Diabetes Cure: शोधकर्ताओं ने खोजा डायबिटीज के इलाज का नया तरीका, विटामिन डी रिसेप्‍टर से किया जाएगा इलाज

Diabetes Cure:एक सफल अध्‍ययन के जरिए शोधकर्ताओं ने डायबिटीज के इलाज का नया तरीका खोजा। 

Sheetal Bisht
Written by: Sheetal BishtPublished at: Mar 27, 2020Updated at: Mar 27, 2020
Diabetes Cure: शोधकर्ताओं ने खोजा डायबिटीज के इलाज का नया तरीका, विटामिन डी रिसेप्‍टर से किया जाएगा इलाज

एक सफल शोध से पता चलता है कि अग्नाशय की कोशिकाओं में विटामिन डी रिसेप्टर (VDR) के स्तर को बनाए रखना, जो इंसुलिन (बी कोशिकाओं) को संश्लेषित और स्रावित करता है। यह डायबिटीज और अग्नाशयी कोशिकाओं की क्षति के विकास से बचाने में योगदान दे सकता है।

यूनिवर्सिटो ऑटोनोमा डे बार्सिलोना (UAB) में CIBER एरिया के डायबिटीज और एसोसिएटेड मेटाबोलिक डिजीज (CIBERDEM) के शोधकर्ताओं द्वारा किए गए एक अध्ययन द्वारा सुझाया गया है, रिसेप्टर रोग की रोकथाम और उपचार थेरेपी के रूप में संभावित चिकित्सीय लक्ष्य के रूप में इंगित करता है। ।

क्‍या क‍हता है अध्‍ययन?

विटामिन डी की कमी दोनों प्रकार के टाइप1 (T1D) और टाइप 2 (T2D) डायबिटीज के अधिक खतरे से जुड़ी हुई है, और विटामिन डी रिसेप्टर जीन में बदलाव के साथ इस बीमारी के संबंध का भी वर्णन किया गया है। फिर भी, विशेष रूप से बी कोशिकाओं में बीमारी के विकास में इस विटामिन रिसेप्टर की विशिष्ट भागीदारी अज्ञात बनी हुई है। 

Diabetes and Vitamin D Receptors

चूहों पर किया गया शोध 

इस नए अध्ययन ने चूहों पर यह शोध किया जिसमे चूहों में इसके व्यवहार का विश्लेषण करके, डायबिटीज के विकास में इन अग्नाशय कोशिकाओं की VDR द्वारा निभाई गई भूमिका को समझने के प्रयासों पर ध्यान केंद्रित किया गया। 

इसे भी पढ़ें: किशोरावस्‍था में नकारात्‍मक विचार नींद की कमी के साथ बन सकते हैं डिप्रेशन का भी कारण

डायबिटीज रोगियों में VDR की कमी 

शोधकर्ताओं ने टाइप 1 और टाइप 2 डायबिटीज दोनों के साथ चूहों के अग्नाशय के आइलेट्स में कम वीडीआर अभिव्यक्ति देखी। इसके अलावा, उन्होंने यह भी प्रदर्शित किया कि डायबिटीज वाले चूहों की बी कोशिकाओं में VDR की अधिकता ने इस बीमारी का संकुचित किया, जबकि साथ ही यह भी साबित किया कि इन कोशिकाओं में विटामिन डी रिसेप्टर्स का निरंतर स्तर उनके द्रव्यमान और कार्य को संरक्षित कर सकता है और डायबिटीज से रक्षा या इसके खतरे को कम कर सकता है। 

ये परिणाम बताते हैं कि VDR अभिव्यक्ति को बनाए रखना बी कोशिकाओं को नुकसान पहुंचाने और बीमारी के विकास से बचाने में आवश्यक हो सकता है। "निरंतर वीडीआर के स्तर ने ट्रांसजेनिक चूहों को गंभीर हाइपरग्लाइसेमिया विकसित करने से बचाया, जो आंशिक रूप से बी कोशिकाओं के द्रव्यमान को संरक्षित करते हैं, जिससे इ़फ्लमेशन और डायबिटीज को कम किया जाता है।"

इसे भी पढ़ें: बिना डॉक्टर की सलाह के दवा खाने से कोरोना वायरस के एक मरीज की मौत, जानें क्यों खतरनाक है सेल्फ मेडिकेशन

डायबिटीज के इलाज में कितना महत्‍वपूर्ण है विटामिन डी 

अगर डायबिटीज को रोकने के तरीके के रूप में विटामिन डी के साथ पूरक के लाभों को व्यापक रूप से बताया जाए, तो डायबिटीज की स्थिति को सुधारने में इसकी प्रभावशीलता पर क्‍लीनिकल डेटा विवादास्पद हैं। "विटामिन डी की खुराक की प्रभावशीलता में विसंगतियां ये हैं कि यह डायबिटीज के दौरान VDR के नकारात्मक विनियमन के कारण हो सकती हैं।" जबकि,  डॉ. कैसेलस इन परिणामों को देखते हुए बताते हैं, ''सकारात्मक परिणाम प्राप्त करने के लिए, VDR अभिव्यक्ति की कमी के अभाव में विटामिन डी पूरकता की खुराक को निर्धारित किया जाना चाहिए। "इसलिए, डायबिटीज के उपचार के लिए भविष्य की रणनीति डायबिटीज के दौरान VDR के नकारात्मक विनियमन के समीप के तंत्र के बेहतर ज्ञान पर आधारित होनी चाहिए और VDR के स्तर को बहाल करने पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए। "

Read More Article On Health News In Hindi

Disclaimer