डिलीवरी के बाद बढ़ गई है कमर दर्द की समस्या? राहत पाने के लिए रोजाना करें ये 4 योगासन

महिलाओं काे डिलीवरी के बाद कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है। कमर दर्द इन्हीं में से एक है। लेकिन आप कुछ याेगासन करके इस दर्द से राहत पा सकती हैं।

Anju Rawat
Written by: Anju RawatPublished at: Aug 24, 2021Updated at: Aug 24, 2021
डिलीवरी के बाद बढ़ गई है कमर दर्द की समस्या? राहत पाने के लिए रोजाना करें ये 4 योगासन

क्या आप भी डिलीवरी के बाद कमर दर्द या बैक पेन से परेशान है? मां बनना हर महिला का सपना हाेता है, लेकिन इस सपने काे पूरा करने के दौरान और बाद में महिलाओं काे कई स्वास्थ्य परेशानियाें का सामना करना पड़ता है। यानी प्रेगनेंसी के दौरान और डिलीवरी के बाद महिलाओं काे कई परेशानियाें से जूझना पड़ता है। इन्हीं में से एक है कमर दर्द। वैसे ताे प्रेगनेंसी में भी कमर दर्द परेशान करता है, लेकिन डिलीवरी के बाद यह बढ़ने लगता है। डिलीवरी के बाद हर महिला काे कमर दर्द से परेशान हाेना पड़ता है, इससे राहत पाने के लिए वे अकसर ही पेन किलर लेती है। पेन किलर कुछ समय के लिए राहत देता है, लेकिन फिर आपकाे दर्द महसूस हाे सकता है। ऐसे में आपकाे नियमित रूप से कुछ याेगासन करने चाहिए। इन याेगासनाें की मदद से आप अपने कमर दर्द से छुटकारा पा सकती हैं। याेगासन करने से आप खुद काे एकदम फिट रख सकती हैं। चलिए जानते हैं, इन याेगासनाें के बारे में-  

hip[p opening

(Image Source : yogapractice.com)

1. हिप ओपनिंग 

हिप ओपनिंग पाेज पीठ, कमर और पूरे लाेअर बॉडी के दर्द से राहत दिलाने में मदद करता है। अगर आप डिलीवरी के बाद कमर और पीठ दर्द से परेशान हैं, ताे हिप ओपनिंग पाेज आपके लिए पेन रिलीवर का काम कर सकता है। नियमित रूप से हिप ओपनिंग का अभ्यास करने से पीठ की स्ट्रेंथ बढ़ती है। साथ ही यह रक्त प्रवाह या ब्लड सर्कुलेशन काे भी बेहतर बनाता है। अगर आप साइटिका के मरीज हैं, ताे भी यह फायदेमंद हाे सकता है। इतना ही नहीं यह जांघाें, बैली, हिप्स और कमर का फैट भी बर्न करता है। इसे करने से पीठ, कमर की अकड़न कम हाेती है।

इसे भी पढ़ें - नॉर्मल डिलीवरी के बाद घटाना है वजन, तो रेगुलर करें ये 4 एक्सरसाइज

हिप ओपनिंग करने का तरीका

  • इस पाेज काे करने के लिए सबसे पहले एक याेगा मैट बिछा लें।
  • इस पर पैराें काे एकदम सीधा करके बैठ जाएं।
  • अपने बाएं पैर काे सीधा रखें और दाएं पैर काे घुटने से माेड़ लें।
  • इसके बाद दाेनाें पैराें के बीच थाेड़ी दूरी बना लें।
  • अब आप अपने दाेनाें हाथाें से नमस्ते की मुद्रा बना लें।
  • आंखाें से बाएं पैर के अंगूठे काे देखें। इस अवस्था में कुछ सेकेंड रुकने के बाद सामान्य अवस्था में आ जाएं।
  • आप इस प्रक्रिया काे 3-5 बार दाेहरा सकते हैं।
malasana
(Image Source : fitsri.com)

2. मलासन

मलासन दाे शब्दाें मल और आसन से मिलकर बना है। मल निकालते वक्त की जिस अवस्था में बैठा जाता है, उसे ही मलासन कहा जाता है। मलासन में बैठना पीठ, पेट और कमर के लिए काफी फायदेमंद हाेता है। अगर आप डिलीवरी के बाद के कमर दर्द से परेशान हैं, ताे मलासन का नियमित अभ्यास कर सकते हैं। इसके साथ ही यह घुटनाें, पीठ, कमर की मांसपेशियाें काे आराम दिलता है, जिससे तनाव कम हाेता है। 

