पेट के अल्‍सर से लेकर त्‍वचा और बालों के लिए फायदेमंद हो सकता है मुलेठी, शहद और मिश्री का कॉम्‍बीनेशन

मुलेठी, शहद और मिश्री तीनों ऐसे अद्भुत चीजें हैं, जिनका यदि आप एक साथ सेवन करते हैं, तो आपकी कई स्वास्थ्य समस्याएं दूर हो सकती हैं।

Sheetal Bisht
Written by: Sheetal BishtPublished at: Oct 03, 2020
पेट के अल्‍सर से लेकर त्‍वचा और बालों के लिए फायदेमंद हो सकता है मुलेठी, शहद और मिश्री का कॉम्‍बीनेशन

आजकल हर कोई किसी न किसी बीमारी से पीड़ित है। इसके पीछे मुख्य कारण जीवनशैली और आहार संबंधी आदतें हैं। यही वजह है कि आप कभी न कभी इस कारण किसी बीमारी से ग्रस्‍त हो सकते हैं। हालांकि, आपके स्‍वास्‍थ्‍य से जुड़ी अलग-अलग समस्‍याओं के लिए अलग-अलग दवाएं हैं, लेकिन यहां हम आपको आपकी अधिकांश सामान्य बीमारियों के लिए एक वन-स्टॉप समाधान बताते हैं। हो सकता है आपको यकीन करना मुश्किल हो, लेकिन यह सच है। आयुर्वेद में एक ऐसा गुप्त नुस्खा है, जो कई बीमारियों के इलाज और उनसे निपटने में फायदेमंद हो सकता है। जी हां, हम बात कर रहे हैं मुलेठी, शहद और मिश्री यानि रॉक शुगर के बारे में। मुलेठी का उपयोग आमतौर पर खांसी और सर्दी के लिए एक उपाय के रूप में किया जाता है। लेकिन ठंड जैसे मामूली रोगों के साथ, यह कई अन्य बड़ी बीमारियों के लिए भी इस्तेमाल की जा सकता है। इसी तरह शहद के भी अपने औषधीय लाभ हैं। वहीं मिश्री यानि रॉक शुगर भी एक अच्छा घटक है। इन तीनों के अपने अलग-अलग फायदे तो हैं ही, लेकिन अगर इन्‍हें एक साथ मिला दिया जाए, तो ये तीनों एक महान औषधी बन सकते हैं। 

औषधीय गुणों से भरपूर, मुलेठी कैल्शियम, ग्लिसराइक एसिड, एंटी-ऑक्सीडेंट, एंटीबायोटिक, प्रोटीन और वसा से भरपूर होता है। आइए यहां हम आपको बताते हैं कि यदि आप मुलेठी, शहद और मिश्री के कॉम्‍बीनेशन को आजमाते हैं, तो यह आपके लिए कितना फायदेमंद है। 

पेट के अल्सर और कमजोरी से छुटकारा

अगर आपको हमेशा थकान महसूस होती है तो आप 1 ग्राम मुलेठी पाउडर को 1 चम्मच घी और 1 चम्मच शहद के साथ गर्म दूध के साथ सेवन करें। इससे आपकी थकान और कमजोरी दूर होगी। इसके अलावा, पेट के अल्सर की समस्या के मामले में, आप 1 चम्मच मुलेठी पाउडर को 1 गिलास दूध में मिलाकर दिन में 2 या 3 बार पी सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: इंफ्लेमेशन को कम करने से लेकर त्‍वचा और बालों के लिए भी फायदेमंद है सरू (Cypress), जानें इसका उपयोग

Ulcer

ब्रेस्‍टफीडिंग कराने वाली महिलाओं के लिए फायदेमंद 

यदि आप उन महिलाएं में से हैं, जिन्‍हें ब्रेस्‍टफीडिंग में परेशानी हो रही है या दूध उत्पादन नहीं हो रहा है, तो उन्‍हें मुलेठी का सेवन करना चाहिए। इसके लिए आप एक गिलास उबले हुए दूध में 2 बड़े चम्मच मुलेठी पाउडर, 3 चम्मच शतावरी पाउडर और 2 ग्राम मिश्री और 1 चम्‍मच शहद मिलाएं। यह महिलाओं में दूध उत्पादन को बढ़ाता है। आप दूध उत्‍पादन को बढ़ावा के लिए कुछ आयुर्वेदिक उपाय भी अपना सकते हैं। 

पीरियड्स के दौरान 

आप पीरियड्स के दौरान अनियमित पीरियड्स या पीरियड्स में होने वाले असहनीय दर्द से राहत पाने के लिए भी मुलेठी का उपयोग कर सकते हैं। मासिक धर्म के दौरान हैवी ब्‍लीडिंग की समस्या के लिए, 2 चम्मच मुलेठी पाउडर और 4 ग्राम मिश्री को पानी में मिलाएं। फिर आप इसका सेवन करें, इसका सेवन करने से मासिक धर्म के दर्द में राहत और हैवी ब्‍लीडिंग में मदद मिलेगी।

इसे भी पढ़ें: चेहरे की सुंदरता से लेकर बालों को स्‍वस्‍थ रखने तक फायदेमंद है नाभि थेरेपी

दिल से जुड़ी बीमारियों में फायदेमंद 

मुलेठी के नियमित सेवन से हृदय रोग को दूर रखा जा सकता है। इसके लिए आप 2 ग्राम मुलेठी और 2 ग्राम कुटकी के चूर्ण के साथ 4 ग्राम मिश्री लें। इन्‍हें आप एक गिलास पानी में मिलाएं और इसे रोजाना दो बार से ज्यादा न पियें। अगर आपको दिल की बीमारियों के अलावा कोई अन्‍य बीमारी या समस्या है, तो इसमें भी आपको इससे फायदा मिलेगा। 

Mulethi Tea

त्वचा और बालों के लिए

मुलेठी आपकी त्वचा के साथ-साथ गिरते बालों की समस्‍या के लिए भी बहुत फायदेमंद है। मुलेठी और आंवला पाउडर को पानी में मिलाकर सेवन करने से आपकी त्वचा को स्वस्थ और बालों को चमकदार बनाए रखा जा सकता है। इसके अलावा, यदि आप बालों के झड़ने या सफ़ेद होने से परेशान हैं, तो आपको 50 ग्राम मुलेठी, 750 ml आंवला स्वरस और 750 ml तिल का तेल लेना चाहिए। अब आप इन्हें मिलाएं और इस मिश्रण को हफ्ते में 3 दिन अपने बालों पर लगाएं। इससे आपको बालों के गिरने की समस्‍या से छुटकारा मिलेगा। 

ये कुछ स्वास्थ्य समस्‍याएं हैं, जिनमें मुलेठी या मुलेठी के साथ शहद और मिश्री का सेवन करने से मदद मिलती है। ये मुलेठी का उपयोग करने के कुछ तरीके हैं। जिनकी मदद से  आप निश्चित रूप से किसी भी दुष्प्रभाव का अनुभव किए बिना राहत पा सकते हैं। 

Read More Article On Ayurveda In Hindi 

Disclaimer