सिक्स पैक एब्स बनाने के आसान तरीके, डायटीशियन स्वाति बाथवाल से जानें 6 हैक्स जिनसे बनेंगे एब्स

अगर आप सिक्स पैक एब्स चाहते हैं, तो डायटीशियन स्वाती बाथवाल के बताए इन टिप्स को जरूर फॉलो करें।

 

Kishori Mishra
Written by: Kishori MishraPublished at: Jul 15, 2021Updated at: Jul 15, 2021
सिक्स पैक एब्स बनाने के आसान तरीके, डायटीशियन स्वाति बाथवाल से जानें 6 हैक्स जिनसे बनेंगे एब्स

क्या आप अपने पसंदीदा शाहरुख, सलमान खान या फिर किसी दूसरे सेलेब्रिटी की तरह सिक्स-पैक एब्स पाना चाहते हैं? या फिर आप अपने शारीरिक बनावट को बेहतर करने के लिए मांसपेशियों को टोन करना चाहते हैं? अगर हां, तो फिर इसके लिए सिर्फ प्रोटीन शेक या फिर एक्सरसाइज ही काफी नहीं होता है। प्रोटीन शेक और एक्सरसाइज के अलावा कई ऐसे कारण होते हैं, जो हमारी मांसपेशियों के लिए फायदेमंद और नुकसानदेय हो सकते हैं। डायटीशियन स्वाती बाथवाल से आज हम ऐसे डाइट और हैक्स के बारे में जानेंगे, जिससे आप अपने फैमिली पैक को सिक्स पैक एब्स में बदल सकते हैं। इस लेख में डायटीशियन द्वारा ऐसे 6 हैक्स बनाए गए हैं, जिससे आप आसानी से सिक्स पैक एब्स बना सकते हैं। चलिए जानते हैं इस बारे में-

बॉडी बिल्डिंग में प्रोटीन का क्या है योगदान?

इस बारे में स्वाती बाथवाल बताती हैं कि प्रोटीन मांसपेशियों के निर्माण और मरम्मत के लिए शरीर को उर्जा प्रदान करता है। यानि शारीरिक विकास में प्रोटीन का अहम योगदान है। अब आप सोच रहे होंगे कि हम तो वेजीटेरियन है, तो प्रोटीन कैसे लें। या कई लोगों की ये सोच है कि सिर्फ चिकन खाने से प्रोटीन मिलता है, लेकिन ऐसा बिल्कुल भी नहीं है। प्रोटीन आपको वेजीटेरियन फूड्स में भी बहुत ही आसानी से मिल सकता है। डायटीशियन स्वाती बाथवाल बताती हैं कि एक व्यक्ति को रोजाना उसके प्रति किलोग्राम वजन के 1.7 ग्राम प्रोटीन की आवश्यकता होती है। यानि अगर आपका वजन 45 किलोग्राम है, तो आपको रोजाना 76 ग्राम प्रोटीन की जरूरत है। ऐसे में अगर आप सिक्स पैक एब्स बनाना चाहते हैं, तो अपने डाइट में प्रोटीन का विशेष ख्याल रखें। 

इसके अलावा रिसर्च से पता चला है कि ज्यादा मात्रा में प्रोटीन लेने से मांसपेशियों को कोई लाभ नहीं होता है। यानि अगर आप सोच रहे हैं कि एक दिन में ज्यादा प्रोटीन लेने से आपकी बॉडी बन जाएगी, तो आप गलत हैं। हालांकि, अतिरिक्त प्रोटीन का इस्तेमाल उर्जा निर्माण में किया जाता है। इसके अलावा शरीर में मौजूद अतिरिक्त प्रोटीन हड्डियों को स्वस्थ रखने, निर्जलीकरण और किडनी को प्रभावित नहीं करता है। 

डायटीशियन स्वाती बाथवाल का कहना है कि अगर आप जानवरों से प्राप्ट प्रोटीन का सेवन ज्यादा मात्रा में करते हैं, तो आपका वजन बढ़ सकता है। यदि आपको यह लगता है कि हमारे शरीर में पौधों से प्राप्त प्रोटीन पर्याप्त नहीं होता है, तो आप गलत हैं। 

इसे भी पढ़ें - स्ट्रेस (तनाव) कम करने के 6 आसान तरीके, जानें डायटीशियन स्वाती बाथवाल से

काफी एक्सरसाइज करने के बाद क्यों नहीं मिलता रिजल्ट?  

