Leech Therapy: ब्लड सर्कुलेशन को बेहतर बनाती है लीच थेरेपी, जानें इसके 7 फायदे और कुछ नुकसान

फिश थेरेपी की तरह की लीच थेरेपी होती है। यह थेरेपी आपके स्वास्थ्य के लिए बेहतर साबित हो सकती है। आइए जानते हैं इसके फायदे और नुकसान

Kishori Mishra
Written by: Kishori MishraPublished at: Jan 29, 2021Updated at: Jan 29, 2021
Leech Therapy: ब्लड सर्कुलेशन को बेहतर बनाती है लीच थेरेपी, जानें इसके 7 फायदे और कुछ नुकसान

आपने आज से पहले कई बार फिश थेरेपी या फिर फिश स्पा के बारे में सुना होगा, लेकिन क्या आज से पहले कभी जोंक या लीच थेरेपी के बारे में सुना है? जी हां, जोंक थेरेपी, जोंक का नाम सुनते ही हमारे मस्तिष्क में खून चूसने और स्किन पर चिकपने वाले जोंक का दृश्य सामने आ जाता है। लेकिन बता दें कि आज के दौर में लोग जोंक थेरेपी ले रहे हैं। अब आप सोच रहे होंगे कि आखिर जोंक थेरेपी है क्या और इस थेरेपी को कैसे लिया जाता है?  अगर आपके मन में भी इस तरह के सवाल उठ रहे हैं, तो आइए जानते हैं इस लेख में जोंक थेरेपी से जुड़ी संपूर्ण जानकारी। चलिए सबसे पहले जानते हैं आखिर क्या है जोंक थेरेपी? 

क्या है जोंक थेरेपी? (What is Leech Therapy)

प्राचीनकाल से ही जोंक थेरेपी लिया जाता है। इस थेरेपी को हिरुडोथेरेपी (hirudotherapy) भी कहते हैं। जोंक थेरेपी में आपके शरीर के ऊपरी हिस्से पर जोंक को कुछ समय के लिए चिपकाया जाता है। एक्सपर्ट की मानें तो जोंक के लार में औषधीय गुण होता है, जिसे शरीर अवशोषित कर लेती है। इससे स्वास्थ्य से जुड़ी समस्याओं को दूर किया जाता है। जोंक थेरेपी से आपके शरीर पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। इस थेरेपी को 30 से 40 मिनट तक लिया जाता है। आइए अब जानते हैं जोंक थेरेपी लेने के फायदे क्या हैं?

जोंक थेरेपी के फायदे ( Health Benefits of Leech Therapy)

जोंक थेरेपी लेने से आपके शरीर को निम्न फायदे हो सकते हैं-

एंटी-इन्फ्लेमेटरी गुण

एनसीबीआई (NCBI) रिपोर्ट के मुताबिक, जोंक के लार में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण पाए जाते हैं, जो हमारे स्वास्थ्य के लिए काफी फायदेमंद है। रिसर्चर्स के अनुसार, जोंक में मौजूद हीरुद्दीन (Hirudin) गुण पाया जाता है, जो एंटी-इन्फ्लेमेटरी प्रभाव से थ्रोम्बिन जैसे एंजाइम को रोकने में मददगार साबित हो सकता है। एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण शरीर में होने वाले सूजन को कम करने में मददगार साबित हो सकते हैं। 

दर्दनिवारक है जोंक थेरेपी

जोंक थेरेपी में दर्दनिवारण गुण पाए जाते हैं। जोंक के लार में एंटी-इन्फ्लेमेटरी और एनाल्जेसिक (दर्दनिवारक) गुण पाए जाते हैं, जो शरीर में होने वाले दर्द से राहत दिलाने में मददगार साबित हो सकते हैं। अगर आप अन्य किसी तरह के दर्द से गुजर रहे हैं, तो जोंक थेरेपी ले सकते हैं। यह आपके लिए काफी असरदार हो सकता है।

इसे भी पढ़ें - आपके बच्चों की आंखों को नुकसान पहुंचा सकते हैं हैंड सैनिटाइजर, शोध में हुआ खुलासा

