गले में खराश, दर्द और खिंचाव का कारण हो सकता है स्ट्रेप थ्रोट, जानें इसके लक्षण और घरेलू उपचार

स्ट्रेप थ्रोट गले में होने वाला इंफेक्शन है। यह एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में भी फैल सकता है। जानें इसके लक्षण और कुछ घरेलू उपचार।

Kunal Mishra
Written by: Kunal MishraPublished at: Apr 02, 2021Updated at: Apr 02, 2021
गले में खराश, दर्द और खिंचाव का कारण हो सकता है स्ट्रेप थ्रोट, जानें इसके लक्षण और घरेलू उपचार

गले में होने वाले दर्द और खराश को मात्र खांसी समझने की गलती ना करें। अगर आपके गले में अधिक दर्द की शिकायत है साथ ही खाना निगलने में तकलीफ भी होती है तो यह स्ट्रेप थ्रोट (Strep Throat) संक्रमण की ओर इशारा कर है। अक्सर हम गले में होने वाली समस्या को सामान्य सर्दी ज़ुकाम का ही कोई लक्षण समझकर नजरअंदाज़ कर देते है, लेकिन यही लापरवाही आगे चलकर गंभीर जटिलताओं में बदल सकती है। स्ट्रैप थ्रोट संक्रमण (Strep Throat Infection) गले में होने वाले ग्रुप ए स्ट्रैपटोकोकस (Group A Streptococcus) जीवाणु के कारण होता है। इस संक्रमण की वजह से गले में बहुत अधिक दर्द और सूजन भी बन जाती है। खाना निगलने में भी कठिनाई होती है। यह बच्चो में काफी सामान्य होता है, लेकिन किसी भी उम्र के लोग इसकी चपेट में आ सकते है। अमूमन 5 से 15 वर्ष तक के बच्चे ही इसका शिकार होते हैं। स्ट्रैप थ्रोट से ग्रस्त होने पर आपको सांस लेने में भी दिक्कतों (Shortness of Breath) का सामना करना पड़ सकता है।

यह आपके गले में आवाज पैदा करने वाले हिस्से को भी क्षति पहुंचा सकता है। हालांकि इसके नाम की तुलना में इसके लक्षणों को आसानी से पहचाना जा सकता है। स्ट्रैप थ्रोट भी कोरोनावायरस (Coronavirus) की तरह एक संक्रामक रोग (Communicable Disease) है, जो एक इंसान से दूसरे इंसान में बहुत जल्दी फैल सकता है। यह समस्या भी आपको मास्क लगाने या मुंह को ढांकने पर मजबूर कर सकती है। यह भी आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होने पर जल्दी फैलता है। स्ट्रेपटोकोकस जीवाणु खांसी और छींक से फैलते हैं। अगर आप किसी स्ट्रेप थ्रोट से संक्रमित व्यक्ति के साथ खाना साझा करते हैं तो यह आपको भी अपनी चपेट में ले सकता है। समय पर इसका इलाज कराने से ये आसानी से ठीक हो जाता है, लेकिन अगर इसमें लापरवाही की जाए या इलाज कराने में देरी की गई तो इसे गंभीर रूप लेने में देर नहीं लगती है। इस लेख के माध्यम से आज हम आपको स्ट्रेप थ्रोट के लक्षण और घरेलू उपचार बताएंगे। 

आइए जानते हैं स्ट्रेप थ्रोट के लक्षण (Symptoms of Strep Throat)

  • गले में खराश  (Sore Throat)
  • बुखार (Fever)
  • सिर में दर्द होना  (Headache)
  • गले में दर्द  (Throat Pain)
  • पेट में दर्द  (Stomach Pain)
  • सांस लेने में कठिनाई (Difficult To Breath)
  • गले के उपरी हिस्से में लाल और सफेद धब्बे   (Red and White Patches )
  • गले में सूजन आना  (Swelling In Throat)
  • जी मचलना और उल्टी आना (Vomiting)
  • खाना निगलने में तकलीफ और दर्द होना  (Pain in Swallowing Food)

