क्यों कमजोर होती है पुरुषाें की फर्टिलिटी? डॉक्टर से जानें मर्दो में इनफर्टिलिटी (बांझपन) के प्रमुख कारण

 Infertility in Males : पुरुषाें में भी इनफर्टिलिटी की समस्या हाे सकती है। इसके पीछे कई कारण जिम्मेदार हाेते हैं। जानें इसके बारे में-

Anju Rawat
Written by: Anju RawatUpdated at: Aug 23, 2021 13:26 IST
क्यों कमजोर होती है पुरुषाें की फर्टिलिटी? डॉक्टर से जानें मर्दो में इनफर्टिलिटी (बांझपन) के प्रमुख कारण

इंफर्टिलिटी क्या है? इंफर्टिलिटी यानी बांझपन की समस्या। इसका मतलब है बच्चे काे गर्भ धारण करने में असमर्थता। इंफर्टिलिटी की समस्या सिर्फ महिलाओं में ही नहीं बल्कि पुरुषाें में भी देखने काे मिलती है। कई बार पुरुषाें में इंफर्टिलिटी के कारण दंपत्ति संतान सुख प्राप्त नहीं कर पाता है। अधिकतर पुरुषाें में बांझपन यानी इंफर्टिलिटी का कारण शुक्राणुओं की संख्या में कमी या इनकी खराब गुणवत्ता हाेती है। स के बाद भी गर्भधारण करने में असमर्थ होते है। 90 प्रतिशत के करीब पुरुषों में इनफर्टिलिटी यानि बांझपन का कारण शुक्राणु की कमी और खारब क्वालिटी है। सीमेन यानि वीर्य में स्पर्म काउंट कम हाेने पर महिला काे गर्भधारण करने में समस्या आती है। चलिए डॉक्टर रमन कुमार से जानते हैं पुरुषाें में बांझपन के लक्षण और कारण-

pain

(Image Source : urolife.in)

 

पुरुषाें में इंफर्टिलिटी या बांझपन के लक्षण (Symptoms of Male Infertility)

 

  • यौन क्रिया में समस्याएं
  • कम यौन इच्छा हाेना
  • इरेक्शन बनाए रखने में कठिनाई
  • अंडकाेष क्षेत्र में दर्द
  • चेहरे या शरीर में बालाें में कमी
  • स्पर्म काउंट में कमी
  • असामान्य स्तनाें में वृद्धि

पुरुषाें में बांझपन के कारण (Causes of Infertility in Males)

पुरुषाें में बांझपन के कई कारण जिम्मेदार हाेTitle :  सुबह-सुबह उठते ही महसूस हाेती है कमजाेरी और थकान? हाे सकती है इन पाेषक तत्वाें की कमीते हैं। इसमें चिकित्सा कारण,  पर्यावरणीय कारण और लाइफस्टाइल से जुड़ें कारण शामिल हाेते हैं। इन कारणाें की वजह से पुरुष पिता बनने में असमर्थ हाेते हैं। चलिए जानते हैं इन सभी कारणाें के बारे में-

इसे भी पढ़ें - पुरुषों के लिए अश्वगंधा के लाभ: मर्दों की इन 5 समस्याओं काे दूर करता है अश्वगंधा, डॉक्टर से जानें फायदे

1.चिकित्सा कारण

पुरुष प्रजनन क्षमता के साथ समस्याएं कई स्वास्थ्य समस्याओं और चिकित्सा उपचारों के कारण हो सकती हैं। ये हैं बांझपन के चिकित्सा कारण-

वेरिकोसील

वेरीकाेसील पुरुष के वृषण औऱ स्क्राेटम की नसाें की एक बीमारी है। जब इन नसाें में सूजन आती है, जाे वेरीकाेसीन की समस्या पैदा हाेती है। यह समस्या पुरुषाें में बांझपन का सबसे सामान्य कारण हाेता है। यह असामान्य रक्त प्रवाह, शुक्राणु की मात्रा और गुणवत्ता को कम करता है। 

sperm

(Image Source : hk01.com)

इंफेक्शन

संक्रमण शुक्राणु उत्पादन या शुक्राणु स्वास्थ्य काे प्रभावित कर सकता है। या निशान पैदा कर सकता है, जाे शुक्राकु के मार्ग काे अवरुद्ध करते हैं। इसमें एपिडीडिमिस, अंडकोष की सूजन और एचआईवी सहित कुछ यौन संचारित संक्रमण शामिल हैं। 

स्खलन 

प्रतिगामी स्खलन तब होता है, जब स्पर्म लिंग की नोक से बाहर निकलने के बजाय संभोग के दौरान मूत्राशय में प्रवेश करता है। डायबिटीज, रीढ़ की हड्डी में चाेट, मूत्रमार्ग की सर्जरी आदि स्खलन का कारण बनती है।

ट्यूमर

कैंसर और गैर-संक्रामक ट्यूमर सीधे पुरुष प्रजनन अंगों को प्रभावित कर सकते हैं। कुछ मामलों में ट्यूमर के इलाज के लिए सर्जरी, रेडिएशन या कीमोथेरेपी पुरुष प्रजनन क्षमता को प्रभावित कर सकते हैं।

