पुरुषों को जरूर लगवानी चाह‍िए ये 3 वैक्‍सीन, डॉक्‍टर से जानें किन गंभीर बीमारियों से बचाव के लिए हैं जरूरी

पुरुषों को अपने जीवनकाल में कई बीमार‍ियों का खतरा होता है ज‍िनसे बचने के ल‍िए उन्‍हें वैक्‍सीन लगवानी चाह‍िए, चल‍िए जानते हैं इन वैक्‍सीन के बारे में

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurPublished at: Sep 10, 2021
पुरुषों को जरूर लगवानी चाह‍िए ये 3 वैक्‍सीन, डॉक्‍टर से जानें किन गंभीर बीमारियों से बचाव के लिए हैं जरूरी

पुरुषों को अपने स्‍वास्‍थ्‍य के ल‍िए प्रत‍ि एलर्ट रहना चाह‍िए, ऐसी कई बीमार‍ियां हैं जिससे पुरुषों का स्‍वास्‍थ्‍य खतरे में पड़ सकता है। हेपेटाइट‍िस बी, एचपीवी वायरस, हेपेटाइट‍िस ए जैसी बीमार‍ियों से बचने के ल‍िए टीकाकरण जरूरी है। इन तीनों गंभीर बीमार‍ियों की वैक्‍सीन उपलब्‍ध है। अगर आपने अभी तक इन वैक्‍सीन्‍स को नहीं लगवाया है तो आपको अपने डॉक्‍टर से संपर्क करके इन वैक्‍सीन्‍स को लगवाना चाह‍िए। इन द‍िनों कोव‍िड टीकाकारण भी जारी है, ऐसे में आप सोच रहे होंगे क‍ि अन्‍य वैक्‍सीन को कोव‍िड वैक्‍सीन के साथ कैसे लें पर ज्‍यादातर डॉक्‍टर आपको ये सलाह देंगे क‍ि आप कोव‍िड की दोनों डोज़ लेने के 4 से 6 महीने बाद अन्‍य वैक्‍सीन को लगवा सकते हैं। इस लेख में हम पुरुषों के ल‍िए जरूरी तीन वैक्‍सीन के बारे में बात करेंगे। इस व‍िषय पर ज्‍यादा जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के केयर इंस्‍टिट्यूट ऑफ लाइफ साइंसेज की एमडी फ‍िजिश‍ियन डॉ सीमा यादव से बात की। 

hepatitis b 

(image source:news-medical)

1. हेपेटाइटिस बी वैक्‍सीन (Hepatitis B vaccine)

हेपेटाइट‍िस बी वैक्‍सीन की तीन डोज़ लगाई जाती है, पहली डोज़ के एक महीने बाद दूसरी डोज़ लगती है और पहली डोज़ के चार महीने बाद तीसरी डोज़ लगाई जाती है। डॉक्‍टर बुजुर्गों को इस वैक्‍सीन को लगाने की सलाह नहीं देते हैं क्‍योंक‍ि ज्‍यादा उम्र के लोगों को हेपेटाइट‍िस बी का खतरा कम होता है। अगर आपकी उम्र 59 से कम है या आपको टाइप 1 या टाइप 2 डायब‍िटीज है तो आपको ये वैक्‍सीन जरूर लगवानी चाह‍िए।

क्‍या है हेपेटाइट‍िस बी? (What is Hepatitis B)

हेपेटाइट‍ि‍स बी वायरस के कारण होने वाली इंफेक्‍शन को ही हेपेटाइट‍िस बी के नाम से जाना जाता है। हेपेटाइट‍िस बी के अलावा ए, सी, डी और ई भी होते हैं। हेपेटाइट‍िस बी के लक्षण वयस्‍कों में ज्‍यादा देखने को म‍िलते हैं। हेपेटाइट‍िस बी वायरस लार में पाया जाता है पर इसके बावजूद हेपेटाइट‍िस बी वायरस क‍िसी व्‍यक्‍त‍ि को क‍िस करने से या एक ही बर्तन में खाना खाने से नहीं फैलता है। अगर इंफेक्‍टेड व्‍यक्‍त‍ि छींक दें, खांस दे या संक्रम‍ित मां स्‍तनपान करवा दे तो भी ये नहीं फैलेगा। ये वायरस बॉडी के बाहर 7 द‍िनों तक ज‍िंदा रह सकता है इसल‍िए पुरुषों को ज्‍यादा सावधानी बरतने की जरूरत है क्‍योंक‍ि फील्‍ड वर्क के दौरान आप इसकी चपेट में आ सकते हैं।

हेपेटाइट‍िस बी से बचने के ल‍िए पुरुष क्‍या करें? (How to prevent Hepatitis B in men)

vaccine tips

(image source:ctvnews)

  • हेपेटाइट‍िस बी से बचने का सबसे आसान व‍िकल्‍प तो यही है क‍ि आप वैक्‍सीन लगवाएं। 
  • समय के साथ हेपेटाइट‍िस बी ठीक हो जाता है पर आपको पर्याप्‍त आराम और खुद को हाइड्रेट रखना चाह‍िए। 
  • अगर आप स्‍वास्‍थ्‍य कर्मचारी हैं तो आप इंफेक्‍टेड ब्‍लड के संपर्क में आ सकते हैं इसल‍िए आपको साफ-सफाई का ध्‍यान रखने की व‍िशेष जरूरत है। 
  • ज‍िन व्‍यक्‍त‍ियों को इंजेक्‍शन के जर‍िए क‍िसी बीमारी की दवा दी जाती है, उन्‍हें साफ नीडल लगे ये सुन‍िश्‍च‍ित करना चाह‍िए।
  • अगर आपके घर पर क‍िसी को हेपेटाइट‍िस बी की बीमारी है तो उससे उच‍ित दूरी रखें।

इसे भी पढ़ें- पुरुषों की प्रजनन क्षमता (फर्टिलिटी) से जुड़ी इन अफवाहों को आप भी मानते हैं सही? जानें इनकी सच्चाई

2. एचपीवी वैक्‍सीन (HPV vaccine)

hpv vaccine

(image source:ccphohio)

एचपीवी वैक्‍सीन की तीन डोज़ लगती है, ज‍िसमें से पहली डोज़ आप 21 या उससे कम उम्र में लगवाएं। दूसरी डोज़ दो महीने बाद लगती है और तीसरी डोज़, पहली डोज़ के छह महीने बाद लगाई जाती है। कम उम्र में ये डोज लग जाने से आगे चलकर वायरस से बचाव संभव होता है।

क्‍या है एचपीवी इंफेक्‍शन? (What is HPV infection)

ह्यूमन पैपिलोमा वायरस यानी एचपीवी एक इंफेक्‍शन है ज‍िसके 40 से ज्‍यादा प्रकार मौजूद हैं। ज‍िन पुरुषों में एचपीवी के लक्षण न नजर आ रहे हों उनमें इसकी पहचान कर पाना मुश्‍क‍िल हो जाता है। इसल‍िए आपको समय-समय पर जांच करवाते रहना चाह‍िए। एचपीवी के कारण आपको कैंसर होने का भी डर रहता है इसलि‍ए बचाव जरूरी है। एचपीवी वायरस हवा के जर‍िए नहीं फैलता है। अगर आप एचपीवी वैक्‍सीन की डोज़ लेने जा रहे हैं तो डॉक्‍टर को इससे जुड़ी जानकारी पहले से दें ताक‍ि उन्‍हें आपको वैक्‍सीन देनी है या नहीं इसके बारे में जानने में आसानी हो। 

एचपीवी इंफेक्‍शन से बचने के ल‍िए पुरुष क्‍या करें? (How to prevent HPV infection in men)

  • ज‍िन पुरुषों की रोग प्रत‍िरोधक क्षमता कमजोर है या क‍िसी बीमारी के कारण कमजोर हो रही है उन्‍हें एचपीवी इंफेक्‍शन होने का खतरा ज्‍यादा रहता है। 
  • जो पुरुष तंबाकू खाते हैं, शराब का सेवन करते हैं या पान बहुत खाते हैं उन्‍हें भी एचपीवी इंफेक्‍शन होने का डर रहता है।
  • एचपीवी हाथ म‍िलोने या टॉयलेट सीट को छूने से फैल सकता है, इसलि‍ए आपको बॉथरूम का इस्‍तेमाल करते समय सावधानी बरतनी चाह‍िए।
  • अगर आपके पार्टनर को एचपीवी है तो आपको पार्टनर के साथ संबंध बनाने से बचना चाह‍िए।

इसे भी पढ़ें- पुरुषों के लिए कौन सा अंडरवियर है बेस्ट? यूरोलॉजिस्ट से जानें गलत अंडरवियर कैसे पहुंचाता है पौरुष को नुकसान

3. हेपेटाइटिस ए वैक्‍सीन (Hepatitis A vaccine)

vaccine

(image source:ccphohio)

हेपेटाइटिस ए भी बी की तरह ही एक गंभीर रोग है ज‍िससे लीवर से जुड़ी समस्‍याएं होती है, अगर इस बीमारी से जुड़ी वैक्‍सीन न लगे तो कैंसर होने का खतरा भी रहता है। हेपेटाइट‍िस ए, दूष‍ित खाने और पानी से फैल सकता है। हेपेटाइट‍िस ए वैक्‍सीन की दो डोज़ होती हैं और दोनों के बीच छह महीने का गैप द‍िया जाता है। अगर आप व‍िदेश में ट्रैवल करने जा रहे हैं तो आपको ये वैक्‍सीन लगवा लेनी चाह‍िए।

क्‍या है हेपेटाइट‍िस ए? (What is Hepatitis A)

हेपेटाइट‍िस ए वायरस से होने वाली बीमारी है जो मुख्‍य तौर पर लि‍वर को प्रभाव‍ित करता है। हेपेटाइट‍िस ए संक्रम‍ित मां से भी श‍िशु को हो सकता है। कई गंभीर मामलों में मरीज की जान भी जा सकती है। हेपेटाइट‍िस ए होने पर आपको लिवर में सूजन, पील‍िया, आंखें पीला होना, भूख में कमी, बुखार, जी म‍िचलाना, दस्‍त, थकान, जोड़ों में दर्द, पेट में दर्द आद‍ि समस्‍याएं हो सकती हैं। हेपेटाइटिस ए की जांच के ल‍िए लीवर फंक्‍शन टेस्‍ट क‍िया जाता है, अगर आपको हेपेटाइट‍िस ए है तो लक्षण 15 से 45 द‍िनों में नजर आते हैं।

हेपेटाइट‍िस ए से बचने के ल‍िए पुरुष क्‍या करें? (How to prevent Hepatitis A in men)

  • अगर आपके पार्टनर को हेपेटाइट‍िस ए की बीमारी है तो आपको उसके साथ संबंध बनाने से बचना चाह‍िए। 
  • हेपेटाइटि‍स ए से बचने के ल‍िए आपको दूष‍ित पानी और खाने से बचना चाह‍िए।
  • इसके अलावा आपको बॉथरूम को इस्‍तेमाल करने के बाद हाथों को साबुन को अच्‍छी तरह से साफ करना चाह‍िए।
  • अपने आसपास आपको सफाई बनाकर रखनी चाह‍िए। 

वैक्‍सीन से जुड़ी क‍िसी भी जानकारी के ल‍िए अपने घर के नजदीक बने स्‍वास्‍थ्‍य केंद्र से संपर्क करें या अपने डॉक्‍टर से इससे जुड़ी जानकारी हास‍िल करें। 

(main image source:pharmaceutical)

Read more on Men Health in Hindi 

Disclaimer