स्ट्रेप थ्रोट के कुछ घरेलू उपचार (Home Remedies For Strep Throat)

  • स्ट्रेप थ्रोट के लक्षण होने पर तुरंत चिकित्सक से जांच और इसका सम्पूर्ण इलाज कराना चाहिए। 
  • चिकित्सक द्वारा निर्धारित एंटीबायोटिक दवाओं (Antibiotics) का कोर्स पूरा करना चाहिए। इसके साथ आप कुछ घरेलू उपचार भी अपना सकते है। 
  • स्ट्रेप थ्रोट के मरीजों से कम से कम 2 फिट की दूरी बनाकर रहें। 
  • थोड़ी-थोड़ी देर पर गर्म पानी पिएं।
  • नींबू और अदरक से बनी हर्बल टी का सेवन करें।
  • गुनगुने पानी में नमक मिला कर गरारे करें।
  • इस समस्या में शहद का सेवन भी बहुत लाभकारी होता है।
  • तकलीफ ज़्यादा होने पर गर्म पानी की भाप भी ले सकते हैं।
  • हर थोड़ी देर पर हाथों को धोते रहें।
  • बार-बार अपने मुंह को छूने से बचें। 

करना पड़ सकता है इन समस्याओं का सामना

आमवात ज्वर (Rheumatic Fever)

यह कोई आम बुखार नहीं है बल्कि स्ट्रेप थ्रोट का ठीक से इलाज ना कराने का परिणाम हो सकता है। आमतौर पर इस बुखार को स्ट्रेप थ्रोट की जटिलताओं से ही जोड़ा जाता है। इसका सीधा असर हृदय (Heart) पर पड़ता है। यह इम्यून सिस्टम को भी कमजोर बना देता है। यह समस्या होने पर आपके जोड़ों में दर्द और मांसपेशियों में भी सूजन और दर्द होने की संभावनाएं बढ़ जाती हैं।  

इसे भी पढ़ें - कान की ठीक से सफाई न करने से हो सकती है 'ईयर वैक्स ब्लॉकेज' की समस्या, जानें इसके लक्षण, कारण और बचाव

मिडल इयर इंफेक्शन (Otitis Media)

ठीक से इलाज नहीं कराने पर आपके गले का संक्रमण आपके कान के संक्रमण का भी कारण बन सकता है। ग्रुप A स्ट्रेप्टोकोकल जीवाणु यूस्टेशियन ट्यूब से होकर गले से कान तक पहुंच सकते है और मध्य कान को संक्रमित कर सकते है। कान के पर्दों के पीछे के हिस्सों में सूजन आने से मिडल इयर इंफेक्शन हो जाता है। हालांकि यह बच्चों में देखी जाने वाली आम समस्या है, जो अन्य कारणों से भी हो सकती है। 

throat

निमोनिया (Lung Infection)

निमोनिया वायरस और बैक्टीरिया समेत कई कारणों से हो सकता है। स्ट्रेप थ्रोट फेफड़ों को भी संक्रमित कर निमोनिया दे सकता है। साथ ही इसके कारण जोड़ो और हड्डियों में भी परेशानियां हो सकती है। इसके साथ ही ग्रुप A स्ट्रेप गुर्दों को भी संक्रमित कर सकता है। इसलिए सलाह दी जाती है कि स्ट्रेप थ्रोट के लक्षणों को नजरअंदाज ना करके सही समय पर इलाज करा लेना चाहिए। 

स्ट्रेप थ्रोट की समस्या होने पर तत्काल रूप से चिकित्सक की सलाह लेनी चाहिए। इसमें थोड़ी भी देरी आपको इस लेख में दी गई बीमारियों के घेरे में ला सकती है। लेख में दिए गए घरेलू उपायों का भी सहारा ले सकते हैं, लेकिन उस स्थिति में भी चिकित्सक को दिखाना बेहद जरूरी है। 

Read more Articles on Other Diseases In Hindi

Disclaimer