Nasal Polyps Causes: नाक में मांस बढ़ने पर दिखाई देते हैं ये 10 लक्षण, जानें कारण और उपचार

नाक में मांस बढ़ना (Nasal Polyps) आम बात नहीं है। इसके कारण सांस लेने में दिक्कत महसूस होती है। जानते हैं इसके लक्षण, कारण और इलाज...

Garima Garg
Written by: Garima GargPublished at: May 05, 2021Updated at: May 05, 2021
Nasal Polyps Causes: नाक में मांस बढ़ने पर दिखाई देते हैं ये 10 लक्षण, जानें कारण और उपचार

अक्सर आपने देखा होगा कि अचानक से सांस लेने में दिक्कत शुरू हो जाती है या आप एक साइड से सांस आराम से ले पाते हैं और दूसरी साइड से सांस लेने में दिक्कत महसूस होती है। ऐसी स्थिति में या तो कभी नाक की हड्डी मुड़ जाती है या नाक के अंदर मांस बढ़ जाता हैय़ आज का हमारा लेख नाक के अंदर मांस बढ़ने के ऊपर है। यह मांस कैंसर मुक्त और दर्द रहित हो सकता है। लेकिन इसके कारण व्यक्ति को काफी असामान्यता महसूस होती है। जब व्यक्ति की नाक में मांस बढ़ना शुरू हो जाता है तो उसके चेहरे पर सूजन, एलर्जी आदि लक्षण भी नजर आते हैं। आज हम आपको इस लेख के माध्यम से बताएंगे कि नाक मे मांस बढ़ने के पीछे क्या क्या कारण (Nasal Polyps Causes) हो सकते हैं। साथ ही हम लक्षण और बचाव (treatment of nasal polyposis) भी जानेंगे। पढ़ते हैं आगे...

नाक में मांस बढ़ने के कारण (Causes of nasal polyposis)

बता दें कि अभी तक इसका मूल कारण समझ में नहीं आया है। लेकिन कुछ ऐसे कारण भी हैं, जिसे इसका जिम्मेदार माना जा सकता है। वह कारण इस प्रकार हैं-

1 - अस्थमा की समस्या एक ऐसी समस्या है, जिसके कारण सांस की नली में सूजन और दर्द पैदा हो जाता है। साथ ही जलन के कारण मांस बढ़ने लगता है।

2 - जब व्यक्ति के शरीर में एस्पिरिन सेंसटिविटी की अवस्था पैदा हो जाती है तो इसी कारण भी मांस बढ़ने लगता है।

3 - जब नाक में गाढ़ा और चिपचिपा द्रव बनने लगता है तो इस स्थिति को सिस्टिक फाइब्रोसिस के नाम से जाना जाता है इस समस्या में भी मांस बढ़ सकता है।

4 - जैसा कि हमने पहले भी बताया कि मांस बढ़ने के पीछे अभी कोई स्पष्ट कारण ज्ञात नहीं है। ऐसे में कुछ ऐसे कारण भी माने गए हैं जो प्रतिरक्षा प्रणाली के कार्यों से जुड़े होते हैं, जिसके कारण भी मांस बढ़ सकता है।

इसे भी पढ़ें- Runny Nose: नाक बहने के पीछे होते हैं ये 13 कारण, जानें इसके 9 लक्षण और उपचार

नाक में मांस बढ़ने के लक्षण (Symptoms of nasal polyposis)

1 - नाक बहने शुरू हो जाना

2 - नाक में उपस्थित द्रव का गले की तरफ जाना।

3 - सुनने की शक्ति का कमजोर हो जाना

4 - चेहरे पर दर्द महसूस करना

5 - सिरदर्द की समस्या पैदा हो जाना

6 - ऊपर के दांतो में दर्द महसूस करना

7 - खर्राटे लेना

8 - ठीक प्रकार से सांस ना ले पाना

9 - नाक का रुका हुआ महसूस करना

10 - गंध का कम आना

बता दें लक्षण मांस बढ़ने के साथ-साथ साइनसाइटिस के भी होते हैं। ऐसे में अगर 1 हफ्ते से ज्यादा इस तरह के लक्षण दिखाई दें तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

इसे भी पढ़ें-  क्या आपकी नाक से आती है बदबू? जानें इस समस्या के 5 कारण और बदबू दूर करने के टिप्स

नाक के मांस बढ़ने से बचाव (treatment of nasal polyposis)

जैसा कि हमने पहले भी बताया कि नाक के मांस बढ़ने के पीछे कोई स्पष्ट कारण अभी नहीं मिला है। ऐसे में कोई स्पष्ट बचाव भी नहीं है। लेकिन हां कुछ ऐसे रोकथाम हैं जिनके माध्यम से आप अपनी समस्या को रोक सकते हैं-

1 - अगर आप अपने हाथों को अच्छी तरह से धोएंगे तो ऐसा करने से बैक्टीरिया या वायरस आपके भीतर प्रवेश नहीं कर पाएंगे और नाक की समस्या जैसे जलन, दर्द, सूजन, साइनस आदि सक्रिय कम होंगे।

2 - अक्सर आपने देखा होगा कि हवा के अंदर उत्तेजक पदार्थ फैले हुए होते हैं, जो सांस के सहारे नाक में प्रवेश कर जाते हैं। इनसे बचना भी हमारी प्राथमिकता है। साथ ही तंबाकू के धुएं से धूल के कण आदि से बचाव भी आपकी जिम्मेदारी है।

3 - अस्थमा और एलर्जी के इलाज के लिए तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। क्योंकि अगर इसका इलाज ठीक प्रकार से नहीं हो पा रहा है तब भी मांस बढ़ने की आशंका बढ़ जाती है।

नोट - नाक में मांस बढ़ने की जांच के लिए डॉक्टर कुछ परीक्षण बताते हैं जैसे- नेजल एंडोस्कोपी, इमेजिंग टेस्ट, सिस्टिक फाइब्रोसिस के लिए एलर्जी टेस्ट आदि। डॉक्टर पता लगाते हैं कि आपके नाक में मांस बढ़ा है या नहीं। उसके बाद डॉक्टर कुछ दवाइयों के माध्यम से इस समस्या को दूर करने की कोशिश करते हैं। साथ ही सर्जरी के माध्यम से भी समस्या को दूर किया जा सकता है। बता दे अगर मांस ज्यादा बढ़ा हुआ है तो कभी-कभी जटिलताएं भी बढ़ जाती है जैसे व्यक्ति नींद के दौरान तेज-तेज सांस लेना शुरू कर देता है या साइनस का संक्रमण भी बढ़ सकता है। ऐसे में डॉक्टर से संपर्क करना जरूरी होता है।

यह लेख हीलिंग केयर ईएनटी क्लीनिक नोएडा के ईएनटी स्पेशलिस्ट (एमबीबीएस एमएस) डॉ अंकुर गुप्ता से बातचीत पर आधारित है।

Read More Articles on other diseases in hindi

Disclaimer