गठिया (अर्थराइटिस) को जड़ से ठीक करती हैं ये 7 प्रभावकारी जड़ी-बूटियां, जानिए क्‍यों हैं ये फायदेमंद

अगर आपके जोड़ों में दर्द, सूजन और कठोरता है तो यह गठिया के कारण हो सकता है। कुछ आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों का प्रयोग, गठिया के दर्द में आराम दे सकता है।

Monika Agarwal
Written by: Monika AgarwalUpdated at: Mar 02, 2021 10:30 IST
गठिया (अर्थराइटिस) को जड़ से ठीक करती हैं ये 7 प्रभावकारी जड़ी-बूटियां, जानिए क्‍यों हैं ये फायदेमंद

आम तौर पर अर्थराइटिस (गठिया) को बूढ़े लोगों की बीमारी कहा जाता थी जोकि कुछ हद तक सही भी है क्योंकि यह 60 साल से ऊपर के लोगों में ही देखने को मिलती थी। लेकिन आजकल यह स्थिति 20 साल के लोगों में भी देखने को मिल रही है। यह एक ऑटो इम्यून डिजीज है जिसका अर्थ है आपका इम्यून सिस्टम गलती से अपनी ही सेल्स को नष्ट करना शुरू कर देता है। इसमें आपके जोड़ धीरे धीरे ज्यादा कठोर बनते जाते हैं। जिस कारण वह अकड़ जाते हैं और आपके जोड़ों में ज्यादा दर्द होना शुरू हो जाता है जो गठिया (Arthritis) कहलाता है। और इस कारण आप ठीक से चल भी नहीं पाते हैं। यदि आप भी गठिया (Arthritis) से पीड़ित हैं तो निम्न कुछ जड़ी बूटियों (Herbs for arthritis pain) का प्रयोग इसके इलाज हेतु कर सकते हैं।

turmeric for gout pain

हल्दी है दर्द की दवा (Haldi Relieves Pain)

हल्दी को उसके चिकित्सक गुणों के लिए भी जाना जाता है। इसमें बहुत सी दर्द को कम करने की प्रॉपर्टीज हैं। इसमें कर्क्यूमिन पाया जाता है जोकि सूजन को कम करता है और धीरे धीरे गठिया के दर्द को भी कम करने में सहायक माना जाता है। यदि आपको हल्दी के पूरे लाभ चाहिए तो इसे आप सप्लीमेंट के रूप में खा सकते हैं। इसे आप दर्द की जगह पर अप्लाई भी कर सकते हैं उससे भी आपको दर्द में राहत मिलेगी।

इसे भी पढ़ेंकुछ ही दिनों में गठिया दर्द से छुटकारा दिलाता है ये घरेलू उपाय

बरडॉक जड़ है लाभकारी (Fox roots soothing properties)

इन्हें फॉक्स रूट के नाम से भी जाना जाता है और यह चौड़े पत्तों वाली एक जड़ीबूटी होती है। इसमें एंटी इन्फ्लेमेटरी गुण पाए जाते हैं। यह ड्राई रूट पाउडर की फॉर्म में उबलब्ध है। यदि आपको गठिया का अधिक दर्द होता है तो आप इस पाउडर को दिन में दो बार ले सकते हैं। 

ginger for gout pain

अदरक है गुणों की खान (Ginger Lowers the Pain)

अदरक सालों से सूजन को कम करने के लिए प्रयोग किया जा रहा है। यह हमारे शरीर से प्रोस्टाग्लैंडीन की मात्रा कम करता है और गठिया को ठीक करता है। ड्रग्स के मुकाबले अदरक का प्रयोग करने से आपका गठिया जल्दी ठीक हो सकता है। यह जी घबराना, मासिक धर्म के दौरान होने वाले दर्द व सिर दर्द को ठीक करने में भी सहायक माना जाता है।

विलो का तना है दर्द निवारक (Painkiller the Willow Bark)

यह गठिया को ठीक करने वाला सबसे पुरानी जड़ी बूटियों में से एक है। इसे आम तौर पर सूजन को ठीक करने के लिए प्रयोग किया जाता है। इसमें एस्पिरिन के जैसे कंपाउंड होते हैं जोकि हल्के से लेकर गम्भीर घुटनों के दर्द को ठीक करने में सहायक होता है। यह सभी ज्वाइंट पेन को ठीक करने में सहायक होता है। आप इसे चाय में ले सकते हैं या इसके सप्लीमेंट भी ले सकते हैं। इसको अधिक मात्रा में लेने से रैश व एलर्जी हो सकती हैं इसलिए इसका सेवन करते समय मात्रा का पूरा ध्यान रखें।

नेटल्स है प्रभावकारी (Nettles are Effective)

यह हर प्रकार के गठिया का इलाज करने में सहायक माना जाता है। इसमें बहुत से पोषण के साथ साथ एंटी इन्फ्लेमेटरी गुण भी पाए जाते हैं जोकि गठिया के दर्द को कम करते हैं और हड्डियों को मजबूत बनाते हैं। नेटल की पत्तियों पर छोटे छोटे बाल होते हैं जिसमें हाई सिलिकॉन कंटेंट होता है। जब वह पत्तियां स्किन को छूती हैं तो उसके कंपाउंड हमारे शरीर के अंदर चले जाते हैं। यह कंपाउंड आपके गठिया के दर्द को कम करने में लाभदायक होती हैं।

इसे भी पढ़ें : मंजिष्ठा: मजीठ पौधे की जड़ 'मंजिष्ठा' में होते हैं कई औषधीय गुण, आयुर्वेदाचार्य से जानें इसके 9 फायदे

थंडर गोड वाइन देती है आराम (Thunder God Vine Supress Pain)

यह जड़ीबूटी चाइनीज दवाइयों में प्रयोग की जाती है। इसकी जड़ों का एक्सट्रेक्ट हमारे इम्यून सिस्टम जोकि इस दौरान ओवर एक्टिव होता है उसे कम एक्टिव करता है। इसका ज्यादातर प्रयोग टॉपिकल क्रीम्स के रूप में किया जाता है। साइड इफेक्ट्स से बचने के लिए आपको अपने डॉक्टर से बात कर लेनी चाहिए।

mulethi for gout pain

मुलेठी है असरदार (Licorice Helps to Reduce Pain)

मुलेठी में एक कंपाउंड पाया जाता है जो इन्फ्लेमेशन से आपको राहत दिलाता है। यह फ्री रेडिकल्स से लडने में सहायक होता है और आपके शरीर को उन एंजाइम्स से बचाता है जो सूजन की प्रक्रिया में शामिल होते हैं। मुलेठी की जड़ किसी भी हर्बल स्टोर पर ड्राई फॉर्म, पाउडर फॉर्म व कैप्सूल्स आदि के रूप में उपलब्ध होता है। 

ये सभी हर्ब्स़ एंटी इन्फ्लेमेटरी गुणों से भरपूर हैं इसलिए काफी हद तक आपको दर्द से राहत दिला सकती हैं। लेकिन इनका सेवन चिकित्सक से सलाह लेकर करें।

Read More Articles On Ayurveda in Hindi

 

Disclaimer