आयुर्वेदिक के अनुसार नागफनी के 10 फायदे और 5 नुकसान

कांटेदार नागफनी स्वास्थ्य के लिए काफी फायदेमंद होता है। इसके इस्तेमाल से आप कई समस्याओं से बचाव कर सकते हैं।

Kishori Mishra
Written by: Kishori MishraPublished at: Jun 04, 2021
आयुर्वेदिक के अनुसार नागफनी के 10 फायदे और 5 नुकसान

नागफनी एक कांटेदार पौधा है। यह ज्यादातर सूखी और बंजर जमीन पर उगता है। मैक्सिको में इस पौधे को सबसे ज्यादा उगाया जाता है। भारत में भी नागफनी के पौधे आपको बहुत ही आसानी से दिख जाएंगे। कांटों से लिपटा यह पौधा कई आयुर्वेदिक औषधियों गुणों से भरपूर होता है। इसमें कई ऐसे तत्व पाए जाते हैं, जो आपके स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद हो सकते हैं। नाफनी मं विटामिन ए, विटामिन बी 6, विटामिन सी, विटामिन के, तांबा, फाइबर, कैल्शियम, पोटैशियम और मैगनीज जैसे पोषक तत्व भरपूर होते हैं। साथ ही यह फाइटोकेमिकल्स और पॉलीसेकेराइड्स से भी भरपूर होता है। गाजियाबाद स्वर्ण जयंती के आयुर्वेदाचार्य डॉक्टर राहुल चतुर्वेदी का कहना है कि आयुर्वेद में नागफनी का इस्तेमाल कई दवाइयों को तैयार करने के लिए किया जाता है। इसमें कैलोरी काफी कम होता है। साथ ही यह वसा और कोलेस्ट्रॉल की मात्रा भी काफी कम पाई जाती है। आपको जानकर हैरानी होगी कि कई लोग नागफनी को खाते भी हैं। इसके मोटे छिलके को हटाकर अंदर के भाग को खाया जाता है। यह स्वास्थ्य के लिए काफी फायदेमंद होता है। चलिए जानते हैं नागफनी (Nagfani Benefits and Side Effects) खाने के फायदे और नुकसान-

1. वजन घटाने में असरदार

वजन को घटाने में नागफनी आपके लिए काफी फायदेमंद हो सकता है। दरअसल, नागफनी में फाइबर की अधिकता होती है, जो आपको लंबे समय तक पूर्ण महसूस कराती है। इसके अलावा यह आपके शरीर में घ्रालिन के रिलीज होने से रोकता है। घ्रालिन भूख बढ़ाने वाला हार्मोन है। इस हार्मोन के अधिक रिलीज होने से हमें काफी ज्यादा भूख लगती है। इतना ही नहीं इसमें कोलेस्ट्रॉल और वसा भी काफी कम होता है। ऐसे में नागफनी का सेवन करने से आपका वजन घट सकता है।

2. खून की कमी को दूर करे नागफनी

शरीर में खून की कमी को दूर करने में भी नागफनी काफी फायदेमंद हो सकता है। नागफनी के पके हुए फलों में आयरन की प्रचुरता होती है। इस फल को खान से आपके शरीर में खून की कमी दूर हो सकती है।

इसे भी पढ़ें - फंगल इंफेक्शन से छुटकारा पाने के लिए 4 आयुर्वेदिक लेप, जानें घर पर बनाने का तरीका

3. कैंसररोधी गुणों से भरपूर है नागफनी

नागफनी एंटीऑक्सीडेंट गुणों से भरपूर है। इसमें फाइटोकेमिकल्स और फ्लेवेनाइडेट जैसे यौगिक भी हैं, जो कैंसररोधी गुणों से भरपूर होता है। नागफनी में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट शरीर से फ्री रेडिकल्स को हटाता है। इसके सेवन से कैंसर की कोशिकाएं विकसित नहीं होती हैं। नागफनी में मौजूद विटामिन ए और फ्लेवोनोइड लंग्स और मुंह के कैंसर से बचाव कर सकती हैं।

4. पाचन में सुधार करे नागफनी

कांटेदार नागफनी फाइबर से भरपूर होता है। फाइबर युक्त आहार पाचन का सुधार करने में आपकी मदद करता है। दरअसल, फाइबर आंतों के कार्यों को सुचारू करने के लिए बल्क को जोड़ता है, जिससे दस्त, कब्ज और उल्टी जैसी समस्याएं कम होने की संभावना होती हैं। इसके अलावा इसमें कोलेस्ट्रॉल और वसा भी काफी कम होता है, जो पाचन से जुड़ी समस्याएं पैदा नहीं करती हैं। इसके सेवन से पाचन को दुरुस्त कर सकते हैं। साथ ही यह हृदय स्वास्थ्य के लिए भी काफी बेहतर साबित हो सकता है।

5. अल्सर का करे इलाज नागफनी

अल्सर की समस्याओं को दूर करने में भी नागफनी आपके लिए फायदेमंद हो सकता है। अधिकतर फाइबरयुक्त आहार गैस्ट्रिक अल्सर के विकास को रोकने में आपकी मदद करता है। ऐसे में नागफनी भी आपके लिए फायदेमंद है। गैस्ट्रिक अल्सर उन लोगों को होता है, जो शराब का सेवन अधिक मात्रा में करते  हैं। यह बहुत ही दर्दनाक स्थिति है। इस स्थिति से ग्रसित लोगों के लिए नागफनी काफी असरदार साबित हो सकता है।

