धूम्रपान छोड़ने के लिए रोज करें ये 4 योगासन, जानें इन्हें करने का तरीका

अगर आप भी अपनी धूम्रपान की आदत को छोड़ना चाहते हैं, तो नियमित रूप से इन योगासनों को करना शुरू कर दें। इससे धीरे-धीरे आपकी यह आदत छूट सकती है।

Anju Rawat
Written by: Anju RawatPublished at: Jun 04, 2021
धूम्रपान छोड़ने के लिए रोज करें ये 4 योगासन, जानें इन्हें करने का तरीका

धूम्रपान सेहत के लिए काफी हानिकारक होता है (Smoking is Harmful to health)। इसे करने से शरीर में कई तरह के रोग जन्म ले लेते हैं। धूम्रपान फेफड़ों को नुकसान (Lung Demage) पहुंचाने के साथ ही कैंसर (Cancer) और हृदय रोगों (Heart Disease) का कारण भी बन सकता है। देश में लाखों लोग सिगरेट पीने से होने वाले रोगों की वजह से अपनी जान गंवाते हैं। अगर आपको भी धूम्रपान करने की लत हैं, तो इस आदत को आपको तुरंत छोड़ देना चाहिए (Quit Smoking)। इस लत को छोड़ने के लिए आप चाहें तो कुछ योगासनों (Yoga Asanas to Quit Smoking) का भी सहारा ले सकते हैं। नियमित रूप से योगासन करने से धूम्रपान की आदत को बहुत ही आसानी से छोड़ा जा सकता है। फिटनेस कोच हस्ती सिंह से जानें धूम्रपान छोड़ने के लिए कौन-से योगासन किए जा सकते हैं। 

फिटनेस कोच हस्ती सिंह बताते हैं कि धूम्रपान एक धीमा जहर है, जो इंसान को धीरे-धीरे मारता है। कई लोग तनाव और चिंता (Stress and Anxiety) को कम करने के लिए धूम्रपान का सेवन करते हैं, लेकिन इसका असर आपके भावनात्मक और मानसिक स्वास्थ्य (Mental Health) पर पड़ सकता है। धूम्रपान गंभीर श्वसन संबंधी समस्याओं (Respiratory Problems) का कारण बन सकता है। कई लोग इस आदत को छोड़ने की कोशिश करते हैं, लेकिन वे इसे छोड़ने में कामयाब नहीं हो पाते हैं। ऐसे में अगर आप इन योगासनों को करेंगे, तो आपको धूम्रपान की लत से छुटकारा मिल सकता है।

yoga

1. कपालभाति प्राणायाम (Kapalbhati Pranayama)

कपालभाति प्राणायाम एक काफी फायदेमंद योग है। यह रक्त प्रवाह (Blood Circulation) को बेहतर करने में मदद करता है। कपालभाति से मन और दिमाग शांत होता है। इसे नियमित रूप से करने से दिमागी शक्ति बढ़ती है। यह हमारे सेंट्रल नर्वस सिस्टम (Central Nervous System) को फिर से जीवंत करने में मदद करता है। सेंट्रल नर्वस सिस्टम के बेहतर होने पर शरीर में ऊर्जा का स्तर बढ़ता है, जिससे धूम्रपान करने के इच्छा कम होती है।

इसे भी पढ़ें - अपने दिल को स्वस्थ रखने के लिए रोज करें ये 4 योग मुद्राएं

  • - इस आसन को करने के लिए आप किसी शांत जगह पर बैठ जाएं।
  • -  अपनी कमर और रीढ़ की हड्डी को एकदम सीधा रखें।
  • -  अब लंबी गहरी सांस लें।
  • - पेट में दबाव महसूस करते हुए बल के साथ सांस छोड़ें।
  • - इस प्रक्रिया को आप 10-15 मिनट तक कर सकते हैं।
  • - कपालभाती प्राणायाम को खाली पेट (Empty Stomach) करने से ज्यादा फायदे मिलते हैं। 
yoga

2. बालासन (Balasan)

बालासन यानी एक बच्चे की मुद्रा है। इसे नियमित रूप से करने से मन शांत होता है। बालासन दिमाग को भी शांत करने में मदद करता है। शांत मन और दिमाग (Mind) होने पर आप धूम्रपान को छोड़ने का सोच सकते हैं। धीरे-धीरे आप अपनी इस आदत को छोड़ने में कामयाब हो सकते हैं। इसके लिए आपको नियमित रूप से इस आसन को करना होगा।

