इम्यूनिटी को चकमा दे सकता है कोरोना वायरस का नया 'डबल म्यूटेंट वैरिएंट', अब तक 18 राज्यों में मिले इसके मामले

कोराना का एक नया डबल म्‍यूटेंट वैर‍िएंट भारत में पांव पसार रहा है, जानते हैं क्‍या है कोरोना का नया रूप और क‍ितनी सतर्कता बरतने की जरूरत होगी 

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurPublished at: Mar 25, 2021
इम्यूनिटी को चकमा दे सकता है कोरोना वायरस का नया 'डबल म्यूटेंट वैरिएंट', अब तक 18 राज्यों में मिले इसके मामले

कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के बीच स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने बुधवार को जानकारी दी की भारत में कोरोना का नया डबल म्‍यूटेंट वैर‍िएंट तेजी से बढ़ रहा है।  हालांक‍ि E484Q और L452R म्यूटेशन दोनों पर अभी शोध हो रहे हैं ज‍िससे ये पता लगाया जा सके क‍ि ये ह्यूमन बॉडी को कि‍तना नुकसान पहुंचा सकते हैं। वायरस जब खुद को र‍िप्रोड्यूस करता है तो उसे म्‍यूटेशन कहते हैं और जब म्‍यूटेशन का असर हम पर होता है तो उसे हम वैर‍िएंट कहते हैं। इससे बचने के ल‍िए टेस्‍ट‍िंग और वैक्‍सीनेशन बढ़ना चाह‍िए और लोगों को खुद को दूसरों से दूर रखना है और कोव‍िड के सभी न‍ियमों का सख्‍ती से पालन करना होगा। नए वैर‍िंएंट के लि‍ए लेबोरेट्री का समूह INSACOG नए सैंपल की जीनोम स्‍केन‍िंग कर रही है, आने वाले समय में हमें नए वैर‍िएंट के बारे में ज्‍यादा जानकारी म‍िलेगी। नए वैर‍िंएट को समझने के ल‍िए हमने लखनऊ के केयर इंस्‍टिट्यूट ऑफ लाइफ साइंसेज की एमडी फ‍िजिश‍ियन डॉ सीमा यादव से बात की। 

corona new variant

क‍ितना खतरनाक है कोरोना का नया वैर‍िएंट? (News double mutant variant of Corona)

स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने बुधवार को ट्वीट के जर‍िए ये जानकारी दी क‍ि कोरोना वायरस का नया डबल म्‍यूटेंट वैर‍िएंट तेजी से भारत में पांव पसार रहा है। अब तक 18 राज्‍यों में इसके केस देखने को म‍िले हैं। ये वायरस शरीर के इम्‍यून स‍िस्‍टम को पता नहीं लगने देता कि उसने शरीर में प्रवेश कर ल‍िया है नतीजन व्‍यक्‍त‍ि को समझ नहीं आता क‍ि वो बीमार है इसल‍िए इसका खतरा और भी अध‍िक है क्‍योंक‍ि बीमारी ट्रेस न होने की सूरत में वो आसानी से एक से दूसरे में ट्रांसम‍िट हो जाएगी। महाराष्‍ट्र में म‍िले सैंपल से व‍िशेषज्ञों को इस बात का पता चला है क‍ि बीते साल द‍िसंबर की तुलना में नए वैर‍िएंट के अंश बढ़े हैं। इससे बचने का एक ही उपाय है इसे फैलने से रोका जाए। ज‍ितना कम ये फैलेगा उतना कम इसका असर रहेगा। 

यूके, साउथ अफ्रीका, ब्राजील के वैर‍िएंट पाए गए हैं (Variants from 3 countries)

covid new strain

भारत में कोरोना के डबल म्यूटेंट वैरिएंट ने दस्‍तक दे दी है जि‍सके अब तक 736 सैंपल यूके वैर‍िएंट, 34 केस साउथ अफ्रीका वैरिएंट और 1 ब्राजील वैर‍िएंट म‍िला है। राजधानी द‍िल्‍ली की बात करें तो यहां 65 यूके वैर‍िएंट के केस पाए गए हैं। यून‍ियन हेल्‍थ सेक्रेट्ररी राजेश भुजन ने बुधवार को ये बयान द‍िया क‍ि इस नए वैर‍िएंट का सबसे ज्‍यादा असर महाराष्‍ट्र और पंजाब में देशा जा रहा है। इसके अलावा मध्‍यप्रदेश और गुजरात भी खतरे में है। अब तक भारत में जि‍तनी मौतें कोरोना से हुई हैं उनमें से 88 प्रत‍िशत केस उन लोगों के हैं ज‍िनकी उम्र 45 या उससे ऊपर है इसल‍िए वैक्‍सीनेशन पर जोर द‍िया जा रहा है। 

इसे भी पढ़ें- दिल्ली सरकार का बड़ा फैसला, सिनेमा, मॉल, मेट्रो और धार्मिक स्थलों को घोषित किया कोरोना वायरस का 'सुपर स्प्रेडर'

होली पर द‍िल्‍ली समेत अन्‍य शहरों में सार्वजन‍िक समारोह बैन (Ban on public gathering during Holi)

physical distancing

द‍िल्‍ली समेत गुजरात, पुणे, हर‍ियाणा में होली के समय सामाज‍िक समारोह पर रोक है। इसके अलावा मुंबई में भी होली पर सोशल गैदर‍िंग पर रोक लगाई गई है। यूपी सरकार भी होली पर गाइडलाइंन जारी कर चुकी है। इसके साथ ही गृह मंत्रालय ने कोरोना को लेकर द‍िशा-निर्देश जारी क‍िए हैं जो 30 अप्रैल तक लागू रहेंगे। इसमें कोरोना को लेकर सभी राज्‍यों में सख्‍ती की बात कही गई है और टीकाकरण की प्रक्र‍िया तेज करने के ल‍िए सभी राज्‍यों से कहा गया है। 

इसे भी पढ़ें- Corona Vaccine: अब 28 दिन के बजाय 2 महीने के गैप में लगेगी कोविशील्ड की दूसरी डोज, केंद्र ने बढ़ाया अंतराल

18 राज्‍यों में देखे गए नए वैर‍िएंट के केस (Cases of new variant found in 18 states)

नए वैर‍िएंट का खतरा इसल‍िए भी है क्‍योंक‍ि अन्‍य देशों से लोग भारत भी ट्रैवल कर रहे हैं। हालांक‍ि ऐसे यात्र‍ियों की स्‍क्रीन‍िंग और उनके नमूनों की जीनोम स्‍केन‍िंग की जा रही है ताक‍ि नए वैर‍िएंट के बारे में ज्‍यादा से ज्‍यादा जानकारी जुटाई जा सके। कोरोना का नया वैर‍िएंट भारत के अलावा अन्‍य देशों में भी म‍िल चुका है। जानकारों की मानें तो नया वैर‍िएंट इम्‍यून‍िटी को चकमा देकर संक्रमण को बढ़ाता है। भारत के 18 राज्‍यों में इस नए वैर‍िएंट के केसेज देखे गए हैं। 

नए वैर‍िएंट से बचने के ल‍िए आपको फ‍िज‍िकल ड‍िस्‍टेंस‍िंग, सैनेटाइजर और ग्‍लब्‍स का इस्‍तेमाल जारी रखना है और कोश‍िश करें क‍ि जरूरत पड़ने पर ही घर से बाहर न‍िकलें। 

Read more on Health News in Hindi 

Disclaimer