क्यों होता है कंधों में दर्द? जानें लक्षण और कारण

कंधे की मांसपेशियों में अकड़न या उनके क्षतिग्रस्त हो जाने के कारण कंधों में दर्द होना शुरू हो जाता है। जानते हैं इसके कारण, लक्षण, बचाव और इलाज

Garima Garg
Written by: Garima GargPublished at: May 31, 2021
क्यों होता है कंधों में दर्द? जानें लक्षण और कारण

कभी-कभी गलत तरीके से उठने-बैठने या शारीरिक गतिविधियों को कम करने के कारण कुछ ऐसी शारीरिक समस्याएं पैदा हो जाती हैं, जिनके कारण कंधों में दर्द शुरू हो जाता है। इस दर्द को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता क्योंकि कंधा शरीर का वह अंग होता है, जिसका इस्तेमाल हम सोते, बैठते, काम करते वक्त आदि के दौरान करते हैं। ऐसे में अगर कंधा क्षतिग्रस्त हो जाए तो रोजमर्रा के कार्यों पर प्रभाव पड़ता है। अब सवाल ये है कि कंधे में दर्द क्यों होता है? तो बता दें कि जब मांसपेशियों में अकड़न आ जाती है या वे कमजोर होने लगती हैं तो यह दर्द बढ़ने लगता है। ये दर्द और भी कारणों से हो सकता है या तो कुछ भारी सामान उठाने से या गलत अवस्था में सोने से। आज का हमारा य लेख इसी विषय पर है। आज हम आपको अपने इस लेख के माध्यम से बताएंगे कि कंधों में दर्द किन कारणों (Shoulder pain causes) से होता है। साथ ही इसके लक्षण (Shoulder pain Symptoms) और उपचार (Shoulder pain Treatment) के बारे में भी जानेंगे। पढ़ते हैं आगे...

 

कंधे में दर्द के लक्षण (symptoms of shoulder pain)

कंधे में दर्द होने के दौरान निम्न लक्षण नजर आ सकते हैं-

1 - बाजू हिलाने में दिक्कत महसूस करना।

2 - प्रभावित क्षेत्र का सुन्न हो जाना।

3 - कंधों में कमजोरी महसूस करना।

4 - हाथों में झनझनाहट महसूस करना।

5 - बाजुओं में दर्द महसूस करना।

अगर स्थिति गंभीर हो जाती है तो कभी-कभी व्यक्ति को चक्कर आने, बुखार, कंधे में हिलाने में कठिनाई, जोड़ो में दर्द, त्वचा का तापमान बढ़ना, छूने पर दर्द महसूस करना आदि लक्षण नजर आने लगते हैं। ऐसे में तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना जरूरी होता है। इसके अलावा यदि व्यक्ति के कंधों पर नील पड़ जाए त्वचा गर्म हो जाए तब भी तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहििए।

इसे भी पढ़ें- इन कारणों से खिसक जाता है कंधा, लक्षणों को पहचानकर जल्द इलाज जरूरी है

कंधों में दर्द के कारण (causes of shoulder pain)

कंधों में दर्द होने के पीछे कुछ आम तो कुछ गंभीर कारण हो सकते हैं। ऐसे में जानते हैं कंधे मं दर्द के निम्न कारण क्या हैं?

1 - रीढ़ की हड्डी में कोई गंभीर चोट लग जाती है तब कंधे में दर्द की समस्या पैदा हो सकती है।

2 - मांसपेशियों में दर्द या अकड़न हो जाने का कारण भी कंधे में दर्द शुरू हो जाता है। यह अकड़न लिगामेंट्स या टेंडन (Tendons - similar to ligaments, both are made of collagen) के कारण भी हो सकती है, जिसके कारण कंधे हिलाने में भी दिक्कत महसूस होती है।

3 - जो व्यक्ति गठिया यानी अर्थराइटिस का शिकार हो जाता है तब भी व्यक्ति के कंधों में दर्द हो सकता है।

4 - रोटेटर कफ टेंडिनाइटिस (Rotator Cuff Injury) के कारण भी व्यक्ति के कंधे में दर्द हो सकता है जो व्यक्ति को इस तरीके की समस्या होती है तो उनके टेंड्स में सूजन आ जाती है और वे रोटेटर कफ टेंडिनाइटिस से ग्रस्त हो जाता है।

5 - जब व्यक्ति के रीढ़ की हड्डी या कंधों में चोट लगती है तब भी कंधों में दर्द की समस्या हो सकती है।

6 - जब कंधे की हड्डी टूट जाती है तब कंधों में तीव्र दर्द हो सकता है।

7 - जब कंधे के आसपास हड्डी उभर जाती हैं यानी बोन स्पर्स (Bone spurs also called osteophytes) की समस्या हो जाती है तब भी कंधे में दर्द शुरू हो सकता है।

इसे भी पढ़ें- Upper Back Pain: ऊपरी कंधे में दर्द के कारण नहीं कर पा रहे हैं आप अपना कोई भी काम? करें ये 5 एक्सरसाइज

8 - जब कंधों के ज्वाइंट के बीच में दूरी आ जाती है तब भी ये समस्या हो सकती है।

9 - जब कंधे के आसपास के क्षेत्र में सूजन आ जाती है यानी बर्साइटिस की समस्या हो जाती है तब भी कंधों में दर्द रहता है।

कंधों में दर्द से बचाव prevention of shoulder pain

1 - एक्सरसाइज समस्या को दूर करने में बेहद उपयोगी है।

2 - इसके अलावा यदि व्यक्ति नियमित रूप से कंधे की एक्सरसाइज करता है तो उसकी मांसपेशियां स्ट्रॉन्ग होती हैं। साथ ही वह जल्दी चोट, सूजन, दर्द आदि का शिकार नहीं होता।.

3 - इसके अलावा दर्द होने पर व्यक्ति गर्म सिकाई या ठंडी सिकाई भी कर सकता है, ऐसा करने से भी समस्या दूर हो जाती है।

4 - दर्द होने पर कंधों को जरूर आराम दें।

5 - भारी सामान को ना उठाएं। खासकर उस कंधे से बिल्कुल काम वा करें जो दर्द से प्रभावित है। वरना दर्द और बढ़ सकता है।

6 - हड्डियों को मजबूत बनाने के लिए स्वस्थ आहार का सेवन करें।

7 - वर्कआउट करने से पहले वार्मअप करना जरूरी है।

8 -सही पोश्चर में बैठें।

9 - काम करने के दौरान बीच-बीच में ब्रेक लेते रहें और लंबे समय तक एक ही अवस्था में बैठने से बचें।

10 - अपनी दिनचर्या में शारीरिक गतिविधियों को जोड़ें। 

इसे भी पढ़ें- गर्दन में जकड़न हो या सिर, कान और कंधे में दर्द, सर्वाइकल स्पॉन्डिलाइटिस से घर पर ऐसे हों ठीक

11 - सोने से पहले तकिये का इस्तेमाल करें। गलत तरीके से तकिये के इस्तेमाल से कंधे में दर्द और बढ़ सकता है।

कंधों में दर्द के उपचार (treatment of shoulder pain)

डॉक्टर सबसे पहले यह पता लगाते कि कंधे में दर्द किस कारण हो रहा है। इसके लिए वह पीड़ित व्यक्ति की मौखिक रूप से जांच करते हैं। उसके बाद वह कंधे को छूकर दर्द, सूजन आदि जानने की कोशिश करते हैं। जब व्यक्ति को ज्यादा दर्द होता है तो डॉक्टर x-ray टेस्ट करवाने की सलाह देते हैं ताकि अंदरूनी तस्वीरों को देख कर पता लगाया जा सके। डॉक्टर फिजिकल थेरेपी, शोल्डर इमोबिलाइजर, एंटी इन्फ्लेमेटरी दवाई आदि का सहारा लेने की सलाह देते हैं।

नोट - ऊपर बताए गए बिंदुओं से पता चलता है कि जब भी मांसपेशियों में अकड़न या मांसपेशियां क्षतिग्रस्त हो जाती हैं तो कंधों में दर्द शुरू हो जाता है और व्यक्ति असामान्य महसूस करता है। ऐसे में सबसे पहले सही कारण जाने की जरूरत है उसके बाद इलाज किया जा सकता है। बता दें कि कुछ उपायों को अपनाकर आप समस्या को दूर कर सकते हैं। लेकिन उससे पहले लक्षणों को कारणों को समझना जरूरी है। अगर आप का दर्द बंद नहीं हो रहा है या कंधे ने काम करना बंद कर दिया है तो ऐसे में तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना जरूरी है। अगर गर्भवती महिलाओं के दर्द हो रहा है तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

Read More Articles on other disease in hindi

Disclaimer