मलासन करने का तरीका

  • इस आसन काे करने के लिए सबसे पहले आप एक याेगा मैट पर बैठें।
  • अपने दाेनाें घुटनाें काे माेड़कर बैठ जाएं। इस अवस्था में मल त्याग करने वाली हाेती है।
  • अब अपने दाएं हाथ की कांख काे दाएं और बाएं हाथ की कांख काे बाएं घुटने पर रखें। इसके बाद दाेनाें हथेलियाें काे मिला लें।
  • इस अवस्था में कुछ देर तक बनें रहने के बाद सामान्य अवस्था में आ जाएं।
  • इस याेगासन काे नियमित रूप से करने पर आपकाे कमर दर्द में राहत मिल सकती है।
hanumasana
(Image Source : yogataket.com)

3. हनुमानासन

अगर आप डिलीवरी के बाद कमर और पीठ दर्द से परेशान हैं, ताे इसके लिए नियमित रूप से हनुमानासन किया जा सकता है। इसके अभ्यास से आपकी समस्या में काफी हद तक आराम मिलेगा। यह याेगासन लोअर बैक, हिप्स और टांगाें काे स्ट्रेच करता है। साथ ही रीढ़ की हड्डी काे भी सीधा करता है। हैमस्ट्रिंग और जांघाें के दर्द से में आराम दिलाता है। जानें हनुमानासन की विधि-

इसे भी पढ़ें - डिलीवरी के बाद नई मांओं के लिए बहुत फायदेमंद है इन 4 ड्रिंक्स का सेवन, जानें इससे मिलने वाले स्वास्थ्य लाभ

हनुमानासन करने का तरीका

  • हनुमानासन करने के लिए सबसे पहले किसी याेगा मैट पर घुटनाें के बल बैठ जाएं।
  • दाेनाें घुटनाें के बीच थाेड़ी दूरी बनाकर रखें।
  • अब लंबी गहरी सांस लें और अपने दाएं पैर काे आगे करें। इस दौरान दाएं पैर की एड़ी का बाहरी हिस्सा फर्श काे छुएगा।
  • इसके बाद सांस छाेड़ते हुए अपने धड़ काे आगे की तरफ झुकाएं। अंगुलियाें से फर्श काे छूने की काेशिश करें।
  • फिर अपने बाएं घुटने काे पीछे की तरफ ले जाएं। इस दौरान पैर के सामने का हिस्सा और घुटना फर्श पर नहीं लगना चाहिए।
  • अब अपने दाेनाें हाथाें काे सिर के ऊपर ले जाएं। दाेनाें हथेलियाें काे जाेड़कर नमस्कार की मुद्रा में आ जाएं।
  • कुछ देर इस अवस्था में रहने के बाद सामान्य अवस्था में आ जाएं।

4. फलकासन

फलकासन करने से भी आप डिलीवरी के बाद के कमर दर्द से राहत पा सकते हैं। इसके नियमित अभ्यास से मसल्स मजबूत बनती हैं। यह कंधे, पीठ और कमर काे मजबूत बनाने में सहायक हाेता है। यह पीठ की मांसपेशियाें काे मजबूत और टाेन करता है। फलकासन करने से आपकी शारीरिक ताकत बढ़ती है। इतना ही नहीं इसे राेजाना करने से मसल्स में जमा फैट भी कम हाेने लगता है। एकाग्रता बढ़ाने के लिए फलकासन काे सबसे बेहतर याेगासन माना जाता है।

फलकासन करने का तरीका

  • फलकासन करने के लिए सबसे पहले एक याेगा मैट पर पीठ के बल लेट जाएं।
  • दाेनाें पैराें के बीच थाेड़ी दूरी बनाकर रखें।
  • इसके बाद अपने हाथाें काे काेहनी से माेड़े लें।
  • दाेनाें हथेलियाें काे आपस में लॉक कर लें।
  • अब धीरे-धीरे सांस लेते हुए हाथाें पर जाेर देते हुए अपने पूरे शरीर काे ऊपर उठाने की काेशिश करें।
  • इस दौरान अपने पैराें की उंगुलियाें काे जमीन पर ही रखें और तलवाें काे उठा लें।
  • कुछ सेकेंड इस अवस्था में रहने के बाद सामान्य अवस्था में आ जाएं।

अगर आप भी डिलीवरी के बाद से ही पीठ और कमर दर्द से परेशान हैं, ताे ये चार याेगासन आपके लिए बेहद फायदेमंद साबित हाे सकते हैं। लेकिन शुरुआत में इनकाे किसी याेगा एक्सपर्ट या याेग गुरु की सलाह और देखरेख में ही करें। 

Read More Articles on Yoga in Hindi

Disclaimer