  • - बालासन को करने के लिए सबसे पहले किसी शांत जगह पर एक मैठ बिछा लें।
  • - इसके बाद छुटनों को मोड़कर बैठ जाएं।
  • - अपने नितंबों को एड़ी पर रखें और आरामदायक अवस्था में बैठें।
  • - लंबी गहरी सांस लें। अब अपने दोनों हाथों को सिर से ऊपर ले जाएं।
  • - अब धीरे-धीरे सांस छोड़ते हुए हाथों को आगे की तरफ लाएं।
  • - अपने सिर को जमीन पर टिकाएं।
  • - कुछ देर इसी अवस्था में रहें। फिर सामान्य अवस्था में आ जाएं।
  • - आप इस प्रक्रिया को 3-5 बार दोहरा सकते हैं।
  • - अगर आपके पीठ या घुटनों में दर्द हो तो इस आसन को करने से बचें।
yoa

3. भुजंगासन (Bhujangasana)

भुजंगासन को कोबरा पोज (Cobra Pose) भी कहा जाता है। यह योगासन श्वसन को बढ़ावा देने में मदद करता है और तनाव (Stress) को कम करता है। इससे सीने का विकास होता है। साथ ही भुजंगासन बेहतर श्वसन में भी मदद करता है। यह थकान को कम करने, रक्त के प्रवाह (Blood Circulation) को व्यवस्थित करने और तनाव को कम करने में फायदेमंद होता है। अगर आपको धूम्रपान की लत हैं, तो इस नियमित रूप से करने पर आपकी ये आदत छूट सकती है। 

इसे भी पढ़ें - बच्चों, बड़ों और बुजुर्गों के लिए उनकी उम्र के अनुसार फायदेमंद योगासन

  • - इस आसन को करने के लिए सबसे पहले एक मैट पर पेट के बल लेट जाएं।
  • - अपने दोनों हाथों को फर्श पर रखें।
  • - अपनी दोनों हथेलियों को छाती के पास रखें और अपने ऊपरी शरीर को पीछे की तरफ उठाएं।
  • - लंबी गहरी सांस लेते रहें।
  • - अब अपनी प्रारंभिक अवस्था में आ जाएं।
  • - इस प्रक्रिया को भी आप 3-5 बार दोहरा सकते हैं। आप चाहें तो धीरे-धीरे इसकी संख्या बढ़ा भी सकते हैं। 
yoga

4. सर्वांगासन (Sarvangasana)

सर्वांगासन धूम्रपान करने की इच्छा को कम करने में मदद करता है। इससे शरीर में रक्त का प्रवाह बेहतर होता है। साथ ही यह तनाव का कम करने और अवसाद (Stress and Depression) को दूर करने में भी मददगार होता है। आप भी अपने धूम्रपान की लत को छुड़ाने (Quit Smoking) के लिए इस योगासन का सहारा ले सकते हैं।

  • - इस आसन को करने के लिए सबसे पहले पीठ के बल लेट जाएं।
  • - अपने दोनों पैरों को आपस में जोड़कर रखें। इनके बीच दूरी नहीं होनी चाहिए।
  • - अब धीरे-धीरे अपने पैरों को ऊपर की तरफ ले जाएं। इस दौरान 90 डिग्री का कोण बनना चाहिए। 
  • - अपनी दोनों कोहनियों को चटाई पर झुकाकर अपनी हथेलियों से पीठ को सहारा दें।
  • - इस अवस्था में कुछ सेकेंड रुकने के बाद आप प्रारंभिक अवस्था में आ सकते हैं।
  • - इस प्रक्रिया को 3-5 बार दोहराएं। आप चाहें तो अपनी क्षमातानुसार इसे बढ़ा भी सकते हैं।
  • - नियमित रूप से इस आसन को करने से आपको इस लत को छोड़ने में मदद मिल सकती है।

अगर आपको भी धूम्रपान करने की गलत लत हैं और इसे छोड़ना चाहते हैं, तो इन योगासनों को नियमित रूप से करना शुरू कर दें। इनकी मदद से आपको धीरे-धीरे अपनी इस आदत से छुटकारा मिल सकता है। शुरुआत में इन योगासनों को किसी एक्सपर्ट की देखरेख में ही करें। इसके अलावा अगर आपको कमर, पीठ, पैरों या हाथों में दर्द रहता है, तो आपको इन आसनों को एक्सपर्ट की सलाह पर ही करना चाहिए। अगर आपका हाल ही में ऑपरेशन हुआ है, आप हर्निया के मरीज हैं, तो भी अपने मन से इन योगासनों को करने से बचें। गर्भवती महिलाओं को भी बिना एक्सपर्ट की सलाह के इन्हें नहीं करना चाहिए। 

Read More Articles on Yoga in Hindi

Disclaimer