दिन में 1 से ज्यादा ड्रिंक टाइप-2 डायबिटीज वाले लोगों का बढ़ा देती है ब्लड प्रेशर, जानें कितना बढ़ता है खतरा

क्या आप जानते हैं कि टाइप-2 डायबिटीज वाले लोगों में शराब के सेवन से हाई ब्लड प्रेशर की समस्या का खतरा बढ़ जाता है।  

 

Jitendra Gupta
Written by: Jitendra GuptaPublished at: Sep 11, 2020
दिन में 1 से ज्यादा ड्रिंक टाइप-2 डायबिटीज वाले लोगों का बढ़ा देती है ब्लड प्रेशर, जानें कितना बढ़ता है खतरा

सभी जानते हैं कि शराब  का जरूरत से ज्यादा सेवन हमारी सेहत के लिए कितना खतरनाक है और हो भी क्यों न शराब का सेवन इंसान के शरीर में कई घातक रोगों का कारण बन सकता है। कई डॉक्टर्स मानते हैं कि अगर एक सीमित मात्रा तक शराब पाी जाए तो ये शरीर के लिए फायदेमंद साबित हो सकती है लेकिन बहुत से लोग अक्सर इस बात को लेकर असमंजम में रहते हैं कि कितनी मात्रा में शराब पीना शरीर के लिए फायदेमंद रहता है और कितनी मात्रा हमारे शरीर पर कहर ढा सकती है। इसी चीज को लेकर शोधकर्ताओं ने चेतावनी जारी कि है कि टाइप -2 डायबिटीज वाले वयस्कों में सप्ताह में आठ या उससे अधिक मादक पेय यानी की शराब पीने से हाई ब्लड प्रेशर (जिसे उच्च रक्तचाप भी कहा जाता है) का खतरा बढ़ सकता है।

blood

अमेरिका में वेक फॉरेस्ट यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर और अध्ययन के वरिष्ठ लेखक मैथ्यू जे. सिंगलटन ने कहा, "टाइप -2 डायबिटीज वाले वयस्कों में शराब के सेवन और उच्च रक्तचाप के संबंध की जांच करने वाला यह पहला बड़ा अध्ययन है।" उन्होंने कहा कि पिछले अध्ययनों में ये सुझाव दिया गया था कि शराब का ज्यादा सेवन हाई ब्लड प्रेशर से जुड़ा हुआ है हालांकि, उच्च रक्तचाप के साथ शराब की सीमित मात्रा का संबंध स्पष्ट नहीं था।

अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन के जर्नल में प्रकाशित परिणामों के लिए, शोध टीम ने टाइप -2 डायबिटीज (औसतन 61 वर्ष पुरुष में 63 वर्ष) से पीड़ित 10,000 से अधिक वयस्कों में शराब के सेवन और ब्लड प्रेशर के बीच संबंधों की जांच की।

इसे भी पढ़ेंः हाई ब्‍लड प्रेशर (Hypertension) को कंट्रोल करने में मददगार हैं दादी मां के ये 7 घरेलू नुस्‍खे

अध्ययन में नामांकन कराने से पहले प्रतिभागियों के मेडिकल इतिहास को देखा गया और पाया कि इनको औसतन 10 साल से टाइप -2 डायबिटीज थी। टाइप -2 डायबिटीज के साथ 10 वर्षों के अलावा, वे हृदय संबंधी रोगों के बढ़ते जोखिम में थे क्योंकि उनमें पहले से ही हृदय रोग मौजूद था या कम से कम दो अतिरिक्त हृदय रोग के जोखिम कारक थे जैसे कि हाई ब्लड प्रेशर, हाई कोलेस्ट्रॉल, धूम्रपान या मोटापा। । इस अध्ययन में अल्कोहल के सेवन पर कोई खास जोर नहीं दिया गया बल्कि इन सभी को कम (प्रति सप्ताह एक से सात पेय), मध्यम (आठ से 14 पेय प्रति सप्ताह) और ज्यादा (प्रति सप्ताह 15 या अधिक पेय) के आधार पर तीन समूहों में वर्गीकृत किया गया था।

bp

शराब का एक ड्रिंक 12-औंस बियर, 5-औंस ग्लास वाइन या 1.5 औंस हार्ड लिक्वर के बराबर थी। अध्ययन में नामांकित होने पर प्रत्येक प्रतिभागी द्वारा प्रति सप्ताह पेय की संख्या एक प्रश्नावली के माध्यम से स्व-रिपोर्ट की गई थी।

शोधकर्ताओं ने पाया कि हल्का भोजन उच्च रक्तचाप या उच्च रक्तचाप के किसी भी चरण से जुड़ा नहीं था। हालांकि, सामान्य रूप से शराब पीने से बढ़े हुए रक्तचाप के 79 प्रतिशत की वृद्धि के साथ जुड़े थे, स्टेज-एक उच्च रक्तचाप 66 प्रतिशत और स्टेज-दो उच्च रक्तचाप 62 प्रतिशत रहा।

इसे भी पढ़ेंः सुरक्षित तरीके ब्लड प्रेशर कंट्रोल करना है, तो अपनाएं ये 6 टिप्स

निष्कर्षों से पता चला है कि भारी मात्रा में शराब पीने से 91 प्रतिशत तक हाई ब्लड प्रेशर का खतरा रहता है। पहले चरण में हाई ब्लड प्रेशर में 149 प्रतिशत (2.49 गुना वृद्धि) और दूसरे चरण में उच्च रक्तचाप में 204 प्रतिशत (3.04-गुना वृद्धि) तक की बढ़ोत्तरी देखी गई। 

अध्ययन के लेखकों ने लिखा, "टाइप -2 डायबिटीज वाले लोग उच्च हृदय जोखिम में हैं और हमारे निष्कर्ष बताते हैं कि शराब का सेवन उच्च रक्तचाप से जुड़ा हुआ है, इसलिए सीमित शराब पीने की सलाह दी जाती है।"

Read More Articles on Health News in Hindi

Disclaimer