गंजेपन की शिकायत हो सकती है दूर

जोंक थेरेपी की मदद से गंजेपन की परेशानी भी दूर की जा सकती है। एनसीबी की रिपोर्ट के अनुसार, यह आपके शरीर से अशुद्धियों को बाहर कर रक्त संचार को बेहतर करता है। ऐसे में सिर पर लीच थेरेपी लेने से यह आपके सिर का ब्लड फ्लो बेहतर केगा, जिससे गंजेपन की परेशानी दूर हो सकती है। सिर पर ब्लड फ्लो बेहतर होने से बाल झड़ने की समस्या से राहत पाया जा सकता है। ऐसे में यह थेरेपी झड़ते बालों की समस्या वालों के लिए कारगर साबित हो सकता है। 

डायबिटीज को करे कंट्रोल

जोंक थेरेपी से आप डायबिटीज की समस्या को भी कंट्रोल कर सकते हैं। यह डायबिटीज में होने वाली तमाम परेशानियों को कंट्रोल कर सकता है। जोंक थेरेपी की मदद से आप डायबिटीज के लक्षणों को काफी हद तक ठीक कर सकते हैं। एनसीबीआई में छपी रिपोर्ट के अनुसार, जोंक थेरेपी से डायबिटिक फुट की परेशानियों से बचा जा सकता है। इस थेरेपी में घाव भरने के गुण हैं, जो डायबिटीज के दौरान पैरों में होने वाली समस्याओं को कंट्रोल कर सकता है। हाई ब्लड शुगर होने वाली समस्या को डायबिटिक फुट कहते हैं। पैरों की नसों पर इसका असर काफी होता है। इसके कारण पैरों में सुन्नता महसूस होती है।

सुनने की क्षमता में सुधार

सुनने की क्षमता को सुधारने में भी लीच थेरेपी असरदार हो सकता है। इसके साथ ही यह कान में सूजन और टिनिटस की परेशानी को दूर करने में आपकी मदद करता है। अध्ययन के अनुसार, इस थेरेपी में दो जोंक का इस्तेमाल किया जाता है। जिसमें एक कान के आगे और एक कान के पीछे रखा जाता है। इस प्रक्रिया को दो दिन में 3 से 4 बार किया जाता है।

हृदय रोगियों के लिए है असरकारी

जोंक थेरेपी हृदय रोगियों के लिए प्रभावकारी साबित हो सकता है। एनसीबीआई में छपी रिपोर्ट के अनुसार, इस थेरेपी से शरीर में ब्लड फ्लो को सुधारा जा सकता है। इससे रक्त वाहिका संबंधी परेशानियों को दूर किया जा सकता है। 

दांत की परेशानी करे दूर

एनसीबी रिपोर्ट के अनुसार, जोंक के लार में डेस्टेबिलस नामक प्रोटीन होता है, जो एंटीबैक्टीरियल गुणों से भरपूर होता है। यह दातों में होने वाली पीरियोडोंटाइटिस और एल्वोलर एब्सिसेज जैसी परेशानियों को दूर करने में मददगार होता है। इसमें पाए जानें वाले एंटीमाइक्रोबियल पेप्टाइड बैक्टीरिया की वृद्धि को रोकने में आपकी मदद करता है। इसके साथ ही यह इम्यून सिस्टम को बेहतर करने में असरदार होता है। 

इसे भी पढ़ें - गलत चप्पल पहनने से हो सकती हैं ये परेशानियां, चप्पल खरीदने से पहले जरूर रखें इन बातों का ध्यान

जोंक थेरेपी के नुकसान (Side Effects of Leech Therapy)

जोंक थेरेपी स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद साबित हो सकता है। लेकिन इसके कुछ नुकसान भी हैं। आइए जानते हैं इस बारे में-

  • अधिक समय पर जोंक थेरेपी लेने से रक्तस्त्राव होने की संभावना होती है। 
  • शरीर में खून की कमी हो सकती है।
  • एलर्जिक रिएक्शन होने की संभावना।
  • अधिक दर्द हो सकता है। 
  • खुलजी शुरू हो सकती है
  • बैक्टीरियल संक्रमण होना।
  • फफोले जैसा महसूस होना।

Read more on Miscellaneous in Hindi

Disclaimer