजर आते हैं।

हील्‍स को करें अपने हिसाब से एडजस्‍ट

हील्‍स पहनकर घूमते रहने से आपके पैरों को काफी कुछ झेलना पड़ता है। हालांकि, कुछ बातों को ध्‍यान में रखकर आप पैरों को होने वाले नुकसान को कम कर सकती हैं।

अगर इन सब उपायों से आपके पैरों को राहत न मिले, तोजरूरत हैं कि आप किसी विशेषज्ञ से संपर्क करें। संभव है कि इससे आप अपने पैरों को अधिक नुकसान होने से बचा पायेंगे।

Write a Review Feedback
Is it Helpful Article?YES6 Votes 1742 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर