पथरी कहां-कहां होती है?

Where are Stones Found in Body: पथरी शरीर के कई हिस्सों में बन सकती है। इस लेख में जानें पथरी कहां-कहां बनती है?

Anju Rawat
Written by: Anju RawatPublished at: Aug 12, 2022Updated at: Aug 12, 2022
पथरी कहां-कहां होती है?

Where are Stones Found in Body:  खराब खान-पान और जीवनशैली की वजह से आजकल लोगों को तरह-तरह की बीमारियों का सामना करना पड़ रहा है। इसमें पथरी भी एक समस्या है। शरीर के किसी भी अंग में पथरी तब बनती है, जब खनिज और लवण उस अंग में सख्त हो जाते हैं। पथरी का दर्द असहनीय हो सकता है, इसकी वजह से व्यक्ति की पूरी दिनचर्या को प्रभावित हो सकती है। अधिकतर लोग सिर्फ किडनी की पथरी के बारे में ही जानते हैं, लेकिन इसके अलावा भी शरीर के कुछ हिस्सों में पथरी बन सकती है। इस लेख में हम आपको बताने जा रहे हैं कि शरीर में पथरी कहां-कहां बनती है?

पथरी कहां-कहां होती है?- Where Are Stones Found in Body in Hindi

किडनी की पथरी- Kidney Stone

किडनी की पथरी से आजकल अधिकतर लोग परेशान हैं। किडनी की पथरी, किडनी में मौजूद खनिज और लवण है, जो सख्त हो जाते हैं। किडनी की पथरी कई कारणों से हो सकती हैं. इसमें खान-पान, अधिक वजन और दवाइयां भी शामिल हैं। किडनी की पथरी मूत्र पथ के किसी भी हिस्से को प्रभावित कर सकती है। यह किडनी और मूत्राशय को अधिक प्रभावित कर सकती है।  

kidney stone

किडनी की पथरी काफी दर्दनाक हो सकती है। किडनी की पथरी को निकालने के लिए आपको दवाइयों का सहारा लेना पड़ता है। साथ ही कुछ मामलों में सर्जरी की भी जरूरत पड़ सकती है। अगर किडनी की पथरी में, पथरी मूत्र पथ में जमा हो जाती है तो इससे मूत्र संक्रमण हो सकता है और सर्जरी करवानी पड़ सकती है। अच्छी डाइट और अधिक मात्रा में पानी पीकर किडनी की पथरी को धीरे-धीरे करके निकाला जा सकता है.

इसे भी पढ़ें- पित्ताशय की पथरी: आयुर्वेदाचार्य से जानें इसके लक्षण, कारण और इलाज के घरेलू उपाय

पित्ताशय की पथरी- GallStones

पथरी पित्ताशय की थैली में भी बन सकती है। पित्ताशय की थैली आपके ऊपरी दाहिने पेट में और लिवर के ठीक नीचे स्थित एक छोटा अंग होता है। यह एक थैली होती है, जो पित्त को जमा करती है। पित्ताशय की थैली में समस्या तब होती है, जब पित्त की नली को कोई चीज अवरुद्ध करती है, जैसे- पित्ताशय की पथरी। 

पित्ताशय की पथरी तब बनती है, जब पित्त में मौजूद कोलेस्ट्रॉल सख्त हो जाते हैं। पित्ताशय की थैली की पथरी काफी दर्दनाक हो सकती है। इस स्थिति में व्यक्ति को सर्जरी की जरूरत पड़ती है। इस स्थिति में पित्त में तरल पदार्थों की मात्रा कम होने लगती है, इसमें नमक और अन्य पोषक तत्व जमा होने लगते हैं। ये छोटे-छोटे पत्थरों के टुकड़ों का रूप ले लेते हैं, इसे ही गॉलस्टोन कहा जाता है।

पेट के दाहिने हिस्से में तेज दर्द, उल्टी होना, सीने में जलन, पेट में भारीपन, अपच और खट्टी डकार आना पित्ताशय की पथरी के लक्षण (Gallstones Symptoms in Hindi) हो सकते हैं। इन लक्षणों को बिल्कुल भी नजरअंदाज न करें। 

इसे भी पढ़ें- पित्ताशय की पथरी ( गाल ब्लैडर स्टोन) होने पर करें ये 5 याेगासन, पथरी को बाहर निकालने में हो सकते हैं मददगार

Bladder Stone

मूत्राशय की पथरी- Bladder Stone

पथरी मूत्राशय (Bladder Stone in Hindi) में भी बन सकती है। मूत्राशय में पथरी तब बनती है, जब मिनरल्स सख्त हो जाते हैं। इस स्थिति में मूत्र में खनिज क्रिस्टलीकृत हो जाते हैं और पथरी बन जाते हैं। लेकिन मूत्राशय की पथरी अधिक गंभीर नहीं होती है। यह बिना उपचार के भी ठीक हो सकती है। लेकिन कुछ मामलों में मूत्राशय की पथरी को ठीक करने के लिए कुछ दवाइयों और सर्जरी की जरूरत पड़ सकती है। अगर मूत्राशय की पथरी का समय पर इलाज न किया जाए, तो यह स्थिति संक्रमण का कारण बन सकती है। मूत्राशय की पथरी होने पर आपको मूत्राशय को पूरी तरह से खाली करने में दिक्कत महसूस हो सकती है। 

पेट के निचले हिस्से में दर्द, पेशाब के दौरान दर्द होना, जल्दी पेशाब आना, पेशाब करने में कठिनाई होना, पेशाब में खून निकलना और गहरे रंग का पेशाब आना मूत्राशय की पथरी के लक्षण (Bladder Stone Symptoms in Hindi) हो सकते हैं। इसलिए अगर आपको पेशाब से जुड़ी कोई समस्या हो, तो इसकी जांच जरूर करवा लें।

Disclaimer