3 महीने के बाद भी दिख सकते हैं COVID-19 के लक्षण, हालिया शोध ने किया खुलासा

कोरोनावायरस की जंग इतनी आसान है, तो आप गलत हैं, क्‍योंकि हालिया शोध कहता है कि कई लोग 3 महीने से अधिक समय तक कोविड -19 लक्षणों का अनुभव करते हैं। 

Sheetal Bisht
Written by: Sheetal BishtUpdated at: Oct 14, 2020 08:11 IST
3 महीने के बाद भी दिख सकते हैं COVID-19 के लक्षण, हालिया शोध ने किया खुलासा

कोरोनावायरस महामारी हम सबके लिए एक कहर बनकर आई है, जिसने लोगों की जिंदगी को तहस-नहस कर दिया। कुछ लोग इस घातक वायरस से संक्रमित होकर अपनी व अपनों की जान गवां बैठे, तो कुछ के जीवन में इस वायरस नें आर्थिक संकट पैदा कर दिया। सिर्फ कुछ लोगों ही नहीं, बल्कि कोरोनावायरस महामारी का बुरा प्रभाव पूरे देश और उसकी अर्थव्‍यवस्‍था पर भी पड़ा है। 

एक ओर शुरूआत में लोग इस वायरस के खौफ से घरों में कैद थे, लेकिन अब अनलॉक प्रक्रिया शुरू होने के बाद सबकुछ पहले की तहर सामान्‍य होने की तरफ है। लेकिन, फिर भी वायरस का डर आज भी बना है, भले ही लोग इसके प्रति अब लापरवाह हो रहे हों। हम सबको कोरोनावायरस के बारें में टीवी, न्‍यूज पेपर, सोशल मीडिया ग्रुप्‍स आदि पर देख व सुनकर ऐसा लगने लगा है कि हम इस वायरस के बारे में सबकुछ जानते हैं। जबकि ऐसा नहीं है, क्‍योंकि लगातार इस वायरस से जुड़ी नई रिसर्च इस पर कुछ न कुछ नया बिंदु सामने लेकर आ रही हैं। ऐसे ही एक बिंदू पर हालिया शोध ने प्रकाश डाला है, जिसमें पाया गया है कि जरूरी नहीं कि कोरोनावायरस के लक्षण कुछ दिनों या हफ्तों में महसूस हों, बल्कि कुछ लो 3 महीने या उससे अधिक समय में कोविड-19 के लक्षणों का अनुभव कर सकते हैं। आइए इस रिसर्च के बारे में विस्‍तार से जानने के लिए लेख को आगे पढ़ें। 

COVID-19 Symptoms

महीनों तक रह सकते हैं कोविड-19 के लक्षण  

अब तक हम सब यह तो जान ही चुके हैं कि कोविड-19 की यह दौड़ काफी लंबी है। अध्‍ययनो में पाया गया है कि कोविड-19 के लक्षण महीनों के लिए हो सकते हैं।  जी हां, हालिया कुछ अध्‍ययन हैं, जो कहते हैं कि बीमार होने के तीन महीने बाद भी कई कोविड-19 रोगियों में लक्षण रहते हैं। इसके अलावा,  प्रारंभिक संक्रमण जितना अधिक गंभीर व चरम पर होगा, लगातार स्‍वास्‍थ्‍य समस्याओं का खतरा उतना ही अधिक होगा।

इसे भी पढ़ें: बचपन में अस्‍थमा और फूड एलर्जी से बढ़ सकती है भविष्‍य में इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम की संभावना

क्‍या कहती है रिसर्च?

इस अध्‍ययन को करने के लिए स्‍पेन में डॉक्‍टरों ने कोविड-19 के 108 रोगियों की वापस जांच की, जिसमें कि 44 गंभीर रूप से बीमार थे। जिसके बाद उन रोगियों के इलाज के 12 सप्‍ताह बाद उनकी जांच की गई, जिसमें पाया गया कि 76% ने अभी भी बाद के प्रभावों की सूचना दी, 40% तीन या उससे अधिक कोरोनोवायरस-संबंधी स्वास्थ्य मुद्दों की रिपोर्ट दी। 

Research On COVID

इसके अलावा, 233 अमेरिकी कोविड -19 रोगियों में भी एक समान जांच क - जिनमें से 8 गंभीर रूप से बीमार थे और इनमें 4 में से एक में पहले बीमार होने के 90 दिन बाद भी लक्षण थे। इस प्रकार कोविड-19 से जुड़ी इन स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याओं और लक्षणों में सबसे आम शिकायतों में सांस की तकलीफ, शारीरिक कमजोरी, खांसी, सीने में दर्द, अनियमित दिल की धड़कन और मनोवैज्ञानिक व संज्ञानात्मक विकार शामिल थे।

इसे भी पढ़ें:  COVID-19 से रिकवरी के बाद रोगी हो सकते हैं पोस्ट-ट्रॉमैटिक स्ट्रेस डिसऑर्डर और ब्रेन फॉग का शिकार

लेखक ने रविवार को मेडरिक्स के हवाले से बताया, " कोरोनावायरस एसिम्प्टोमैटिक यानी बिना लक्षण वाले मरीजों बहुत हल्के लक्षण थे। जिसमें 14.3% में 30 दिन या उससे अधिक समय तक बनी रहने वाली जटिलताएं शामिल थी।"

वहीं, अमेरिका के अध्ययन में सबसे आम लक्षणों में गंध और स्वाद में बदलाव या कमी, ध्यान केंद्रित करने में कठिनाई, सांस की तकलीफ, मेमोरी लॉस होना, भ्रम, सिरदर्द, अनियमित दिल की धड़कन, सीने में दर्द, गहरी सांसों के साथ दर्द, चक्कर आना आदि लक्षण थे।

इसलिए कोविड-19 की जटिलताओं को समझते हुए, इससे संक्रमित हुए व्‍यक्ति को लंबे समय तक अच्‍छी देखभाल की जरूरत होती है। जब तक कि इसकी वैक्‍सीन नहीं बन जाती, तब तक हम सभी को सर्तकता के साथ इस घातक वायरस से निपटने के लिए तैयार रहने की आवश्‍यकता है। 

Read More Article On Health News In Hindi 

Disclaimer