इसे भी पढ़ें - अकल दाढ़ के दर्द से हैं परेशान? आयुर्वेद के इन 4 नुस्खों से पा सकते हैं राहत

6. अनिद्रा की शिकायत दूर करे नागफनी

नागफनी के इस्तेमाल से आप अनिद्रा की शिकायत को दूर कर सकते हैं। एक्सपर्ट के अनुसार, नागफनी में मौजूद तत्व केंद्रिय तंत्रिका तंत्र को संतुलित करने में हमारी मदद करता है। इसके साथ ही यह हमारे शरीर में ब्लड सर्कुलेशन को बेहतर करता है, जिससे नींद को बढ़ावा मिलता है। दिमाग शांत होने से नींद काफी अच्छी आ सकती है।

7. पीलिया से राहत दिलाए नागफनी

नागफनी में सेलेनियम नामक तत्व पाया जाता है, जो शरीर से वायरल और बैक्टीरियल इंफेक्शन को दूर करने में हमारी मदद करता है। साथ ही यह शरीर में ब्लड बनने की प्रक्रिया को तेज करता है। वायरल और बैक्टीरियल इंफेक्शन की वजह से ही पीलिया होता है। ऐसे में हम कह सकते हैं कि नागफनी से पीलिया का बचाव किया जा सकता है। 

8.  हड्डियों को मजबूत करे नागफनी

नागफनी में कैल्शियम की भी प्रचुरता होती है, जो आपकी हड्डियों और मांसपेशियों को मजबूतत रखता है। नियमित रूप से इसका सेवन करने से हड्डियों में होने वाली समस्याएं दूर की जा सकती हैं।

9. सूजन को कम करे नागफनी

सूजन की समस्या से ग्रसित लोगों के लिए भी नागफनी काफी फायदेमंद हो सकता है। इसकी पत्तियों से रस निकालकर आप अपने प्रभावित हिस्से पर लगाएं। इससे आपको काफी आराम मिल सकता है। इसके इस्तेमाल से गठिया, जोड़ों में दर्द, मांसपेशियों में तनाव इत्यादि समस्यों को दूर किया जा सकता है।  

इसे भी पढ़ें -ब्लड क्लॉटिंग को दूर करने के लिए आजमाएं ये 6 नैचुरल ब्लड थिनर्स

10. स्किन के लिए है लाभकारी नागफनी

नागफनी एंटीऑक्सीडेंट गुणों से भरपूर है, जो स्किन पर होने वाले दाग-धब्बों को दूर करने में आपकी मदद करता है। इसके इस्तेमाल से आप बढ़ती उम्र के लक्षण जैसे- झुर्रियां, फाइन लाइंस को दूर कर सकते हैं। यह आपके शरीर से मुक्त कणों को दूर करता है, जिससे आपकी स्किन में काफी सुधार नजर आ सकता है।

नागफनी के किस हिस्से का किया जाता है इस्तेमाल?

  • नागफनी के पत्तों के अंदर का भाग
  • नागफनी के फूल
  • नागफनी के फल

कितनी मात्रा में करें इसका इस्तेमाल?

अगर आप नागफनी का इस्तेमाल करना चाह रहे हैं, तो पूरे दिन में इसके रस का 10 मिली इस्तेमाल कर सकते हैं। वहीं, चूर्ण के रूप में आप 1.2 ग्राम इसका इस्तेमाल कर सकते हैं। ध्यान रखें कि इससे अधिक इस्तेमाल न करें। किसी भी समस्या होने पर डॉक्टर के सलाहनुसार इसका इस्तेमाल करें। 

नागफनी के साइड-इफेक्ट्स (Side Effects of Nagfani)

1. नागफनी के ज्यादा इस्तेमाल से ब्लड में शुगर का स्तर असंतुलित होता है, जिसकी वजह से व्यक्ति को हाइपोग्लाइमिक की संभावना होती है।

2. किसी भी तरह की सर्जरी से पहले इसका इस्तेमाल बंद कर दें। 

3. नागफनी के ज्यादा सेवन से दस्त और उल्टी की भी संभावना हो सकती है।

4. नागफनी में मौजूद कैल्शियम किडनी स्टोन की समस्या को बढ़ा सकता है। इसके अलावा इसके अधिक सेवन से दिल से जुड़ी समस्या होने की संभावना भी होती है।

5. कुछ लोगों को नागफनी से एलर्जी की भी शिकायत हो सकती है। इसलिए इसका सेवन करने से पहले एक्सपर्ट से जरूर राय लें।

ध्यान रखें कि नागफनी का सेवन करने से पहले एक बार डॉक्टरी सलाह जरूर लें। किसी भी जड़ी-बूटी का इस्तेमाल करना आपके लिए जितना फायदेमंग है, उतना नुकसान भी हो सकता है। इसलिए डॉक्टरी परामर्श लेना बहुत ही जरूरी है।

Read More Articles On Ayurveda In Hindi 

Disclaimer