सेहत के लिए क्यों हेल्दी माने जाते हैं साउथ इंडियन खाने? डायटीशियन से जानें साउथ इंडियन डिशेज के खास फायदे

दक्षिण भारत में खाए जाने वाला खाना टेस्टी होने के साथ आपको अच्छी सेहत दे सकता है।

 
Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurPublished at: Jan 06, 2021Updated at: Jan 06, 2021
सेहत के लिए क्यों हेल्दी माने जाते हैं साउथ इंडियन खाने? डायटीशियन से जानें साउथ इंडियन डिशेज के खास फायदे

जब भी हमें कुछ हल्‍का और हेल्‍दी खाना होता है तो हम साउथ इंड‍ियन खाने को याद करते हैं। अगर आप अब तक इस बात से अंजान थे तो आज हम आपको बतायेंगे दक्षिण भारत में बनने वाली 5 ऐसी ड‍िशेज़ के फायदे जिन्‍हें जानकर आप इन्‍हें अपनी डाइट में शाम‍िल करना चाहेंगे। हमने बात की लखनऊ के वेलनेस डाइट क्‍लीन‍िक की डाइटीश‍ियन डॉ स्‍म‍िता सिंह और समझा क‍ि कैसे साउथ की ड‍िशेज़ हमारी सेहत को बेहतर कर सकती हैं।

south food is good for health

साउथ इंड‍ियन खाने में खट्टास होती है जो क‍ि हमारे पाचन तंत्र के ल‍िये अच्‍छी मानी जाती है। इसके अलावा खड़े मसालों की जगह हल्‍के मसाले इस्‍तेमाल क‍िये जाते हैं ज‍िसको खाकर आपको भारीपन महसूस नहीं होता। आसानी से पच जाने वाला साउथ इंड‍ियन खाना टेस्‍टी भी है और हेल्‍दी भी। 

1.नारियल चटनी फायदे (Benefits of Coconut Chutney)

नार‍ियल की चटनी साउथ इंड‍ियन थाली का अहम ह‍िस्‍सा है। सांभर-वड़ा हो या डोसा या इडली सभी के साथ नार‍ियल की चटनी परोसी जाती है। नार‍ियल में फैट कटर गुण होते हैं। इसे खाने से वजन कम होता है। इसके साथ ही ये द‍िल को भी स्‍वस्‍थ्‍य रखती है। नार‍ियल की चटनी खाने से आपके शरीर की रोग प्रत‍िरोधक क्षमता भी बढ़ती है। नार‍ियल शरीर में थायरॉइड फंक्‍शन ठीक रखता है। ज‍िन्‍हें थायरॉइड है वो नार‍ियल की चटनी खा सकते हैं। 

2.सांभर के फायदे (Health benefits of sambhar)

सांभर एक तरह की साउथ इंड‍ियन करी है ज‍िसे डोसे या इडली-वड़े के साथ पीते हैं। इसे दाल के साथ तैयार क‍िया जाता है इसल‍िये इसमें प्रोटीन की अच्‍छी मात्रा तो होती ही है साथ ही इसमें सारी सब्‍ज‍ियों का म‍िश्रण होता है तो ये हर तरह से एक हेल्‍दी ऑप्‍शन है। आप लंच में एक कटोरी सांभर भी पी सकते हैं। ये अपने आप में एक मील है। सांभर में कार्बोहाइड्रेट की मात्रा बहुत कम पाई जाती है। इसे मधुमेह से पीड़ित मरीज भी पी सकते हैं।

इसे भी पढ़ें- स्वादिष्ट के साथ सेहतमंद भी है इडली, मिलते हैं ये 5 फायदे

3.अप्पम के फायदे (Benefits of eating appam)

appam is healthy

अप्‍पम (Appam) को दक्ष‍िण भारत में बहुत चाव से खाया जाता है। इसका बैटर डोसे की तरह द‍िखता है पर ये पतला और कुरकुरा बनता है। टेस्‍ट के साथ-साथ इसके हेल्‍थ बेनीफ‍िट्स भी हैं। अप्‍पम में उड़द की दाल म‍िलाई जाती है ज‍िससे आयरन की कमी दूर होती है। ज‍िन लोगों को खून की कमी है उनके ल‍िये ये ड‍िश अच्‍छी रहेगी। अगर आपको गेहूं की रोटी नुकसान करती है तो आप सब्‍जी के साथ अप्‍पे बनाकर खा सकते हैं। ये लाइट रहता है और इससे वजन भी नहीं बढ़ता। 

4.रसम के फायदे (Rasam is a healthy soup)

इन द‍िनों हम ऐसी चीज़ों का सेवन कर रहे हैं ज‍िससे इम्‍यून‍िटी बढ़े। इम्‍यून‍िटी की बात हो तो हमें रसम को नहीं भूलना चाह‍िये। ये साउथ इंड‍ियन सूप है। इससे पाचन तंत्र अच्‍छा रहता है और रोग प्रत‍िरोधक क्षमता बढ़ती है। रसम में व‍िटाम‍िन ए, बी3, ज‍िंक, कॉपर, आयरन की अच्‍छी मात्रा पाई जाती है। रसम को बनाने के ल‍िये फाइबर से भरपूर इमली का इस्‍तेमाल होता है। ज‍िन लोगों को कब्‍ज़ की परेशानी है उनके ल‍िये ये सूप फायदेमंद है।  

इसे भी पढ़ें- सेहत की थाली: रेस्तरां से ज्यादा बेहतर है घर पर बना हुआ डोसा, जानें कैसे बनाया जाए पौष्टिक डोसा

5.रवा केसरी (Rava Kesari)

rava kesari is a healthy sweet

ये दक्षिण भारत में खाई जाने वाली एक स्‍वीट ड‍िश है। इसे त्‍यौहारों पर बनाया जाता है। टेस्‍टी होने के साथ-साथ ये सेहत के ल‍िये अच्‍छी होती है। इसे रवा से तैयार क‍िया जाता है। इसे खाने से आपके शरीर में पूरे द‍िन एनर्जी रहेगी। रवा में मौजूद व‍िटाम‍िन बी6 रेड ब्‍लड सेल्‍स बनाता है और मानस‍िक स्‍वास्‍थ्‍य सुधारने में मदद करता है। इस स्‍वीट ड‍िश में बहुत हल्‍की म‍िठास डाली जाती है ज‍िससे वजन नहीं बढ़ता। रवा केसरी को चीनी की जगह गुड़ डालकर बनाया जाये तो इसे डायब‍िटीज मरीज भी खा सकते हैं। रवा खाने से आयरन की कमी भी दूर होती है।  

दक्ष‍िण भारत की ये हेल्‍दी ड‍िशेज़ आपके स्‍वाद के साथ-साथ सेहत को भी अच्‍छा कर देगी। इनके गुणों को जानने के बाद चखना न भूलें। 

Read more on Healthy Diet in Hindi

Disclaimer