World Hypertension Day 2021: स्मार्ट वॉच और फिटनेस बैंड की ब्लड प्रेशर रीडिंग कितनी सही? जानें डॉक्टर से

स्मार्ट वॉच से क्या ब्लड प्रेशर की रीडिंग सही तरीके से की जा सकती है? चलिए डॉक्टर से जानते हैं इस बारे में-

Kishori Mishra
Written by: Kishori MishraPublished at: May 12, 2021Updated at: May 12, 2021
World Hypertension Day 2021: स्मार्ट वॉच और फिटनेस बैंड की ब्लड प्रेशर रीडिंग कितनी सही? जानें डॉक्टर से

घर पर व्रिस्ट वॉच (स्मार्ट वॉच) के जरिए ब्लड प्रेशर नापना काफी आसान (Smart Watch and Blood Pressure) हो चुका है। इसलिए आज के समय में अधिकतर लोग इसका इस्तेमाल भी (World Hypertension Day 2021) कर रहे हैं। एक छोटा सा दिखने वाला डिवाइस आपके दिनभर के ब्लड प्रेशर को नापने में आपकी मदद करता है। साथ ही यह पूरे सप्ताह का रिकॉर्ड भी अपने अंदर स्टोर किए रहता है। व्रिस्ट वॉच के जरिए ब्लड प्रेशर नापना बहुत (Wrist Watch and Hypertension) ही ज्यादा आसान हो चुका है। लेकिन क्या डॉक्टर इस वॉच (Smart Watch Reading) के आंकड़ों पर विश्वास रखते हैं। चलिए जानते हैं क्या कहते हैं संजीवनी हॉस्पिटल के कार्डियोलॉजिस्ट डॉक्टर ए.के चौहान-

क्या व्रिस्ट वॉच पर भरोसा किया जा सकता है?

डॉक्टर एके चौहान का कहना है कि अधिकतर डॉक्टर व्रिस्ट वॉच के आंकड़ों पर विश्वास नहीं (Smart Watch and Blood Pressure)  करते हैं। जब मरीज का इलाज किया जाता है, तो पुन: ब्लड प्रेशर की जांच की (World Hypertension Day 2021) जाती है। चिकित्सीय उपकरण में आए आंकड़ों के आधार पर ही इलाज किया जाता है। हालांकि, घर पर ब्लड प्रेशर नापने का बेहतरीन तरीका है। लेकिन इसपर पूरी तरह से विश्वास करना थोड़ा मुश्किल है। खासतौर पर इलाज के दौरान इस वॉच पर विश्वास न के बराबर किया जाता है। 

इसे भी पढ़ें - क्या बार-बार गरारे करने से गले को हो सकता है नुकसान? एक्सपर्ट से जानें दिन में कितनी बार करें गरारा

कितनी सही होती है रीडिंग?

डॉक्टर एके अग्रवाल का कहना है कि व्रिस्ट वॉच में आपके दिनभर के ब्लड प्रेशर का आंकड़ा (Smart Watch and Blood Pressure)  दिखाया जाता है। जिसमें आपके चलने-फिरने या फिर अन्य क्रिया के दौरान ब्लड प्रेशर में हुए उतार-चढ़ाव भी दिखाए (World Hypertension Day 2021) जाते हैं। ऐसे में इसकी रीडिंग कितनी सटीक होती है। इस बारे में कहना थोड़ा मुश्किल है। डॉक्टर अक्सर ब्लड प्रेशर की रीडिंग मरीज को बैठाकर या फिर लिटाकर लेते हैं। इन्हीं आंकड़ों को ही सटीक माना जाता है।

व्रिस्ट वॉच पहनने का है कोई फायदा?

डॉक्टर एके अग्रवाल का कहना है कि जो लोग घर में रहते हैं वे इस वॉच को पहनकर खुद से ब्लड प्रेशर (Smart Watch and Blood Pressure)  का पता लगा सकते हैं। इस स्थिति में जब ब्लड प्रेशर में बार-बार उतार-चढ़ाव नजर आए, तो डॉक्टर से संपर्क करना बेहतर होता है। साथ ही डॉक्टर व्रिस्ट वॉच में  स्टोर हुए आंकड़ों के आधार पर भी आपकी स्थिति का अनुमान लगा सकते हैं। इसलिए यह कहना गलत होगा कि इससे कोई फायदा नहीं है। यह वॉच ब्लड प्रेशर (World Hypertension Day 2021) बढ़ने पर आपको सतर्क कर सकता है। साथ ही इसकी मदद से आप समय रहते अपना इलाज करवा सकते हैं।

इसे भी पढ़ें- World Hypertension Day 2021: क्या हाई ब्लड प्रेशर के मरीज लगवा सकते हैं कोरोना वैक्सीन? जानें जरूरी सावधानियां

ब्लड प्रेशर बढ़ रहा हो तो क्या करें?

डॉक्टर का कहना है कि व्रिस्ट वॉच में अगर लगातार ब्लड प्रेशर बढ़ता हुआ दिखे, तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। ब्लड प्रेशर बढ़ता (Hypertension and Smart Watch) हुआ दिखने पर जरा सी भी देरी न करें। इस दौरान नमक का सेवन ज्यादा न करें और सचेत रहें। डॉक्टर के सहानुसार अपने हेल्दी रुटीन को फॉलो करें।

ब्लड प्रेशर को नापने के लिए कौन सी मशीन है कारगर?

डॉक्टर का कहना है कि इंडीविजुअल देखने वाली सभी मशीनें ठीक हैं। लेकिन अगर मशीन में रीडिंग बार-बार गलत दिख रही है, तो डॉक्टर से संपर्क करें। डॉक्टर आपके ब्लड प्रेशर को दोबारा रिकॉर्ड (Blood Pressure Reading) करेगा। ताकि आपके ब्लड प्रेशर की सही रीडिंग जान सके। अगर रीडिंग बढ़ता हुआ दिखे, तो डॉक्टर से संपर्क करना ही बेहतर होता है। ताकि हाई ब्लड प्रेशर का समय पर इलाज हो सके।

किस डाइट ब्लड प्रेशर नापना होता है सही?

डॉक्टर एके अग्रवाल के मुताबिक, ब्लड प्रेशर नापने का सबसे सही समय सुबह खाली पेट और रात को सोते समय होता है। दिनभर में यह दो समय सबसे सटीक ब्लड प्रेशर री़डिंग करता है। खाली पेट ब्लड प्रेशर की रीडिंग (Blood Pressure Reading) अगर कम या ज्यादा बताए, तो डॉक्टर से संपर्क करें।

ध्यान रहे कि ब्लड प्रेशर में उतार-चढ़ाव होने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना आपके लिए बेहतर हो सकता है। ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने के लिए डॉक्टर द्वारा दिए जरूरी सहाल को फॉलो करें।

Read more articles on Other-Diseases in Hindi

Disclaimer