Sleepwalking: नींद में चलने की आदत का कारण हो सकती हैं ये 9 बातें, डॉक्टर से जानें इस समस्या का सही इलाज

नींद में चलने के कारण लोगों को काफी समस्या का सामना करना पड़ सकता है। खासकर बच्चों के लिए ये आदत हानिकारक हो सकती है। जानें लक्षण, कारण और बचाव

Garima Garg
Written by: Garima GargPublished at: May 14, 2021Updated at: May 14, 2021
Sleepwalking: नींद में चलने की आदत का कारण हो सकती हैं ये 9 बातें, डॉक्टर से जानें इस समस्या का सही इलाज

स्लीप वॉकिग, जैसा कि नाम से ही पता चलता है कि जो व्यक्ति नींद में चलते हैं, उसे स्लीप वॉकिंग (Sleepwalking/Somnambulism) कहते हैं। यह स्थिति तब पैदा होती है जब व्यक्ति बेहद अधिक गहरी नींद में होता है। ये स्थिति आमतौर पर बच्चों में देखी गई है। इस समस्या के पैदा होने के पीछे मुख्य कारण होता है नींद की कमी। जब व्यक्ति पर्याप्त मात्रा में नींद नहीं लेता या उसे अनिद्रा की समस्या होती है तो उस स्थिति में व्यक्ति मानसिक रूप से प्राभावित होता है और नींद में चलना शुरू कर देता है। यह एक प्रकार का स्लीप डिसॉर्डर ही है। आज का हमारा लेख इसी डिसॉर्डर पर है। आज हम आपको अपने इस लेख के माध्यम से बताएंगे कि नींद में चलने के पीछे क्या-क्या कारण (Somnambulism Causes) हैं। साथ ही इसके लक्षण और इलाज (treatment of sleepwalking) भी जानेंगे। पढ़ते हैं आगे...

नींद में चलने के दो प्रकार होते हैं एक तो हल्की नींद में चलना और एक गहरी नींद में चलना। गहरी नींद में चलने वाला व्यक्ति आम डिसॉर्डर की समस्या से ग्रस्त होता है। वहीं जब व्यक्ति हल्की नींद के दौरान भी चलने लगता है तो ये स्थिति थोड़ी गंभीर होती है। इसके दौरान व्यक्ति आधा जाग रहा होता है और आधा सो रहा होता है। 

इसे भी पढ़ें- Shivering Causes: कंपकंपी होने के दौरान दिख सकते हैं ये 22 लक्षण, जानें इसके कारण और बचाव

नींद में चलने के लक्षण (symptoms of Sleepwalking/Somnambulism)

1 - सोते में दिक्कत महसूस करना।

2 - नींद की कमी होना।

3 - सोने के दौरान डर महसूस करना।

4 - आंखे खोलकर बिस्तर के ऊपर बैठ जाना।

5 - रात में चलने की घटना का याद न होना। 

इसे भी पढ़ें- Sleep talking: डिप्रेशन के कारण नींद में बड़बड़ाता है व्यक्ति, जानें इसके कारण, लक्षण और उपचार

नींद में चलने के कारण (Causes of Sleepwalking/Somnambulism)

नींद में चलने के पीछ हो सकते हैं निम्न कारण। जानें इनके बारे में-

1 - तनाव के कारण

2 - बुखार के कारण

3 - सिर पर किसी प्रकार की चोट लगने के कारण

4 - जिन लोगों को टांग हिलाने की आदत होती है उन्हें भी इस प्रकार की समस्या हो सकती है।

5 - स्ट्रोक के कारण

6 - सांस संबंधित समस्या जैसे- स्लीप एप्निया के कारण

7 - नार्कोलेप्सी के कारण

8 - माइग्रेन की समस्या के कारण

9 - हाइपोथायरायडिज्म के कारण

नींद में चलने से बचाव (Treatment of Sleepwalking/Somnambulism)

अगर किसी व्यक्ति को नींद में चलने की आदत है तो सबसे पहले जरूरी है कि वे अपने सोने और उठने के समय को निश्चित करें। सुबह उठने के बाद मेडिटेशन करने से मानसिक उलझन को सुलझाने में आसानी होगी। दिन में 20 से 30 सेकेंड तक एक्सरसाइज करने से भी नींद में चलने की आदत से छुटकारा मिल सकता है। सोने से पहले यदि आप बिस्तर पर जाते हैं तो सबसे पहले अपने शरीर को शारीरिक और मानसिक रूप से शांत करें। अपनी डाइट में बदलाव करने से भी आप नींद में चलने की समस्या को प्रभावित कर सकते हैं। ऐसे में कैफीन की मात्रा को अपनी डाइट से निकालें। सोने से पहले कैफीन का सेवन न करें। अगर आप सिगरेट का सेवन करते हैं तो इस आदत को तुरंत बदलें। सोने से पहले मूत्र त्याग जरूर कर लें। अधिक तनाव और चिंता आपको मानसिक रूप से प्रभावित कर सकता है। ऐसे में आप सबसे पहले तनाव का कारण जानें उसके बाद उसे दूर करने की कोशिश करें। कुछ दर्द निवारक दवाओं के कारण भी व्यक्ति नींद में चलना शुरू कर देता है। ऐसे में जब आप दर्द निवारक दवाइयां बंद कर देंगे तो ये समस्या भी दूर हो जाएगी। सोने से पहले अपने आसपास के वातावरण को अपने अनुकूल रखें। सोने से पहले लाइट बंद करें ऐसा इसलिए क्योंकि ज्यादा रोशनी से नींद में बांधा आ सकती है। 

नोट - ऊपर बताए गए बिंदुओं से पता चलता है कि नींद में चलने की आदत आम है। लेकिन अगर व्यक्ति बार-बार नींद में चलना शुरू कर दे तो आपको सतर्क होने की जरूरत है। खासकर बच्चों के लिए यह खतरनाक हो सकता है। इस स्थिति में तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। 

ये लेख मन:स्थली और पारस हॉस्पिटल गुरुग्राम की सीनियर साइकेट्रिस्ट डॉ ज्योति कपूर (एमबीबीएस) द्वारा दिए गए इनपुट्स पर बनाया गया है।   

Read More Articles on other disease in Hindi

Disclaimer