अवरोही अंडकोष

कुछ पुरुषों में भ्रूण के विकास के दौरान एक या दोनों अंडकोष पेट से उस थैली में उतरने में विफल हो जाते हैं, जिसमें आमतौर पर अंडकोष होता है। इसमें प्रजनन क्षमता में कमी होने की संभावना अधिक होती है।

हार्मोन असंतुलन

हॉर्माेन असंतुलन भी पुरुषाें में बांझपन का कारण बन सकता है। बांझपन अंडकोष के विकारों या हाइपोथैलेमस, पिट्यूटरी, थायरॉयड और अधिवृक्क ग्रंथियों सहित अन्य हार्मोनल सिस्टम को प्रभावित करने वाली असामान्यता के परिणामस्वरूप हो सकता है। 

sperm

2. पर्यावरणीय कारण (environmental reasons)

कुछ पर्यावरणीय तत्वों जैसे गर्मी, विषाक्त पदार्थों और रसायनों के अत्यधिक संपर्क से शुक्राणु उत्पादन या शुक्राणु के कार्य में कमी आ सकती है। चिकित्सा ही नहीं कुछ पर्यावरणीय कारण भी बांझपन के लिए जिम्मेदार हाे सकते हैं। 

औद्योगिक रसायन

रसायनों, कीटनाशकों, कार्बनिक सॉल्वैंट्स और पेंटिंग सामग्री के अधिक संपर्क में रहने से भी शुक्राणुओं की संख्या कम हाे सकती है। बांझपन की समस्या हाे सकती है। 

हैवी मैटल एक्सपोजर

भारी धातुओं के संपर्क में आने से भी बांझपन हो सकता है। आपकाे इसके अधिक संपर्क में आने से बचना चाहिए।

रेडिएशन या एक्स-रे

रेडिएशन के संपर्क में आने से शुक्राणुओं का उत्पादन कम हो सकता है।  अगर रेडिएशन के संपर्क में अधिक रहा जाए, ताे शुक्राणुओं का निर्माण स्थायी रूप से कम हाे सकता है। इसलिए आपकाे इससे बचना चाहिए। 

इसे भी पढ़ें - पुरुषाें में लिंग टेढ़ा हाेने का कारण हाे सकता है पेराेनीज रोग, जानें इसके लक्षण, कारण और उपाय

अंडकोष को अधिक गर्म करना

 अधिक तापमान शुक्राणु उत्पादन और  उसके कार्य को खराब कर सकता है। लंबे समय तक बैठना, तंग कपड़े पहनना, लैपटॉप-कंप्यूटर पर लंबे समय तक काम करना भी आपके अंडकोश में तापमान बढ़ा सकता है। यह शुक्राणु उत्पादन को थोड़ा कम कर सकता है।

3. जीवनशैली से जुड़े कारण (Lifestyle Causes)

बांझपन का एक कारण जीवनशैली भी हाे सकता है। खराब जीवनशैली आपके पिता बनने के सपने काे टाेड़ सकती है। इसलिए आपकाे हमेशा एक अच्छा लाइफस्टाइल का फॉलाे करना चाहिए। 

नशीली दवाइयाें का सेवन

कई लाेग अपनी शारीरिक ताकत बढ़ाने के लिए स्टेरॉयड का सेवन करते हैं, जिसके अत्याधिक सेवन से अंडकाेष सिकुड़ सकते हैं। साथ ही इससे शुक्राणुओं का उत्पादन भी कम हाेता है। स्टेरॉयड आपके शुक्राणुओं की संख्या और गुणवत्ता को भी कम कर सकता है।

sharab

(Image Source :glusiness.com)

शराब का सेवन

शराब का सेवन भी बांझपन का एक कारण हाे सकता है। दरअसल, शराब पीने से टेस्टाेस्टेराेन हॉर्माेन का स्तर कम हाे जाता है। साथ ही शराब का सेवन करने से स्तंभन दाेष और शुक्राणु का उत्पादन भी कम हाे सकता है। इतना ही नहीं शराब पीने से होने वाली लीवर की बीमारी भी प्रजनन समस्याओं का कारण बन सकती है। राब का सेवन स्वास्थ्य के लिए नुकसानदायक हाेता है।

धूम्रपान करना 

शराब की तरह ही धूम्रपान भी पुरुषाें में इंफर्टिलिटी का कारण बन सकता है। धूम्रपान करने से पुरुषाें में शुक्राणुओं की संख्या में कमी हाेने लगती है। साथ ही इसकी गुणवत्ता भी कम हाेती है।

माेटापा

माेटापा कई स्वास्थ्य समस्याओं के साथ ही पुरुषाें में बांझपन का कारण भी बन सकता है। माेटापा कई तरह से प्रजनन क्षमता को प्रभावित कर सकता है। इसमें स्पर्म काउंट में कमी, हॉर्माेन परिवर्तन शामिल हैं। 

(Main Image Source :nyreproductivewellness.com)

Read More Articles on Mens Health in Hindi

Disclaimer