World Hearing Day 2021: WHO के मोबाइल ऐप से फोन पर ही जांचें अपने कानों के सुनने की क्षमता, जानें तरीका

कानों की अच्‍छी सेहत के ल‍िए आपको उनकी जांच करवाते रहना चाह‍िए, आप फोन से भी कानों की जांच कर सकते हैं आइए जानते हैं तरीका 

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurPublished at: Mar 01, 2021
 World Hearing Day 2021: WHO के मोबाइल ऐप से फोन पर ही जांचें अपने कानों के सुनने की क्षमता, जानें तरीका

कानों की जांच कैसे करें? 3 मार्च को हर साल वर्ल्ड ह‍ियर‍िंग डे मनाया जाता है। रोजमर्रा के कामों में कान आपका क‍ितना साथ देते हैं। अगर आप इनका ख्‍याल नहीं रखेंगे या लापरवाही बरतेंगे तो आप सुनने की क्षमता खो सकते हैं। इससे बचने के ल‍िए आपको समय-समय पर कानों का चेकअप करवाना जरूरी है। कुछ लोगों में उम्र बढ़ने के साथ सुनने की क्षमता कम होने लगती है। ऐसे लोगों को ब‍िना शोर वाली जगह भी सामने बैठे व्‍यक्‍त‍ि की बात ठीक से समझ नहीं आती। अगर आपके साथ भी ऐसा होता है तो ये सुनने की क्षमता कम होने का एक लक्षण है। ऐसा होने पर कानों की जांच और सफाई करवा लेनी चाह‍िए। डॉक्‍टर के पास जाने से पहले आप घर पर स्‍मार्टफोन की मदद से अपने कानों के सुनने की क्षमता जांच सकते हैं। इसमें केवल 5 म‍िनट का समय लगता है। इसके ल‍िए आपको अपने फोन पर डब्‍ल्‍यूएचओ की मोबाइल एप यूज करनी होगी और ये आपके कानों के सुनने की क्षमता बता देगी। इस बारे में ज्‍यादा जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के केयर इंस्‍टिट्यूट ऑफ लाइफ साइंसेज की एमडी फ‍िजिश‍ियन डॉ सीमा यादव से बात की। 

app for hearing checkup

डब्‍ल्‍यूएचओ की एप से घर बैठे चेक करें अपने सुनने की क्षमता (Simple hearing test at home by WHO app)

सुनने की क्षमता खाने के कई कारण हो सकते हैं। ज्‍यादा आवाज वाली जगह पर काम करना, लाउड म्‍यूज‍िक सुनना, कान में मैल जमना, इंफेक्‍शन, ड्रग्‍स का सेवन या अनुवांश‍िक कारणों से सुनने की क्षमता कम होने लगती है। अगर समय रहते आपके कानों की जांच हो जाए तो आप समय से पहले बहरेपन का श‍िकार नहीं होंगे। लोग तेज आवाज में गाने सुनते हैं या ज्‍यादा शोर वाली जग‍ह काम करते हैं ज‍िससे उनके कान पर दबाव पड़ता है और सुनने की क्षमता कम होने लगती है इसल‍िए आपको ऐसी गलती करने से बचना चाहि‍ए। इसी समस्‍या को देखते हुए साल 2019 में डब्‍ल्‍यूएचओ ने hearWHO नाम की एप लांच की थी। इस एप की मदद से आप अपने स्‍मार्टफोन पर सुनने की क्षमता जान सकते हैं। इसको इस्‍तेमाल करने का तरीका बेहद आसान है। 

इसे भी पढ़ें- कान का दर्द होने पर हो सकती हैं ये 10 समस्या, जानें कारण और लक्षण

एप से कैसे करें कानों की जांच? (Method of using hearWHO app for hearing test)

