Doctor Verified

यूरिक एसिड टेस्ट क्या होता है? जानें कब कराना चाहिए ये टेस्ट

Uric Acid Test: शरीर में यूरिक एसिड के स्तर की जांच के लिए यूरिक एसिड टेस्ट किया जाता है, जानें किन लोगों को जरूर कराना चाहिए यूरिक एसिड टेस्ट।

Prins Bahadur Singh
Written by: Prins Bahadur SinghPublished at: Jul 06, 2022Updated at: Jul 06, 2022
यूरिक एसिड टेस्ट क्या होता है? जानें कब कराना चाहिए ये टेस्ट

Uric Acid Test in Hindi: यूरिक एसिड शरीर में खाद्य पदार्थों से बनने वाला अपशिष्ट है, जिसके बढ़ने पर कई गंभीर समस्याएं हो सकती हैं। शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ने पर जोड़ों में दर्द, किडनी फंक्शन में दिक्कत, गठिया और सूजन जैसी समस्याएं हो सकती हैं। यूरिक एसिड हड्डियों के जोड़ों और ऊतकों में जमा होता है। जब भोजन में मौजूद यौगिक पदार्थों से यूरिक एसिड का उत्पादन शरीर में ज्यादा होता है, तो किडनी इसे सही तरीके से फिल्टर नहीं कर पाती है। शरीर में यूरिक एसिड बढ़ने के लक्षण दिखाई देने पर इसकी जांच करानी जरूरी होती है। आइए आज हम जानते हैं, यूरिक एसिड टेस्ट क्या है, और किन लोगों के लिए यूरिक एसिड टेस्ट जरूरी है?

यूरिक एसिड टेस्ट क्या है?- What Is a Uric Acid Blood Test?

शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ने पर चिकित्सक की देखरेख यूरिक एसिड टेस्ट किया जाता है। बाबू ईश्वर शरण हॉस्पिटल के जनरल फिजिशियन डॉ समीर के मुताबिक इस टेस्ट के जरिए यह पता चलता है कि आपके ब्लड में यूरिक एसिड की मात्रा कितनी है। जानकारी के लिए बता दें, यूरिक एसिड शरीर में प्यूरिन नामक केमिकल की मात्रा बढ़ने पर यूरिक एसिड बढ़ने लगता है। यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ने से किडनी स्टोन की समस्या का जोखिम भी बना रहता है। ब्लड टेस्ट के जरिए शरीर में यूरिक एसिड की जांच की जाती है। यूरिक एसिड टेस्ट को सीरम यूरेट या यूरिक एसिड लेवल टेस्ट के नाम से भी जाना जाता है। गठिया, पथरी की समस्या और कैंसर जैसी स्थितियों में भी डॉक्टर यूरिक एसिड टेस्ट कराने की सलाह देते हैं।

Uric Acid Test

इसे भी पढ़ें: यूरिक एसिड क्या है? जानें शरीर में Uric Acid बढ़ने के लक्षण, कारण और इलाज

कब कराना चाहिए यूरिक एसिड टेस्ट?- Who Should Take Uric Acid Test

शरीर में यूरिक एसिड के स्तर का पता करने के लिए यूरिक एसिड टेस्ट किया जाता है। अगर आपके शरीर में यूरिक एसिड बढ़ने के लक्षण दिखाई देते हैं, तो डॉक्टर आपको इस टेस्ट की सलाह दे सकते हैं। इसके अलावा नीचे बताई गयी स्थितियों में यूरिक एसिड टेस्ट जरूर कराना चाहिए-

  • पैरों और जोड़ों में गंभीर दर्द
  • उंगलियों में सूजन
  • एड़ियों में दर्द
  • पेशाब करने में दिक्कत या बार-बार पेशाब आना
  • पेशाब करते समय जलन
  • पीठ में तेज दर्द
  • किडनी फेलियर
  • ल्यूकोमिया और सोराइसिस की समस्या में
  • कीमोथेरेपी या रेडिएशन थेरेपी के बाद
  • किडनी स्टोन की समस्या में

यूरिक एसिड टेस्ट से जुड़ी सावधानियां- Uric Acid Test Precautions in Hindi

शरीर में यूरिक एसिड का स्तर बढ़ने पर कई परेशानियां हो सकती हैं। जिन लोगों में लंबे समय तक यूरिक एसिड का स्तर ज्यादा बना रहता है, उन्हें दिल का दौरा या स्ट्रोक जैसी समस्या भी हो सकती है। इसलिए सही समय पर डॉक्टर की सलाह लेकर यूरिक एसिड टेस्ट जरूर कराना चाहिए। यूरिक एसिड टेस्ट के पहले और बाद में इन बातों का ध्यान जरूर रखें-

  • यूरिक एसिड टेस्ट कराने से 4 घंटे पहले तक कुछ खाना नहीं चाहिए।
  • अगर आप किसी दवा का सेवन कर रहे हैं, तो उसके बारे में डॉक्टर को जरूर बताएं।
  • टेस्ट कराने से पहले शराब का सेवन न करें।
  • टेस्ट के बाद इंजेक्शन वाली जगह को अच्छी तरह से साफ करें।

यूरिक एसिड की नार्मल रेंज पुरुषों और महिलाओं में अलग-अलग हो सकती है। पुरुषों के खून में यूरिक एसिड का सामान्य स्तर 7mg/dL से कम होता है, वहीं महिलाओं में 6 mg/dL नार्मल रेंज माना जाता है। डाइट और हेल्थ कंडीशन के हिसाब से लोगों में यह रेंज अलग हो सकती है। शरीर में यूरिक एसिड का स्तर बढ़ने पर डॉक्टर की सलाह के बाद यूरिक एसिड टेस्ट जरूर कराना चाहिए।

(Image Courtesy: Freepik.com)

Disclaimer