इन 5 कारणों से आपके चेहरे पर होती हैं झुर्रियां, एक्सपर्ट से जानें कम उम्र में झुर्रियों से बचने के 10 टिप्स

 ऐसे कई कारक हैं जो कि चेहरे पर झुर्रियों की उपस्थिति का कारण बनते हैं। तो, आइए एक्सपर्ट से जानते हैं चेहरे पर झुर्रियों को कम करने के उपाय।

Pallavi Kumari
Written by: Pallavi KumariPublished at: Dec 09, 2020Updated at: Dec 09, 2020
इन 5 कारणों से आपके चेहरे पर होती हैं झुर्रियां, एक्सपर्ट से जानें कम उम्र में झुर्रियों से बचने के 10 टिप्स

चेहरे पर झुर्रियों (wrinkles on face) को अक्सर बढ़ती हुई उम्र के संकेतो में गिना जाता है, जो कि उम्र बढ़ने के कारण त्वचा के भीतर हो रहे नुकसानों का एक परिणाम है। चेहरे पर झुर्रियों का होना पूरी तरह से एक नेचुरल प्रोसेस है। पर आज कल कम उम्र में भी लोगों को ये परेशानी हो रही है। इसके कारण बहुत से लोग हार्ड स्किनकेयर रूटीन, इंजेक्शन और सर्जरी सहित कई चीजों  की मदद ले रहे हैं। जबकि अगर हम ये समझ लें कि झुर्रियों क्या हैं और ये क्यों होती हैं, तो हम इसे कम करने वाले उपायों को भी आसानी से जान सकते हैं। इसलिए झुर्रियों के बारे में इन तमाम बातों को विस्तार से समझने के लिए हमने डर्मेटोलॉजिस्ट और सौंदर्य चिकित्सा चिकित्सक डॉ. अजय राणा से बात की, जो कि  ILAMED के संस्थापक और निदेशक भी हैं। 

insidewrinkles

झुर्रियां क्या हैं? -What are wrinkles?

डर्मेटोलॉजिस्ट डॉ. अजय राणा कहते हैं कि झुर्रियां त्वचा में दिखाई देने वाली रेखाएं, क्रीज़, फोल्ड और लकीरों की तरह हैं। कुछ झुर्रियां गहरी दरारों और फुंसी का कारण बन सकती हैं जो कि आपकी आंखों, मुंह और गर्दन के आसपास विशेष रूप से नजर आ सकती हैं। झुर्रियां एक व्यक्ति के चेहरे पर उन क्षेत्रों में दिखाई देती हैं जहां, चेहरे के भावों के दौरान त्वचा स्वाभाविक रूप से मुड़ती है। फिर समय के साथ त्वचा के पतले और कम लोचदार होने के साथ ये बढ़ने लगते हैं। झुर्रियां शरीर के उन हिस्सों पर भी दिखाई देती हैं, जहां धूप सबसे ज्यादा पड़ती हो। जैसे कि चेहरा और गर्दन, हाथों का पिछला भाग और हथेलियां।

कब पड़ती हैं चेहरे पर झुर्रियां? -At what age wrinkles appear?

डर्मेटोलॉजिस्ट डॉ. अजय राणा कहते हैं कि बढ़ती उम्र के साथ, हमारी त्वचा अपनी लोच खोने लगती है। 30 की उम्र के बाद लोगों के बीच झुर्रियां एक आम चिंता का विषय बनने लगता है। इस दौरान चेहरे पर अभिव्यक्ति रेखाएं (एक्सप्रेसिव लाइन्स) और कई महीन रेखाएं दिखाई देने लगती हैं। झुर्रियां सबसे ज्यादा गर्दन और माथे पर नजर आती हैं। दरअसल, गर्दन और माथे की त्वचा पतली होती है और सूरज की किरणों से ये क्षेत्र काफी जल्दी प्रभावित होता है। इसलिए यह अक्सर शरीर के अन्य हिस्सों की तुलना में जल्द ही उम्र बढ़ने के लक्षण दिखा सकती है।

insideantiagingtipsinhindi

इसे भी पढ़ें : Skin care Routine: दूध की मलाई त्वचा के लिए है फायदेमंद, दूर होंगी सर्दियों की ये 5 समस्याएं

झुर्रियों के 5 कारण -causes of wrinkles in face

उम्र बढ़ने के अलावा चेहरे पर होने वाली झुर्रियों के कई कारण और भी हैं। डर्मेटोलॉजिस्ट डॉ. अजय राणा कहते हैं कि डर्मिस, त्वचा की वो परत है जिसमें कोलेजन होता है। ये बहुत ही पतला होता है जो उम्र बढ़ने पर ज्यादा दिखने लगता है। उम्र बढ़ने के अलावा कई ऐसी चीजें हैं, जो कि चेहरे में कोलेजन का नुकसान करती हैं और झुर्रियों का कारण बनती हैं। जैसे कि

1. सूर्य का संपर्क

सन डैमेज इन झुर्रियों की उपस्थिति का सबसे बड़ा कारण है। हानिकारक यूवी किरणें इलास्टिन और कोलेजन फाइबर को नुकसान पहुंचाती हैं, जो त्वचा को उसकी मजबूती और लोच प्रदान करते हैं। साथ ही सूर्य के प्रकाश में पराबैंगनी (यूवी) विकिरण के संपर्क में आने से त्वचा में परिवर्तन होता है। फाइन लाइनों और झुर्रियों के अलावा, यूवी रेज की क्षति से चेहरे पर भूरे रंग के धब्बे और पिगमेंटेशन की परेशानी होती है। इस तरह ये सभी मिल कर त्वचा में कोलेजन का नुकसान करते हैं और झुर्रियों को बढ़ाते हैं।

