बचपन में अस्‍थमा और फूड एलर्जी से बढ़ सकती है भविष्‍य में इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम की संभावना

अध्‍ययन से पता चलता है कि बचपन में अस्‍थमा और फूड एलर्जी 16 साल या उसके बाद की उम्र में इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम के बढ़ते जोखिम से जुड़ी है।

Sheetal Bisht
Written by: Sheetal BishtUpdated at: Oct 13, 2020 08:20 IST
बचपन में अस्‍थमा और फूड एलर्जी से बढ़ सकती है भविष्‍य में इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम की संभावना

3rd Edition of HealthCare Heroes Awards 2023

क्‍या आपके छोटे बच्‍चे को अस्‍थमा या फिर फूड एलर्जी है? अगर हां, तो यह उसके लिए भविष्‍य में जोखिम पैदा कर सकते हैं। जी हां, हाल में हुए एक अध्‍ययन में पाया गया है कि 12 साल की उम्र में अस्‍थमा और फूड एलर्जी या फिर भोजन की अतिसवेंदनशीलता 16 साल या उसके बाद की उम्र में इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम के बढ़ते जोखिम के साथ जुड़ी है। यह अध्‍ययन UEG वीक वर्चुअल 2020 में प्रस्‍तुत किया गया। आइए यहां इस अध्‍ययन को विस्‍तार से जाननें के लिए इस लेख को आगे पढ़ें। 

अस्‍थमा और फूड एलर्जी बढ़ा सकती हैं इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम का खतरा 

स्वीडन के स्टॉकहोम में गोथेनबर्ग विश्वविद्यालय और करोलिंस्का इंस्टीट्यूट में किए गए शोध में 16 साल की उम्र तक के 2,770 बच्चों के स्वास्थ्य का विश्लेषण किया गया था। जिसमें कि 16 साल की उम्र में IBS यानि इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम के साथ लगभग दो बार अस्थमा होने की संभावना थी। 

शोध से यह भी पता चला कि अस्थमा, फूड एलर्जी और एक्जिमा सभी 16 वर्षों में समवर्ती IBS यानि इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम के बढ़ते जोखिम से जुड़े थे।

इसे भी पढ़ें: COVID-19 से रिकवरी के बाद रोगी हो सकते हैं पोस्ट-ट्रॉमैटिक स्ट्रेस डिसऑर्डर और ब्रेन फॉग का शिकार

Asthma And IBS

जनसंख्या-आधारित कॉहोर्ट अध्ययन का नेतृत्व स्वीडन के गोथेनबर्ग विश्वविद्यालय में मेडिसिन इंस्‍टीट्यूट से डॉ. जेसिका सजोलुंड द्वारा किया गया था। "इस बड़े अध्ययन में पाया गया संघों का सुझाव है कि आम एलर्जी संबंधी बीमारियों और एडोलसेंट इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम के बीच एक साझा पैथोफिज़ियोलॉजी है।" उन्‍होंने कहा, "हम जानते थे कि एलर्जी और प्रतिरक्षा डिसरेगुलेशन को इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम के विकास में एक भूमिका निभाने का सुझाव दिया गया था। लेकिन एलर्जी से संबंधित बीमारियों और इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम पर पिछले अध्ययन विरोधाभासी हैं। यह ज्ञान किशोरों के लिए बेहतर उपचार विधियों को विकसित करने के लिए खुल सकता है। IBS यानि इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम इन एलर्जी संबंधी बीमारियों में देखी जाने वाली निम्न श्रेणी की सूजन की प्रक्रियाओं को लक्षित करता है। ”

इसे भी पढ़ें: कोविड-19 महामारी ने पुरूषों की तुलना में महिलाओं को किया है ज्‍यादा प्रभावित, चिंता और उदासी के बढ़े मामले

Asthma And Food Allergies In Childhood

अध्‍ययन के परिणाम 

अध्ययन के दौरान, बच्चों और माता-पिता से 1, 2, 4, 8, 12 और 16 साल की उम्र में अस्थमा, एलर्जी राइनाइटिस, एक्जिमा और फूड एलर्जी के बारे में प्रश्नावली को पूरा करने के लिए कहा गया था। जिसमें 16 साल की उम्र में, बच्चों ने रोम III प्रश्नावली पर बाल चिकित्सा गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल लक्षणों पर आधारित सवालों के जवाब दिए, जिससे प्रतिभागियों को IBS, फ़ंक्शन एब्डोमिनल पेन और फंक्‍शन डिस्पेप्सिया में वर्गीकृत किया जा सकता है। यदि किसी को इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम की समस्‍या है, तो उन्‍हें खानपान में सावधा‍नियों के साथ IBS में कुछ व्‍यायाम को करनेे से भी बचना चाहिए।   

IBS दस लोगों में से एक से अधिक 2 को प्रभावित करता है और सबसे आम फंक्‍शनल गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल डिसऑर्डर है। यह पेट में ऐंठन, सूजन, दस्त या कब्ज के साथ रोगियों के लिए बेहद अक्षम हो सकता है। IBS जैसे फंक्‍शनल गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल डिसऑर्डर के निदान में अक्सर कठिनाइयां होती हैं और IBS या कब्ज के लक्षणों वाले तीन लोगों में से सिर्फ एक हेल्‍थ केयर पेशेवर से परामर्श करें। 

Read More Article On Health News In Hindi 

Disclaimer