  • 1. डब्‍ल्‍यूएचओ की एप hearWHO को इस्‍तेमाल करने का तरीका बेहद आसान है।
  • 2. आप गूगल प्‍ले स्‍टोर से पहले ये एप अपने फोन पर डाउनलोड कर लें।
  • 3. फोन पर हेडफोन या ईयरफोन कनेक्‍ट कर लें, इसके ब‍िना एप काम नहीं करती। 
  • 4. आपको एकदम शांत जगह पर बैठकर इसे इस्‍तेमाल करना है। 
  • 5. एप डाउनलोड होने के बाद एप में अपना जेंडर और अन्‍य ड‍िटेल दर्ज करें। 
  • 6. इसके बाद आपके सामने 23 टेस्‍ट की सीरीज खुलकर आएगी।  
  • 7. हर सीरीज में आपको एक ड‍िजीट सुनाई देगी। 
  • 8. इस ड‍िजीट को सुनकर आपको स्‍क्रीन पर द‍िए डाइल पैड पर दर्ज करना है। 
  • 9. दर्ज करते ही अगली सीरीज आ जाएगी। 
  • 10. इसी तरह आपको 23 सीरीज पूरी करनी है। 
  • 11. अंत में आपको टेस्‍ट के आधार पर स्‍कोर बता द‍िया जाएगा। 
  • 12. इस स्‍कोर के आधार पर आप ये पता लगा सकते हैं क‍ि आपके कानों के सुनने की क्षमता क‍ितने प्रत‍िशत अच्‍छी या खराब है। 
  • 13. स्‍कोर के मुताब‍िक आप डॉक्‍टर के पास जाकर मेड‍िकल टेस्‍ट करवा सकते हैं। 

इसे भी पढ़ें- Lump behind ear: कान के पीछे बन गई है गांठ तो न करें नजरअंदाज, एक्सपर्ट से जानें इसे ठीक करने के 10 घरेलू उपाय

कानों की अच्‍छी हेल्‍थ के ल‍िए 30 म‍िनट में करवाएं जांच (Painless ear checkup in just 30 minutes)

ear checkup is necessary

कानों के चेकअप के ल‍िए आपको ईएनटी स्‍पेशेल‍िस्‍ट के पास जाना होगा। कानों के चेकअप में लगभग 30 म‍िनट का समय लगता है। बहुत से लोग मशीन देखकर डर जाते हैं पर ये एक पेनलेस प्रोसेस है। कुछ चेकअप में कानों में ईयरफोन लगाकर प‍िच टेस्‍ट क‍िया जाता है। इसमें आपको बताना होगा क‍ि आपको आवाज सुनाई दे रही है या नहीं। साउंड को डेस‍िबल में नापा जाता है। अगर आपके कान में कोई कुछ कहता है तो वो आवाज 30 डेस‍िबल की होती है। हम 60 डेस‍िबल में नॉर्मल बात करते हैं और तेज बोलते या च‍िल्‍लाते समय हमारी आवाज 80 डेस‍िबल पहुंच जाती है। व्‍यसकों में अगर सुनने की क्षमता 25 डेस‍िबल तक है तो आपके कान नॉर्मल हैं। अगर आपके सुनने की क्षमता 41 से 55 के बीच है तो इसका मतलब आपके कानों के सुनने की क्षमता कम है। अगर सुनने की क्षमता 56 से 70 के बीच है तो इसे मॉडरेट से गंभीर के बीच रखा जाता है और उससे ज्‍यादा होने पर आपको सुनाई देना लगभग बंद हो जाता है। माइल्‍ड, मोडरेट या गंभीर स्‍तर के आधार पर आपके कानों का इलाज क‍िया जाएगा।

कानों को स्‍वस्‍थ्‍य रखने के ल‍िए आपको समय-समय पर कानों का चेकअप जरूर करवाना चाह‍िए, इसके ल‍िए अपने डॉक्‍टर से सलाह लें। 

Read more on Miscellaneous in Hindi

Disclaimer