2. प्रदूषण

स्मॉग, जिसमें लो लेवल ओजोन, धूल के कण और कार्बन मोनोऑक्साइड जैसे प्रदूषकों का संयोजन होता है, जिससे त्वचा की उम्र तेजी से बढ़ने लगती है। जब आपकी त्वचा इन प्रदूषकों को अवशोषित करती है, तो त्वचा में ऑक्सीजन की कमी हो जाती है। इससे त्वचा में लोच की कमी होने लगती है और झुर्रियां बढ़ जाती हैं।

3. धूम्रपान

निकोटीन, सिगरेट में अन्य रसायन, धूम्रपान जैसे अन्य कारक त्वचा में झुर्रियों को तेजी से बढ़ाती है और समय से पहले आपको बूढ़ा बना देती है। निकोटीन ब्लड वेसल्स को संकीर्ण बनाता है, जिससे त्वचा की कोशिकाओं तक ऑक्सीजन का प्रवाह और पोषक तत्व कम हो जाता है। इससे त्वचा पर झुर्रियां नजर आती हैं।

4. आनुवंशिकी

कोलेजन, हड्डियों के घनत्व, मांसपेशियों को खोने में जेनेटिक्स सबसे महत्वपूर्ण कारक है। अगर चेहरे की रेखाओं और झुर्रियों को त्वचा की सतह में गहराई से सेट नहीं किया जाए, तो ये उभर कर चेहरे पर नजर आती हैं।

5. मांसपेशियों की अति सक्रियता

झुर्रियां तब दिखाई देती हैं, जब त्वचा की बाहरी परत पतली, लोचदार और शिथिल हो जाती है। ये सभी संबंधित मांसपेशियों की अति सक्रियता के कारण होती है। तो, अगर आपकी मांसपेशियां ज्यादा एक्टिव हैं, तो ये झुर्रियों को आसानी से बढ़ा सकती हैं।

insidewrinkleseffects

इसे भी पढ़ें : विटामिन ई को क्यों कहते हैं Beauty Vitamin? डर्मेटोलॉजिस्ट से जानें ग्लोइंग स्किन पाने के लिए 5 बेस्ट विटामिन

झुर्रियों से बचने के टिप्स -How do I get rid of wrinkles on my face?

1.धूप के संपर्क में कम आया करें और अगर आए भी, तो दैनिक एसपीएफ़ 30 और पीए रेटिंग +++ के साथ एक व्यापक स्पेक्ट्रम सनस्क्रीन लगा कर ही आएं।

2. ऐसे स्किनकेयर उत्पादों की तलाश करें जिनमें रेटिनॉल और पेप्टाइड्स के साथ-साथ हयालूरोनिक एसिड होता हो, जो कि त्वचा को कोमल और हाइड्रेट करता रहे।

3.अपनी गर्दन और माथे पर विटामिन सी सीरम का इस्तेमाल करें। विटामिन सी में एंटीऑक्सिडेंट गुण होते हैं जो त्वचा के लिए अच्छा है। विटामिन मुक्त कणों को निष्क्रिय करके यूवी किरणों और अन्य पर्यावरणीय कारकों के कारण होने वाले नुकसान को कम करने में मदद कर सकता है।

4.बहुत से लोग अपने चेहरे को मॉइस्चराइज करना याद रखते हैं, लेकिन गर्दन और माथे पर इसे करना भूल जाते हैं। मॉइस्चराइजिंग त्वचा को हाइड्रेट करने में मदद कर सकता है जो झुर्रियों को कम करने में मदद करेगा।

5.हाइड्रेटेड रहने से कम उम्र में आपको चेहरे पर झुर्रियां नहीं होंगी। इसके लिए हर दिन 8 गिलास पानी पिएं।

6.तनाव न लें। तनाव का कम करने के लिए योग और अन्य शांत गतिविधियों का अभ्यास करें।

7.अपने आहार में फल और हरी सब्जियों सहित स्वस्थ भोजन शामिल करें और दिन में कम से कम 8 घंटे सोएं।

8.धूम्रपान छोड़ दें। धूम्रपान ऑक्सीडेटिव तनाव को बढ़ा सकता है जिसके परिणामस्वरूप समय से पहले ही आप बूढ़े हो सकते हैं। धूम्रपान कोलेजन और निकोटीन को भी नुकसान पहुंचाता है जो ब्लड वेसल्स को संकुचित कर सकता है और ऑक्सीजन की कम को पूरा कर सकता है।

9.न्यूरोटॉक्सिन और छोटे कण हयालूरोनिक फिलर्स का उपयोग गर्दन और माथे को मॉइस्चराइज कर सकता है। इनका इस्तेमाल इन्हें फिर से जीवंत बना सकता है और फाइन लाइनों और झुर्रियों को ठीक कर सकता है।

10.BOTOX झुर्रियों के लिए सबसे प्रभावी उपचार है। बोटुलिनम टॉक्सिन उपचार में मांसपेशियों की गति को कम करने की क्षमता होती है, जो झुर्रियों को कम करने के लिए समय के साथ आंखों, माथे और मुंह के आसपास  एक्सप्रेसिव लाइन्स की उपस्थिति को कम करता है।  इसके परिणाम लगभग तुरंत दिखाई दे सकते हैं लेकिन आमतौर पर पूर्ण प्रभाव दिखाने में 7 से 14 दिन लगते हैं।

इन सबके अलावा लेजर और कैमिकल पिलिंग कुछ ऐसे अन्य उपचार हैं जिनका उपयोग फाइन लाइनों से छुटकारा पाने के लिए किया जाता है। तो, झुर्रियों से बचने के लिए इन 10 टिप्स का आजमाएं और हमेशा खूबसूरत और जवां दिखते रहें।

Read more articles on Skin-Care in Hindi

Disclaimer