हम में से कई लोग ऐसे होते हैं, जो सिक्स पैक एब्स के लिए काफी मेहनत करते हैं, लेकिन उनके मसल्स नहीं बनते हैं। क्योंकि उनकी धारणा यह है कि खूब एक्सरसाइज करो और प्रोटीन लो, तो मसल्स बन जाएंगे। लेकिन यह धारणा बिल्कुल गलत है। इस बारे में स्वाती बाथवाल बताती हैं कि लोगों की यह धारणा बिल्कुल गलत है। हमारा शरीर इस तरह से बिल्कुल काम नहीं करता है। मांसपेशियों के निर्माण में जीन की मुख्य भूमिका होती है। अगर आपके शरीर का जीन मांसपेशियों के निर्माण में सहायक नहीं होगा, तो आपके मसल्स नहीं बनेंने। इसलिए यह बिल्कुल न सोचें कि खूब मेहनत के बाद भी रिजल्ट नहीं मिल रहा है। हो सकता है इसका जिम्मेदार आप नहीं, बल्कि आपका जीन हो।

क्या सिक्स पैक एब्स के लिए जानवरों से प्राप्त प्रोटीन है सही?

सिक्स पैक एब्स के लिए जानवरों से प्राप्त प्रोटीन सही है या पौधों से प्राप्त प्रोटीन? इस बारे में स्वाती बाथवाल का कहना है कि पशुओं से प्राप्त प्रोटीन संतृप्त वसा से भरपूर होता है, जो सेहत के लिए खराब होता है। वहीं, पौधों से सीधे तौर पर प्राप्त प्रोटीन नैचुरल फैट बर्नर होते है। 

स्वाती बाथवाल बताती हैं कि पौधों में मौजूद थैलाकोइड्स (Thalacoids) यौगिक प्रकाश संश्लेषण में मदद करते हैं। इसकी वजह से पौधों में क्लोरोफिल मौजूद होता है। ऐसे में जब हम पत्तेदार साग सब्जियां खाते हैं, तो यह क्लोरोफिल वसा और पाचन एंजाइम को एक साथ बांधता है, जो वसा को अवशोषित कर अवरोध उत्पन्न करता है। ऐसे में साग खाने के बाद आपको किसी फैट लॉस पिल्स या फिर सप्लीमेंट पिल्स खाने की जरूरत नहीं होती है। इसलिए अधिकतर डायटीशियन क्लोरोफिल युक्त साग और पत्तेदार सब्जियां खाने की सलाह देते हैं। ताकि आपके शरीर में मौजूद अतिरिक्त फैट कम हो जाए। इसलिए वर्कआउट के बाद अगर आपको भूख लगे, तो अपने डाइट में साग-सब्जियों जैसे- वीटग्रास, सहजन की पत्तियां, करी पत्तियों को शामिल करें।

बेबी फैट को कैसे करें बर्न?

डायटीशियन का कहना है कि हमारे शरीर में बेबी फैट मौजूद होता है। इसे ब्राउन फैट भी कहते हैं। बेबी फैट को शरीर में गर्मी पैदा करके कम किया जा सकता है। हालांकि. बेबी फैट उम्र बढ़ने के साथ-साथ कम होने लगता है, लेकिन कुछ लोगों में यह फैट अधिक समय तक बना रहता है, जिसकी वजह से वे काफी दुबले-पतले होते है। ब्राउन फैट को आप कुछ खाद्य पदार्थों के जरिए कम कर सकते हैं। हालांकि, इन खाद्य पदार्थों का अधिक मात्रा में सेवन नहीं करना चाहिए। जानते हैं उन खाद्य पदार्थों के बारे में- 

