बारिश में कमजोर हो जाती है बच्चों की इम्यूनिटी, जानें इस मौसम में बच्चों को क्या खिलाएं और क्या नहीं

कहीं बरसात आपके बच्चे को बीमार न कर दे। इसलिए उसक किसी भी प्रकार के संक्रमण से बचाने के लिए डाइट में इन कुछ बातों का ध्यान जरूर रखें। 

Monika Agarwal
बच्‍चे का स्‍वास्‍थ्‍यWritten by: Monika AgarwalPublished at: Jul 11, 2021Updated at: Jul 11, 2021
बारिश में कमजोर हो जाती है बच्चों की इम्यूनिटी, जानें इस मौसम में बच्चों को क्या खिलाएं और क्या नहीं

बरसात का मौसम (Rainy Season) बच्चों को बहुत पसंद है क्योंकि यह उमस भरी गर्मी से निजात दिलाता है। लेकिन बारिश के मौसम (Rainy Season) में वातावरण में बहुत से बैक्टीरिया और वायरस आदि फैल जाते हैं। जिस कारण बीमारियां अधिक होने लगती है। इस मौसम (Rainy Season) में सबसे अधिक खतरा बच्चों को ही होता है क्योंकि उनकी इम्यूनिटी कमजोर होती है और वह जल्दी ही बीमार पड़ने लगते हैं। इस बार तो मानसून सीजन अकेला नहीं है बल्कि इसके साथ कोविड वायरस भी है। हमारे एक्सपर्ट मदरहुड हॉस्पिटल, नोयडा के बाल रोग विशेषज्ञ और नियोनेटोलॉजिस्ट- सीनियर कंसल्टेंट डॉ अमित गुप्ता का कहना है कि अगर रिपोर्टों पर विश्वास करें तो यह माना जा सकता है कि कोविड की तीसरी लहर बच्चो के लिए ज्यादा खतरनाक हो सकती है। ऐसे में और भी जरूरी हो जाता है कि माता-पिता इस मौसम (Rainy Season) में बच्चे को इस डबल मार से बचाएं। इसके लिए उन्हें पौष्टिक डाईट दें और वायरस को दूर करने के लिए डाईट में दही, विटामिन सी और विटामिन डी और जिंक को शामिल करें। पहले जानते हैं उन खातों के बारे में जिनको बच्चों को देना हेल्दी है।

Inside3kids

मानसून में बच्चों को क्या खिलाएं-Best Food to eat in Monsoon for Kids

1. लहसुन 

लहसुन में बहुत से एंटी ऑक्सीडेंट्स होते हैं जो इम्यूनिटी को और शरीर के मेटाबॉलिज्म को बढ़ाते है। लहसुन को हम किसी भी सब्जी या किसी भी डिश में प्रयोग कर सकते हैं। यह डिश के फ्लेवर और स्वाद को भी बढ़ा देता है। अगर आप चाहें तो मील के साथ एक चम्मच लहसुन की चटनी भी दे सकते है। यह खाने में भी बहुत स्वादिष्ट होती है और इम्यूनिटी भी बढ़ाती है।

2. हल्दी 

यह मसाला भी आपके बच्चों की डाइट में जरूर शामिल होनी चाहिए। हल्दी के फायदे की बात करें, तो इसमें करक्यूमिन नाम का एक तत्त्व होता है जो इसे एंटी ऑक्सिडेंट बनाता है। आप अपने बच्चों को हल्दी की चाय दे सकते हैं या दूध में थोड़ी सी हल्दी मिला कर दे सकते हैं। इससे उन्हें नींद भी बहुत अच्छी आयेगी और बच्चों को इंफेक्शन से लड़ने में भी मदद मिलेगी।

3. करेला 

करेले में एंटी बैक्टेरियल, एंटी फंगल, एंटी इन्फ्लेमेटरी और एंटी वायरल गुण होते हैं जोकि एक बच्चे की सेहत के लिए बहुत लाभदायक होते हैं। बच्चों को आम तौर पर करेला पसंद नहीं आता है लेकिन इस बात से आप करेले के गुणों को इग्नोर नहीं कर सकते हैं।

4. मौसमी फल 

जो फल बारिश के मौसम (Rainy Season) में आते हैं वह आपको अपने बच्चों की डाइट में ज़रूर शामिल करने चाहिए। आप जामुन, लीची, चेरी, बेर और आड़ू को बच्चों को खाने के लिए जरूर दें। इस मौसम के दौरान आप सेब, केले, नाशपाती और पपीते भी अपने बच्चों को जरूर दें।

इसे भी पढ़ें : बच्चे की पॉटी के रंग से जानें उनकी सेहत का हाल, डॉक्टर से जानें बेबी स्टूल से जुड़ी जरूरी बातें

बच्चों को कौन से फूड न दें -foods to avoid in rainy season

1. ऑइली और तली हुई चीजें 

जो चीजें तली हुई होती हैं या जिनको बनाने में अधिक तेल का प्रयोग होता है वह आपके बच्चों के लिए अधिक हेल्दी नहीं होती हैं क्योंकि यह पाचन तंत्र को धीमा कर देती हैं।

2. बर्फ का गोला 

अगर आपके घर के सामने गोला वाले आते हैं तो हो सकता है वह इस प्रकार के गोले या आइस लॉलीज प्यूरिफाई पानी से न बना रहे हैं और उसमें प्रयोग किया गया पानी दूषित हो जो आपके बच्चों को बीमार कर सकता है।

Inside1fish

3. मछली या अन्य सी फूड 

यह वह मौसम होता है जब बहुत सी मछलियां ब्रीड करती हैं। बरसाती मौसम (Rainy Season) में बहुत सी मछलियां खराब भी हो जाती हैं। इससे मछली के स्वाद और क्वालिटी पर प्रभाव पड़ेगा। इसलिए इस प्रकार का सी फूड ज्यादा न खिलाएं।

इसे भी पढ़ें : नाश्ते में बच्चों को खिलाएं ओट्स से बनने वाली ये 5 चीजें, जानें रेसिपी और फायदे

4. अधिक नमकीन खाद्य

मानसून के दौरान यदि बच्चे ज्यादा नमकीन चीजें खाते हैं या ज्यादा नमक का सेवन करते हैं तो उनको वाटर रिटेंशन और सुस्ती की परेशानी बढ़ सकती है। इसलिए कम नमक के सेवन की सलाह दें। वैसे भी ज्यादा नमक का सेवन करने के नुकसान है और उमस भरे मौसम में यह और भी हानिकारक हो जाता है। 

इन सभी चीजों को बच्चों की डाइट में शामिल करते समय या अवॉइड कराते समय ध्यान रखिए, क्योंकि इनका बच्चों की सेहत पर बहुत अधिक प्रभाव पड़ता है।

Read more articles on Children's Health in Hindi

Disclaimer