पैर के तलवों में पसीना क्यों आता है? जानें 5 कारण

Why Does My Foot Sole Sweat in Hindi: अगर आपके पैर के तलवों में पसीना आता है, तो इसके कुछ कारण जिम्मेदार हो सकते हैं।

Anju Rawat
Written by: Anju RawatUpdated at: Nov 14, 2022 11:43 IST
पैर के तलवों में पसीना क्यों आता है? जानें 5 कारण

Causes of Sweating in Soles in Hindi: पैरों के तलवों का स्वस्थ होना भी बहुत जरूरी होता है। क्योंकि जब पैरों के तलवों में कोई दिक्कत आती है, तो व्यक्ति को कई दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। पैरों के तलवों से जुड़ी कई समस्याएं हो सकती हैं। इसमें तलवों में जलन, दर्द या फिर पसीना आना हो सकता है। इस लेख में आप पैरों के तलवों में पसीना आने के कारणों के बारे में विस्तार से जानेंगे। अगर आपको भी पैरों के तलवों में जलन होता है, तो यह कई कारणों की वजह से हो सकता है। आपको बता दें कि शरीर के अंगों में पसीना आने को मेडिकल टर्म में हाइपरहाइड्रोसिस कहा जाता है। इसमें शरीर में अत्यधिक पसीना आता है, यह गर्मी से संबंधित पसीना नहीं होता है।  इस स्थिति में आपको तलवों समेत हथेलियों या अंडरआर्म्स में भी पसीना आ सकता है। तो चलिए, जानते हैं पैर के तलवों में पसीना क्यों आता है? या फिर पैर के तलवों में पसीना आने के कारण क्या हैं? (Why Does My Foot Sole Sweat in Hindi)

पैर के तलवों में पसीना क्यों आता है?- Causes of Sweating in Soles in Hindi 

कुछ मामलों में पैरों के तलवों में पसीना आना किसी कारण की वजह से नहीं होता है। लेकिन कई मामलों में पैर के तलवों में पसीना कुछ कारणों की वजह से होता है। आपको बता दें कि पैरों के तलवों में पसीना आने से शरीर का तापमान नियंत्रण में रहता है। लेकिन अगर किसी व्यक्ति को पैरों के तलवों में पसीना आ रहा है, तो इसका मौसम से कोई संबंध नहीं होता है। सर्दियों में भी हथेलियों और तलवों से पसीना आ सकता है।

1. डायबिटीज

डायबिटीज यानी मधुमेह पैर के तलवों में पसीना आने का एक मुख्य कारण हो सकता है। क्योंकि डायबिटीज में ब्लड शुगर का स्तर बढ़ जाता है। इस वजह से व्यक्ति के नसों को भी नुकसान पहुंचता है। डायबिटीज रोगियों को तलवों में पसीना आने की दिक्कत हो सकती है। इसलिए अगर आपको डायबिटीज है, तो पैरों के तलवों में पसीना आना आपने के लिए आम हो सकता है।

इसे भी पढ़ें- रोज रात को पैरों के तलवों की शहद से करें मालिश, मिलेंगे कई फायदे

sweating in soles

2. मेनोपॉज

मेनोपॉज वह अवस्था होती है, जिसमें महिलाओं को मासिक धर्म आना बंद हो जाते हैं। इस दौरान महिलाओं को कई तरह की स्वास्थ्य समस्याओं का सामना करना पड़ता है। पीरियड्स बंद होना, हॉट फ्लैशेज आदि मेनोपॉज के आम लक्षण होते हैं। इसके अलावा मेनोपॉज होने पर महिलाओं को पसीना भी अधिक आ सकता है। यानी पैर के तलवों में पसीना मेनोपॉज के कारण भी आ सकता है। इसलिए इसे सामान्य माना जा सकता है।

3. थायरॉइड

थायरॉइड की समस्या तब होती है, जब थायरॉइड ग्रंथि शरीर में हार्मोन्स का उत्पादन सही तरीके से नहीं कर पाती है। इस स्थिति में थायरॉइड ग्रंथि हार्मोन का कम या अधिक उत्पादन कर सकती है। थायरॉइड होने पर हार्मोन असंतुलित हो जाते हैं। वैसे तो थायरॉइड महिलाओं और पुरुषों दोनों को हो सकता है। लेकिन महिलाओं में थायरॉइड होने की संभावना अधिक होती है।

4. संक्रमण

संक्रमण भी पैरों के तलवों में आने वाले पसीना का एक मुख्य कारण हो सकता है। अगर आपको कोई इंफेक्शन या संक्रमण है, तो आपको तलवों में पसीना आ सकता है। यह संक्रमण अलग-अलग प्रकार के हो सकते हैं। लेकिन सभी प्रकार के संक्रमण तलवों में पसीना आने का कारण नहीं बनते हैं। 

इसे भी पढ़ें- पैर के तलवों की मालिश करने से मिलते हैं ये 5 फायदे, जानें आयुर्वेद के अनुसार कौन से तेल से करें मालिश

5. हृदय रोग

कई मामलों में हृदय रोग की वजह से भी पैरों के तलवों से पसीना आ सकता है। लेकिन अगर आपको बार-बार सीने में दर्द, सांस लेने में तकलीफ के साथ ही तलवों से पसीना आने की दिक्कत भी हो रही है, तो इस स्थिति को बिल्कुल भी नजरअंदाज न करें।

इनके अलावा बेचैनी, कुछ दवाइयां, फेफड़ों का रोग और स्ट्रोक भी पैरों के तलवों में आने वाले पसीने का कारण बन सकते हैं। तलवों में पसीना आना सामान्य नहीं होता है, इसलिए अगर आपको यह दिक्कत होती है तो इस स्थिति में डॉक्टर से कंसल्ट जरूर करें।

Talvo me Pasina Aane ke Karan: तलवों में पसीना आने के कई कारण हो सकते हैं। इसमें डायबिटीज, मेनोपॉज, हृदय रोग, फेफड़ों का रोग, संक्रमण आदि शामिल हो सकते हैं। अगर आपको तलवों में पसीना आए, तो आप इसे बिल्कुल भी नजरअंदाज न करें।

Disclaimer