  • अंगूर
  • हल्दी
  • प्याज
  • लाल मिर्च (2 मिली ग्राम से कम करें इसका सेवन)
  • ब्लैक कॉफी
  • ग्रीन टी
  • ब्लैक टी
  • सौंठ

फैट बर्न के लिए मांसपेशियों को रखें सुरक्षित

हाइड्रेट शरीर एक्सरसाइज के दौरान मांसपेशियों को होने वाले नुकसान से बचाते हैं। इसलिए अगर आपसे कोई कहे कि एक्सरसाइज के दौरान पानी न पिएं, तो वह बिल्कुल गलत हैं। डायटीशियन स्वाती बाथवाल का कहना है कि जब हम डिहाइड्रेट रहते हैं, तो ब्लड वॉल्यूम स्रिंक करता है। ऐसे में जब ब्लड श्रिंक के बारे में किडनी को बता चलता है, तो यह एंजियोटेंसिन एंजाइम को रिलीज करने लगता है। हालांकि, यह एंजाइम हमारे शरीर के लिए बहुत ही जरूरी है, क्योंकि यह हमारे प्यास को कंट्रोल करता है। रिसर्च के मुताबिक, शरीर में इस एंजाइम की अधिकता से हमारा वजन बढ़ता है। इसलिए एक्सरसाइज के दौरान अपने शरीर को हाइड्रेट रखें।

BCAA 

इसके बारे में आपने सुना ही होगा। मांसपेशियों को बढ़ाने के लिए इसका सेवन कई लोग कहते हैं। यह एक तरह का एमिनो एसिड होता है। करीब 20 तरह के एमिनो एसिड होते हैं, जिसमें से यह बीसीएए एक है। तीन तरह के एमिनो एसिड ल्यूसीन, आइसोल्यूसीन और वेलिन ब्राउन चेन एमिनो एसिड बनाते हैं, जिसे लोग बीसीएए के रूप में जानते हैं। यह एमिनो एसिड हमारे शरीर में नहीं बनता है, बल्कि इसे खाद्य पदार्थों से प्राप्त किया जाता है। बीसीएए हमारे शरीर में मांसपेशियों को टूटने से रोकता है और एक्सरसाइज के बाद मांसपेशियों में होने वाली परेशानियों को कम करता है। इसलिए अगर आप मसल्स बनाना चाहते हैं, तो अपने डाइट में प्रति दिन करीब 2 से 3 ग्राम बीसीएए को शामिल करें। इससे किसी तरह का साइड-इफेक्ट नहीं होगा।

इसे भी पढ़ें - वैक्सीन लगवाने से पहले और बाद में इन बातों का रखें विशेष ध्यान, स्वाती बाथवाल बता रही हैं टिप्स

अच्छी नींद और स्ट्रेस हार्मोंस को करें कंट्रोल

अच्छी नींद और स्ट्रेस कम लेने से मांसपेशियों का निर्माण बेहतर तरीके से होता है। डायटीशियन का कहना है कि अच्छी नींद लेने से शरीर की रिपेयरिंग होती है। इसके अलावा स्ट्रेस हार्मोंस वजन को घटाने और फैट बर्न की प्रक्रिया में बाधा उत्पन्न करती है। डायटीशियन का कहना है कि जब हम कम सोते हैं, तो तनाव काफी ज्यादा बढता है। इस वजह से शरीर का वजन भी बढ़ने लगता है। इसलिए अधिकतर एक्सपर्ट दिन में करीब 7 से 8 घंटे सोने की सलाह देते हैं। जब हमारे शरीर की बॉडी क्लॉक सही रहती है, तो हमारा शरीर सही तरीकों से काम करता है। 

सिक्स पैक एब्स को बनाने के लिए आप इन सिंपल टिप्स को फॉलो कर सकते हैं। इसके अलावा सही डाइट और नियमित रूप से एक्सरसाइज जरूर करें।  

Image Credit - Pixabay

Read More Articles in Healthy Diet

Disclaimer