क्या सर्दी होने पर लेनी चाहिए एंटीबायोटिक? जानिए सच

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Feb 05, 2016
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • 75 फीसदी भारतीय करते हैं एंटीबायोटिक का इस्तेमाल।
  • डब्लूएचओ नो 12 देशों में सर्वे कर तैयार की ये रिपोर्ट।
  • केवल बैक्टीरिया से होने वाली बीमारियों में ये है फायदेमंद।
  • जबकि जुकाम और सर्दी वायरस से होने वाली बीमारी।

अपनी सेहत को लेकर सतर्क रहना अच्छी बात है लेकिन उसके प्रति ऑब्सेस होना गलत आदत है। ये गलत आदत सबसे अधिक जुकाम और उसके इलाज को लेकर लोगों में होती है। जुकाम में एंटीबायोटिक खाने की सबसे अधिक आदत भारतीयों में होती है। विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा तैयार की गई रिपोर्ट में ये बात सामने आई है कि 75 फीसदी भारतीय अब भी मानते हैं कि एंटीबायोटिक से जुकाम ठीक होता है। जबकि खतरनाक सुपरबग्स औऱ पोस्ट एंटीबायोटिक युग जैसे एंटीबायोटिक प्रतिरोध के खतरों के बारे में काफी कुछ कहा जा चुका है।

antibiotic

12 देशों में कराए गए सर्वे

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने यह रिपोर्ट हाल ही में 12 देशों में सर्वे के बाद तैयार की है। इस सर्वे में भाग लेने वाले तीन चौथाई लोग एंटीबायोटिक प्रतिरोध की गंभीरता के बारे में जानते थे। जबकि इतने ही लोग ये भी मानते थे कि एंटीबायोटिक लेने से जुकाम जैसी मौसमी बीमारियां ठीक हो जाती हैं।

 

पेट के इन्फैक्शन के लिए फायदेमंद

विशेषज्ञ सर्जरी के बाद या पेट के इन्फैक्शन जैसी बैक्टीरिया से होने वाली बीमारियों के लिए एंटीबायोटिक्स देते हैं। जबकि सर्दी और जुकाम, वायरस के कारण होते हैं। ऐसे में एंटीबायोटिक आपकी जुकाम और सर्दी की बीमारी को कम नहीं करती। बल्कि बीमारी को ठीक करने के बजाय एंटीबायोटिक्स लेने से वायरस से होने वाली बीमारियों में भी ले लेते हैं, जिससे वैजाइनल यीस्ट जैसे सुपरबग्स से सुपरइन्फैक्शन होने का खतरा बढ़ जाता है। जबकि बिना जरूरत के एंटीबायोटिक लेने वालों में 1000 में से एक रोगी को गंभीर ड्रग रिएक्शन की वजह से अस्पताल में एडमिट होना पड़ता है।

 इसे भी पढ़ें- सर्दी-जुकाम में कम करें नेज़ल स्प्रे का प्रयोग, जानें साइड-इफेक्‍ट

भारतीयों को एंटीबायोटिक्स का नशा

भारत में हर छोटी-छोटी बीमारी में एंटीबायोटिक्स लेने का कारण एक तरह से डॉक्टर भी हैं। रिपोर्ट के अनुसार पिछले पांच सालों में भारत में एंटीबायोटिक का इस्तेमाल 6 गुना बढ़ गया है। सर्वे के दौरान लोगों ने बताया कि उन्हें एंटीबायोटिक लेने की सलाह उनके डॉक्टर्स और नर्सों ने दी थी। इन आंकड़ों में सब से ऊंचे दर्जे की एंटीबायोटिक कार्बापेनीम का इस्तेमाल भी शामिल है। जबकि बेहद गंभीर मामलों में ही अंतिम विकल्प के तौर पर कार्बोपेनीम का इस्तेमाल किया जाता है। डब्लू एच ओ के सर्वे में बात सामने आई है कि कई मामलों में डॉक्टर्स भी अपने मरी़जों को एंटीबायोटिक लेने की सलाह दे देते हैं।

 

एंटीबायोटिक्स से होने वाली मौतों की बढ़ रही संख्या

एंटीबायोटिक्स से होने वाली मौतों की संख्या इबोला से मरने वाले लोगों की संख्या से भी अधिक है। सर्वे की माने तो हर साल दुनिया भर में 7 लाख लोग ऐसे इन्फेक्शंस से मर रहे हैं, जिन पर कोई एंटीबायोटिक असर नहीं करती क्योंकि एंटीबायोटिक के इस्तेमाल की आदत उन लोगों के शरीर को पहले से हो गई थी। ऐसे में वैज्ञानिक एंटीबायोटिक्स की एक नई क्लास तलाश रहे हैं। एक पोस्ट-एंटीबायोटिक सर्वनाश हमारे दरवाजे पर दस्तक दे रहा है।

जबकि इन एंटीबायोटिक को 10 साल पहले ही बैन कर देना चाहिये था। अधिक जरूरत होने पर ही इन एंटीबायोटिक का यूज़ करना चाहिए था। इस स्थिति से बचने के लिए जरूरी है कि इंसान के इम्यूनिटी सिस्टम को मजबूत बनाया जाए। क्योंकि शरीर की इम्यून सिस्टम ही बीमारियों से सबसे पहले रक्षा करती है। साथ ही एंटीबायोटिक के इस्तेमाल से जुड़े नियम व कानूनों को बेहतर बनाने की जरूरत है।

 

Read more articles on Cold and flu in hindi.

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES1 Vote 1399 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर