Doctor Verified

जन्‍म के बाद नवजात श‍िशु को पूरी तरह स्वस्थ रखने के लिए जरूरी हैं ये 6 बातें

नवजात श‍िशु को हेल्‍दी रखने के ल‍िए अपनाएं ये 6 आसान ट‍िप्‍स 

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurPublished at: Apr 14, 2022Updated at: Apr 14, 2022
जन्‍म के बाद नवजात श‍िशु को पूरी तरह स्वस्थ रखने के लिए जरूरी हैं ये 6 बातें

नवजात श‍िशु की सेहत नाजुक होती है, जरा सी लापरवाही के चलते उसकी तबीयत ब‍िगड़ सकती है, नवजात श‍िशु के जन्‍म लेने के साथ बीमार‍ियां उससे नाता जोड़ सकती हैं और बीमार‍ियों से बचाने के ल‍िए आपको श‍िशु को सुरक्ष‍ित रखने के ल‍िए कुछ जरूरी ट‍िप्‍स को फॉलो करना चाह‍िए। इस लेख में हम 6 ऐसे आसान ट‍िप्‍स के बारे में बात करेंगे ज‍िन्‍हें फॉलो करके आप बच्‍चे की अच्‍छी सेहत सुन‍िश्‍च‍ित कर सकते हैं। इस व‍िषय पर बेहतर जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के केयर इंस्‍टिट्यूट ऑफ लाइफ साइंसेज की एमडी फ‍िजिश‍ियन डॉ सीमा यादव से बात की।

newborn vaccine

image source: static.one

1. समय पर नवजात श‍िशु को टीके लगवाएं (Vaccination for newborn)

आपको नवजात श‍िशु की सेहत का ख्‍याल रखने के ल‍िए नवजात श‍िशु और उसके आसपास के लोग दोनों को वैक्‍सीनेट करके रखना होगा। श‍िशु को जन्‍म के बाद एक माह के बाद टीका लगता है और आगे लगने वाले टीके का कार्ड भी डॉक्‍टर दे देते हैं ज‍िससे आपको तारीख याद रखने में दि‍क्‍कत न हो। ट्रेन्‍ड टैक्‍नीश‍ियन से ही नवजात श‍िशु का वैक्‍सीनेशन करवाएं। इसके अलावा श‍िशु के पर‍िजन या उसके पास रहने वाले लोग जैसे माता-प‍िता व अन्‍य सदस्‍यों का भी टीकाकारण जरूरी है, अगर आपका कोई डोज छूटा हुआ है तो उसे जरूर करवा लें।   

इसे भी पढ़ें- नींद में क्यों रोते हैं बच्चे? जानें इसके कारण और उन्हें शांत करने के तरीके

2. नवजात श‍िशु के ल‍िए हाइड्रेशन है जरूरी 

श‍िशु के हाइड्रेशन का ख्‍याल रखें। हाइड्रेशन ठीक रहेगा तो बच्‍चे का रेस्‍प‍िरेटरी ट्रैक भी अच्‍छा रहेगा। आप चाहें बच्‍चे को ब्रेस्‍ट म‍िल्‍क प‍िलाएं या फॉर्मूला म‍िल्‍क श‍िशु का हाइड्रेशन अच्‍छा होना चाह‍िए। एक द‍िन में आप श‍िशु के 4 से 6 नैपी बदले जाएं इतना हाइड्रेशन जरूरी होता है। 

3. नवजात श‍िशु को इंफेक्‍शन से कैसे बचाएं? (How to prevent infection in newborn) 

  • आप श‍िशु को इंफेक्‍शन से बचाने के ल‍िए जरूरी ट‍िप्‍स ट्राय करें- 
  • श‍िशु को रोजाना न भी नहलाएं तो स्‍पंज से जरूरी क्‍लीन करें।
  • नैपी एर‍िया को आपको ड्राय रखना है और रोजाना गुनगुने पानी और कॉटन टॉवेल की मदद से साफ करना है।
  • आपको श‍िशु को ब्रेस्‍टफीड करवाने के बाद दांत और मुंह भी साफ पानी से साफ करना है इससे रैशेज की समस्‍या नहीं होगी। 

4. ब्रेस्‍टफीड‍िंग से नवजात को म‍िलेगी इम्यून‍िटी (Importance of breastfeeding for newborn) 

newborn tips in hindi

image source: static.one

वर्ल्ड हेल्‍थ ऑर्गेनाइजेशन के मुताब‍िक ब्रेस्‍टफीड‍िंंग को 6 माह तक जरूर क‍िया जाना चाह‍िए। स्‍तनपान के फायदे बच्‍चों के ल‍िए अनग‍िनत होते हैं। स्‍तनपान का सेवन करने से बच्‍चे की सेहत अच्‍छी रहती है और मां के शरीर को भी एंटीबॉडी म‍िलती है। अगर आपको बच्‍चे को बीमार‍ियों के खतरे से बचाना है तो उसे स्‍तनपान जरूर करवाएं। 

5. नवजात श‍िशु के शारीर‍िक व‍िकास पर गौर करें (Physical growth of newborn) 

नवजात श‍िशु की हेल्‍थ ट्रैक करते रहें, इस बात पर गौर करें क‍ि बच्‍चे का वजन ज्यादा कम तो नहीं है या वो आंखों से ठीक तरह से देख पा रहा है या आपकी बात पर ध्‍यान दे रहा है या नहीं आपको इन बातों का ध्‍यान रखना है। आपको श‍िशु की इम्‍यून‍िटी पर भी गौर करना है, उसे ब्रेस्‍टफीड जरूर करवाएं ताक‍ि बच्‍चे की रोग प्रत‍िरोधक क्षमता बढ़े और उसे बीमार‍ियों से बचने की ताकत म‍िले।       

इसे भी पढ़ें- सोते हुए बच्चे को दूध पिलाने के लिए इन तरीकों से जगाएं, समय पर दूध न पिलाने से हो सकते हैं ये नुकसान  

6. श‍िशु के शरीर का तापमान मेनटेन करें (Maintain temperature of newborn)

आपको श‍िशु के शरीर के तापमान को मेनटेन करना है। श‍िशु को ज्‍यादा गरम या ज्‍यादा ठंडे माहौल में न रखें, इससे बच्‍चे को परेशानी हो सकती है। आपको श‍िशु को रात के दौरान कॉटन ब्‍लैकेट उढ़ाना चाह‍िए साथ ही पसीने से बचाने के ल‍िए गर्मी के द‍िनों में आर्ट‍िफ‍ि‍श‍ियल हवा जैसे ऐसी या कूलर का इस्‍तेमाल नहीं करना चाह‍िए नहीं तो श‍िशु को ठंड लग सकती है।  

इन आसान ट‍िप्‍स को फॉलो करके आप अपने श‍िशु का ख्‍याल रख सकते हैं, उसकी ग्रोथ के ल‍िए समय-समय पर डॉक्‍टर से चेकअप करवाते रहें।  

main image source: ctfassets 

Disclaimer