स्पाइनल ट्यूमर रोग के कारण भी हो सकता है लगातार कमर दर्द, इन तरीकों से करें इसकी पहचान

घंटों एक ही जगह बैठकर कंप्‍यूटर पर काम करने के कारण पीठ दर्द के मरीजों की संख्‍या बढ़ रही है। युवा इसकी चपेट में आ रहे हैं और उनमें यह समस्‍या देखी जा

Vishal Singh
अन्य़ बीमारियांWritten by: Vishal SinghPublished at: Sep 03, 2018
स्पाइनल ट्यूमर रोग के कारण भी हो सकता है लगातार कमर दर्द, इन तरीकों से करें इसकी पहचान

आजकल ज्यादातर लोगों का काम कंप्यूटर पर ही होता है जिसके कारण वो घंटों बैठे रहते हैं, ऐसे में कमर दर्द काफी आम समस्या हो गई है और इसके मरीजों की संख्या लगातरा बढ़ रही है। लेकिन जब तक ये दर्द आम होता है तो ठीक है लेकिन अगर ये गंभीर हो जाए तो आपके लिए मुसीबत खड़ी कर सकता है। दर्द अगर आम नहीं है और आपको लगातार परेशान कर रहा है तो ऐसे में आपको किसी संक्रमण या ट्यूमर (Spinal Tumor) भी हो सकता है। 

रीढ़ की हड्डी में होने वाले ट्यूमर को स्पाइनल ट्यूमर (Spinal Tumor) कहा जाता है, इसे इंट्राड्यूरल ट्यूमर के नाम से भी जाना जाता है। स्पाइनल ट्यूमर किसी एक उम्र वर्ग के लोगों को अपना शइकार नहीं बनाता बल्कि ये किसी भी उम्र के वर्ग को अपना शिकार बना सकता है। लेकिन देखा गया है कि ये ज्यादातर युवा वर्ग और मध्यम आयु वर्ग के लोगों को अपना शिकार बनाता है। इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए कुछ बचाव किए जा सकते हैं लेकिन इसके लिए आपको ये पता होना बहुत जरूरी है कि इसके लक्षण क्या होते हैं। आइए जानते हैं कि स्पाइनल ट्यूमर के लक्षण क्या है और इससे बचाव क्या है।

स्पाइनल ट्यूमर के लक्षण क्या है? 

  • लगातार पीठ दर्द होना। 
  • दर्द दूसरे हिस्सों को भी प्रभावित कर रहा हो। 
  • बैठने और उठने में परेशानी। 
  • चलने-फिरने में तेज दर्द होना। 
  • मांसपेशियों में दर्द महसूस होना। 
  • कूल्हों से दर्द शुरू होना। 
  • कंधों तक दर्द का पहुंचना। 
  • मल-मूत्र संबंधी समस्याएं पैदा होना। 

इसे भी पढ़ें: लगातार होने वाले कमर दर्द से पाना चाहते हैं छुटकारा, तो इन घरेलूू तरीकों से पाएं जल्द राहत

इलाज

ऑपरेशन

स्पाइनल ट्यूमर(Spinal Tumor) की समस्या को दूर करने के लिए ऑपरेशन एक बेहतर विकल्प है। अगर किसी मरीज का ट्यूमर ऑपरेशन के बाद भी नहीं खत्म होता तो उसके लिए रेडिएशन थेरेपी और कीमोथेरेपी का इस्तेमाल किया जाता है। स्पाइनल ट्यूमर के ऑपरेशन के बाद मरीज को स्वस्थ होने में एक हफ्ता या फिर इससे ज्यादा का समय भी लग सकता है। ऑपरेशन के बाद मरीज को कुछ समस्याओं का सामना जैसे ब्लीडिंग और कम संवेदन महसूस हो सकता है। इसके लिए डॉक्टर की ओर से बताई गई चीजों का पालन करना होता है। 

रेडिएशन थेरेपी

जैसा कि हमने आपको पहले ही बताया अगर किसी मरीज का ट्यूमर (Spinal Tumor) ऑपरेशन की मदद से खत्म नहीं होता तो ऐसे में रेडिएशन थेरेपी का सहारा लिया जाता है। रेडिएशन थेरेपी कैंसर और अन्य गंभीर बीमारियों को दूर करने के लिए की जाती है। रेडिएशन थेरेपी की मदद से नुकसानदायक सेल्स को नष्ट किया जाता है, जिससे बीमारी को वहीं रोका जा सकता है।  

इसे भी पढ़ें: गुर्दे की पथरी को बाहर निकालने के लिए इन 4 चीजों का करें सेवन, कुछ ही दिनों में मिलेगी राहत

बचाव

  • नियमित रूप से पीठ को मजबूत करने वाली एक्सरसाइज करें। ध्यान रहें आप किसी ट्रेनर की देखरेख में ही ये एक्सरसाइज करें। एरोबिक, जॉगिंग जैसी एक्सरसाइज आपके लिए फायदेमंद हो सकती है। 
  • लंबे सफर के समय अपनी बॉडी की मूवमेंट जरूर करें, जिससे की आपकी पीठ को आराम मिल सके और आप दर्द से दूर रहें। 
  • कप्यूंटर के सामने काम करते समय आपको सीधे बैठने की कोशिश करनी चाहिए, न कि झुक कर।
  • जब ज्यादा देर तक लगातार बैठना हो तो हर एक-दो घंटे में अपनी सीट से उठकर थोड़ा टहल लें। 
  • अगर भारी वजन उठाने में आपकी कमर में दर्द महसूस होता है तो आप कोशिश करें कि किसी भी तरह का भारी वजन न उठाएं। 

 Read More Articles on Other Diseases in Hindi

Disclaimer