गाय के गोबर से बनी ये चिप रेडिएशन को रोकने में है मददगार, राष्ट्रीय कामधेनु आयोग ने की लॉन्च

राष्ट्रीय कामधेनु ओयाग ने इस दीपावली गाय के गोबर के उत्पादों को बढ़ावा देने के लिए शुरू किया ये अनोखा अभियान।

Vishal Singh
लेटेस्टWritten by: Vishal SinghPublished at: Oct 13, 2020Updated at: Oct 13, 2020
गाय के गोबर से बनी ये चिप रेडिएशन को रोकने में है मददगार, राष्ट्रीय कामधेनु आयोग ने की लॉन्च

राष्ट्रीय कामधेनु आयोग (Rashtriya Kamdhenu Aayog) ने इस दीपावली से पहले कामधेनु अभियान की शुरुआत की है, जिसका उद्देश्य गाय के गोबर के उत्पादों को बढ़ावा देना है। वल्लव भाई कथीरिया जो कामधेनु आयोग के अध्यक्ष है, उन्होंने एक संवाददाता सम्मेलन में बताया कि इस दीपावली के अवसर पर देशभर में करीब 33 करोड़ गोबर के दीपक तैयार किए जाएं, साथ ही इसकी मदद से लक्ष्मी गणेश और सजावटी वस्तुओं को भी बनाया जाएगा। 

कथीरिया ने इस अभियान के तहत गोबर से बनी वस्तुओं के फायदे बताएं, जिसमें वल्लव भाई कथीरिया का कहना था कि ये विकिरण यानी रेडिएशन जो मोबाइल से निकलने वाली किरण है उसे रोकने में हमारी मदद करता है, ये हमे कई गंभीर बीमारियों से भी बचाने का काम करेगा और ये वैज्ञानिक रूप से भी सही है। 

health news

रेडिएशन को कम करेगी गोबर से बनाई गई चिप

कथीरिया ने लोगों को बताया कि कैसे गोबर हमे मोबाइल से निकलने वाली रेडिएशन से बचाता है और कैसे हमे स्वस्थ रखता है। कथीरिया का कहना है कि अगर आप अपने घर में इस चिप का इस्तेमाल करते हैं या घर पर रखते हैं तो ये आपको विकिरण से होने वाले नुकसान से बचाने का काम करेगा और आपके घर को भी विकिरणमुक्त करेगा। इसके साथ ही बताया कि ये चिप प्रमाणित नहीं है, लेकिन इसके लिए कई परीक्षण किए गए हैं और ये किसी भी प्रयोगशाला में परीक्षित किया जा सकता है। 

इसे भी पढ़ें: गाय के गोबर-मूत्र, गर्म पानी से नहाने या शरीर पर शराब डालने से नहीं खत्म होगा कोरोना, जानें मिथ और इनकी हकीकत

गौसतवा कवच के नाम से है चीप

गाय के गोबर से बने इस चिप का नाम गौसतवा कवच है, जिसे राजकोट के श्रीजी गौशाला द्वारा तैयार किया गया है। आपको बता दें कि गायों के संरक्षण और विकास के उद्देश्य से त्योहारों के दौरान गाय के गोबर के उत्पादों का इस्तेमाल करने के लिए प्रोत्साहित अभियान शुरू किया है। इस सम्मेलन में कथिरिया ने लोगों से अपील की, कि इस दीपावली के अवसर पर चीनी दीयों का इस्तेमाल न किया जाए और पीएम मोदी द्वारा मेक इन इंडिया अभियान और स्वदेश को बढ़ावा देने के लिए ऐसे दीयों का इस्तेमाल करें। 

इसे भी पढ़ें: 'गोमूत्र, गाय के गोबर से सही हो सकता है कोरोनावायरस'- BJP विधायक दावा कितना सही, कितना गलत? एक्सपर्ट से जानें

गैर सरकारी संगठनों को दिया जाएगा प्रशिक्षण

गाय के गोबर से बनाने वाली वस्तुओं के निर्माण के लिए कामधेनु आयोग कुछ गैर सरकार संगठनों को ये काम सौपेगा और उन्हें इसके निर्माण के लिए प्रशिक्षण देगा। कथीरिया के अनुसार उत्तर प्रदेश और मध्यप्रदेश ने एक-एक लाख दीयों की मांग की है जिन्हें तैयार करवा कर दिया जाएगा। 

 

Read More Article On Health-News In Hindi

 

Disclaimer