एचपीवी टीका लेने के बाद भी रह जाता है संक्रमित होने का खतरा

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jun 06, 2015
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites


  • एचपीवी टीकाकरण के बाद भी संभव है सर्वाइकल कैंसर का खतरा।
  • जनन अंगो के संक्रमण से बचाने के लिए होता है एचपीवी टीकाकरण ।
  • टीकाकरण पहले से संक्रमित बीमारियों से बचाव करने में असमर्थ ।
  • महिलाओं को 9 से 16 वर्ष के बीच एचपीवी टीकाकरण ले लेना चाहिए।

अगर आप ये सोचती है कि आपने बचपन में हृयूमन पैपीलोमा वायरस (एचपीवी) के टीकाकरण से सर्वाइकल कैंसर का खतरा टल गया है तो ये गलत है। हाल ही में अमेरिकन एसोसिएशन फॉर कैंसर रिसर्च की एक शोध के अनुसार जिन महिलाओं ने बचपन में एचपीवी का टीकाकरण कराया है उनमें में सर्वाइकल कैंसर का खतरा है। एचपीवी का टीकाकरण महिलाओं के 9 से 16 वर्ष

 

cervical Cancer in Hindi

सर्वाइकल कैंसर का खतरा

सर्वाइकल कैंसर होने का कारण ह्यूंमन पैपीलोमा वाइरस है। शारीरिक संपर्क में आने पर 'एचपीवी' किसी महिला को संक्रमित कर सकता है। जनन अंगों के त्वचा के संपर्क में आने पर भी यह वाइरस संक्रमित कर सकता है। अगर शारीरिक संपर्क न भी किया जाए तो भी प्रजनन अंगों के बाहरी स्पर्श से भी महिलाओं में इस वाइरस का संक्रमण संभव है। हालांकि शरीर का रोग-प्रतिरोधक तंत्र इस रोग के वाइरस के संक्रमण को बेअसर करने के लिए 6 से 18 महीने तक संघर्ष करता है। बावजूद इसके अगर संक्रमण बरकरार रहता है तो यह कैंसर में तब्दील हो सकता है। एचपीवी संक्रमण के होने और इसके कैंसर में तब्दील होने में सामान्यत: 20 साल या इससे अधिक का वक्त लग जाता है। इसलिए 35 से 50 साल की उम्र वाली महिलाओं में इस कैंसर के होने का जोखिम ज्यादा होता है।

HPV in Hindi

एचपीवी टीकाकरण सफल नहीं

इंग्लैंड में एक सर्वेक्षण में पाया गया कि 20 से 29 वर्ष की 10 में से एक महिला में एचपीवी संक्रमण है। इन महिलाओं को वैक्सीन का फायदा नहीं होगा क्योंकि संक्रमण हो जाने के बाद वैक्सीन सर्वाइकल कैंसर से बचने में मदद नहीं करती। इस तरह उनमें इस बीमारी से बचने की झूठी सुरक्षा भावना जागेगी और वे खुद को वैक्सीन से सुरक्षित मान कर सर्वाइकल कैंसर की जांच के लिए होने वाली नियमित पैप-स्मीयर जांच भी नहीं करवाएंगी। नतीजा वैक्सीन के पहले के समय से ज्यादा भयावह होगा। हालांकि सफल वैक्सिनेशन के बाद भी विशेषज्ञ रूटीन जांच के महत्व को कम नहीं आंकते।

कुछ महिलाओं में इंजेक्शन लगाये जाने वाले भाग पर सूजन व दर्द संभव है और वहीं कुछ महिलाओं में बुखार भी आ सकता है। इसके अलावा इस वैक्सीन के कोई साइड इफेक्ट नहीं हैं।

ImageCourtesy@gettyimages

Read More article on Cancer in Hindi

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES1166 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर