बैक्‍टीरिया रोधी साबुन से सेहत को होता है खतरा

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Aug 22, 2014
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

hand wash in hindi बैक्टीरिया रोधी यानी एंटीबैक्टीरियल साबुन को आप सुरक्षित समझकर इस्‍तेमाल करते हैं। लेकिन एक हालिया अध्‍ययन में यह बात सामने आयी है कि बैक्टरीरिया रोधी साबुन में मौजूद कुछ रसायन गर्भ में पल रहे शिशुओं और नवजातों के शारीरिक विकास पर प्रतिकूल प्रभाव डालते हैं।



'ट्राइक्लोसन' नामक एंटीबैक्टीरियल एजेंट साबुन, कॉस्मेटिक्स, कुछ ब्रांड के टूथपेस्ट और कील मुहांसे खत्म करने वाले क्रीम समेत हजारों तरह के उपभोक्ता उत्पादों में पाया जाता है। ट्राइक्लोसन के प्रभाव की समीक्षा फिलहाल यूएस फूड एंड ड्रग एसोसिएशन (एफडीए) के अधीन है। शोधकर्ताओं के मुताबिक ट्राइक्लोसन स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं पैदा कर सकता है।

 

अमेरिका के सैन फ्रांसिस्को स्थित यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया में मेडिसिन के प्रोफेसर पाउल ब्लैंक का कहना है कि रोगाणुरोधी साबुन इस्तेमाल करने में कई जोखिम हो सकते हैं। उन्‍होंने कहा कि हमारे अध्ययन के दौरान यह बात सामने आई है कि लोग अपने कार्यस्थल और घर पर इस रसायन का अवशोषण करते हैं। ब्लैंक का कहना है कि आपको बिना ट्राइक्लोसन वाले साबुन इस्तेमाल करने चाहिये।

 

ब्लैंक कहते हैं कि यदि कोई साबुन जिसमें ट्राइक्लोसन न हो, उसका इस्तेमाल बेहतर है. अगर न हो, तो सादा साबुन और पानी बेहतर विकल्प है। यह अध्ययन पत्रिका 'ऑक्यूपेशनल एंड इन्वॉयरमेंटल मेडिसिन' में प्रकाशित हुआ है।

 

Image Courtesy- getty images

Source- ustoday

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES1 Vote 657 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर