स्‍वस्‍थ और होशियार बच्‍चा चाहते हैं, तो प्रेगनेंसी के दौरान ध्यान रखें ये 5 बातें

अगर आप भी चाहते हैं कि आपका बच्‍चा तेज-तरार हो, तो आप अपनी प्रेगनेंसी में इन जरूरी बातों का ध्‍यान रखें। 

 

Sheetal Bisht
Written by: Sheetal BishtUpdated at: Apr 12, 2021 16:52 IST
स्‍वस्‍थ और होशियार बच्‍चा चाहते हैं, तो प्रेगनेंसी के दौरान ध्यान रखें ये 5 बातें

कहते हैं मां-बाप बनना, दुनिया के सबसे बड़े सुख में से एक है। हर माता-पिता चाहते हैं कि उनका बच्‍चे को हर खुशी मिले और वह हमेशा स्‍वस्‍थ और सबसे बुद्धिमान बनें। लेकिन क्‍या चाहने से यह सब मुमकिन होता है? शायद नहीं... इसलिए यदि आप चाहते हैं, कि आपका होने वाला बच्‍चा होशियार बने, तो महिला को अपनी प्रेगनेंसी के समय कुछ जरूरी बातों को ध्‍यान में रखना चाहिए। प्रेगनेंसी के समय माँ का आहार, जीन और भावनाएँ एक बढ़ते हुई बच्चे की बुद्धिमत्ता को विकसित करने में भूमिका निभाते हैं, लेकिन एक तेज- होशियार और स्‍वस्‍थ बच्‍चे के लिए यहां कुछ जरूरी टिप्‍स दिए हैं। यदि आप प्रेगनेंसी के समय ये 5 काम करते हैं, तो आपका बच्‍चा स्‍वस्‍थ और बुद्धिमान होगा। 

हेल्‍दी और इंटेलिजेंट बच्‍चे के लिए प्रेगनेंसी में करें ये काम 

बच्‍चे की बुद्धिमत्ता और व्यक्तित्व को निर्धारित करने में इनहेरिटेड जीन एक प्रमुख भूमिका निभाते हैं, लेकिन सही जीवनशैली और आदते भी बच्‍चे के शारीरिक और मानसिक विकास को सुनिश्चित करने में मदद कर सकती हैं। माना जाता है कि बच्‍चे के IQ का आधा हिस्सा जीन और बाकी एक बच्चे के पर्यावरण से प्रभावित होता है। इसलिए आप यदि चाहते हैं कि आपका होने वाला बच्‍चा स्मार्ट और बुद्धिमान हो, तो प्रेगनेंसी में ये 5 काम करें। 

storytelling

1. स्‍टोरीटेलिंग करें 

एक्‍सपर्टों की मानें, तो ऐसा कहा जाता है कि बच्‍चे की भाषा की नीव गर्भ में शुरू होती है और तीसरी तिमाही तक बच्‍चा आवाजों को याद करने लगता है। एक अध्‍ययन में शोधकर्ताओं का क‍हना है कि स्‍टोरीटेलिंग बच्‍चों के विकास में मददगार है। यही वजह है कि प्रेगनेंसी के समय अच्‍छी किताबे पढ़ने की सलाह दी जाती है क्‍योंकि इसका असर बच्‍चे पर पड़ता है। 

इसे भी पढ़ें: इन 6 बातों का ध्‍यान रखकर कोरोनावायरस से बच सकती हैं गर्भवती महिलाएं

2. हेल्‍दी खाएं 

Eat Healthy

प्रेगनेंसी में आपका खानपान आपके बच्‍चे से सीधा जुड़ा होता है। यह बच्‍चे के विकास पर सकारात्‍मक और नकारात्‍मक दोनों तरह के प्रभाव डाल सकता है। इस लिए आपको प्रेगनेंसी में स्‍वस्‍थ खानपान की सलाह दी जाती है। आप अपनी गर्भावस्‍था में ओमेगा 3 फैटी एसिड का सेवन जरूर करें, यह बच्चे के मस्तिष्क के विकास के लिए आवश्यक हैं। जिसमें आप मछली, सोयाबीन और पालक और पत्तेदार सब्जियों जैसी चीजों को शामिल करें। इसके अलावा, बादाम और अखरोट जैसे नट्स का सेवन करें ये बच्चे के मस्तिष्क के विकास के लिए आवश्यक है। 

3. फिट और एक्टिव रहें

प्रेगनेंसी के दौरान फिट और एक्टिव रहना बहुत जरूरी है। सक्रिय रहना सभी अधिक महत्वपूर्ण है। यह आपकी डिलीवरी को आसान बनाने से ले‍कर बच्‍चे के विकास से जुड़ा है। अगर आप अपने बच्चे को होशियार बनाना चाहते हैं, तो दिनभर बिस्‍तर पर लेटने के बजाय हल्‍की-फुल्‍की जॉगिंग, वॉकिंग और एक्‍सरसाइज करें।  एक्‍सरसाइज से आपके एंडोर्फिन हार्मोन को बढ़ावा मिलता है, जो कि रोग प्रतिरोधक तंत्र को मजबूत करता है। इसके साथ ही एक्‍सरसाइज से जारी हार्मोन प्लेसेंटा को पार करता है और बच्चे को अचछा महसूस कराता है। एक्‍सरसाइज से आपका रक्त का प्रवाह भी बढ़ जाता है, जिससे बच्चे के विकास को बढ़ावा मिलता है। 

इसे भी पढ़ें: गायनेकोलॉजिस्‍ट से जानें कब जरूरी है महिलाओं को जांच करवाना, इन 4 लक्षणों के दिखते ही हो जाएं सावधान

Stay Fit

4. संगीत सुनें और बच्‍चे से बात करें 

जैसे-जैसे बच्चा माँ के गर्भ में पलता है, वह धीरे-धीरे सुनना शुरू कर देता है। इसलिए आप संगीत सुनें और गाना गाएं, इससे बच्‍चे के मस्तिष्क के विकास में मदद मिलेगी। इसके अलावा आप अपने अजन्‍में बच्‍चे से बा करें, जैसे कि आप अपने पार्टनर के साथ पेट से बात करें और बदले में बच्‍चे से जवाब मांगने की कोशिश करें। बच्‍चे के लात मारने या हिलने-डुलने को महसूस करें और उस पर अपनी प्रतिक्रिया दें। इसके अलावा, आप पौष्टिक खाने के साथ-साथ जरूरी सप्‍लीमेंट लेना न भूलें। 

5. थायराइड के कंट्रोल रखें और पेट की मसाज करें 

Tummy Massage

प्रेगनेंसी में थायराइड कंट्रोल रखना शरीर के लिए आवश्यक है। प्रेगनेंसी के दौरान यदि आपका थायराइड स्तर अस्थिर है, तो यह बच्चे को प्रभावित कर सकता है। मां में थायराइड की कमी बच्चे के बुद्धि को प्रभावित कर सकती है। इसके अलावा, आप अपने पेट की हल्‍के हाथों से मसाज करें। इससे आपके बच्‍चे को आपका स्‍पर्श महसूस होगा और वह आपके स्‍पर्स को पहचानेगा। आप बादाम तेल से पेट की मालिश कर सकते हैं, यह शिशु के मस्तिष्क की उत्तेजना में भी मदद करेगा। 

Read More Article On Women's Health In Hindi

Disclaimer