बच्चों में क्यों होता है हार्मोन असंतुलन? जानें बच्चों में कैसे लगाएं इस स्थिति का पता और क्या है इसका इलाज

बड़े ही नहीं बल्कि बच्चों में होती है हार्मोन असंतुलन की समस्याएं, जानें किन कारण से होता है ऐसा और क्या है इसका इलाज का विकल्प। 

Vishal Singh
बच्‍चे का स्‍वास्‍थ्‍यWritten by: Vishal SinghPublished at: Oct 08, 2020Updated at: Oct 08, 2020
बच्चों में क्यों होता है हार्मोन असंतुलन? जानें बच्चों में कैसे लगाएं इस स्थिति का पता और क्या है इसका इलाज

अक्सर आपने या हमने बड़ों में हार्मोन्स असंतुलन के बारे में सुना होगा, लेकिन ये समस्या सिर्फ बड़े या बुजुर्ग के साथ नहीं आती बल्कि आजकल ये समस्या बच्चों में भी तेजी से नजर आ रही है। बच्चों की कई जीवनशैली की कई आदतें वास्तव में आपके बच्चों में हार्मोन असंतुलन का कारण बन सकते हैं। आपको बता दें कि बच्चों का स्वास्थ्य बहुत ही ज्यादा लचीला होता है। इसलिए जरूरी है कि बच्चों के स्वास्थ्य के लिए उन खाद्य पदार्थों को समाप्त करें जो उनके स्वास्थ्य को खराब करते हैं। जब आप इन बदलावों को बच्चे की जीवनशैली में करेंगे तो आपके बच्चों का स्वास्थ्य और ज्यादा बढ़ जाएगा। लेकिन इन सबके बीच जरूरी है ये जानना कि बच्चों में हार्मोन असंतुलन के क्या कारण है और कैसे इसे बच्चों के शरीर पर देखा जा सकता है। 

childrens health

बच्चों में हार्मोन असंतुलन के कारण 

एंडोक्राइन ग्लैंड के लिए एक सही प्रतिक्रिया प्रणाली है जो हार्मोन स्तर में मामूली बदलाव होने पर संकेत देती है, ताकि इसे अच्छी तरह से विनियमित किया जा सके और हार्मोनल संतुलन को बनाए रखें। हालांकि ये सच है कि मनोवैज्ञानिक मुद्दे और स्वास्थ्य मुद्दे इस प्रतिक्रिया प्रणाली को प्रभावित कर सकते हैं जिसके कारण आपके बच्चों के हार्मोन असंतुलित हो सकते हैं। ऐसे ही इन कारणों से बच्चों में हो सकते हैं हार्मोन असंतुलन:

  • एंडोक्राइन ग्लैंड में संक्रमण।
  • जैनेटिक कारणों से बच्चों में हो सकता है हार्मोन असंतुलन।
  • एंडोक्राइन ग्लैंड को चोट इसके हार्मोन उत्पादन को प्रभावित करेगी।
  • हार्मोन उत्पन्न करने के लिए एक ग्रंथि की विफलता। 
  • एंडोक्राइन ग्लैंड में ट्यूमर के कारण। 

childrens health

बच्चों में हार्मोन असंतुलन के लक्षण

  • शरीर के बाल कम दिखना। 
  • मांसपेशियों का विकास पूरी तरह से न होना। 
  • आवाज पतली होना।
  • स्तन ऊतकों में विकास में कमी।

इसे भी पढ़ें: बच्चों में ये स्वास्थ्य समस्याएं होती है सामान्य, जानें कैसे करें इन स्थितियों से बचाव

इन स्वास्थ्य समस्याओं के दौरान बच्चों में होता है हार्मोनल असंतुलन

मधुमेह

इंसुलिन के बिना रक्त में ग्लूकोज को शरीर की कोशिकाओं द्वारा अवशोषित नहीं किया जा सकता है, जिसके कारण उच्च रक्त शर्करा का स्तर होता है। यह तब होता है जब अग्न्याशय (आइलेट्स) के इंसुलिन उत्पादक कोशिकाएं नष्ट हो जाती हैं।

मोटापा

बच्चों में मोटापा भी एक आम समस्याएं हैं जिसके कारण आजकल अधिकतर बच्चे इसका शिकार हो रहे हैं। जब रक्त में बढ़ोतरी हार्मोन का स्तर कम होता है तो चयापचय प्रभावित होती है जिससे मोटापा होता है।

आनुवंशिक स्थिति 

टर्नर सिंड्रोम: यह सिंड्रोम लड़कियों में पाया जाता है, इस सिंड्रोम से पीड़ित लड़कियों में अविकसित अंडाशय होते हैं। यह यौन विकास और बच्चों को पैदा करने की क्षमता को प्रभावित कर सकते हैं। 

क्लाइनफेल्टर सिंड्रोम: इस तरह के सिंड्रोम लड़कों में पाया जाता है, कम टेस्टोस्टेरोन (पुरुष हार्मोन) का स्तर मुख्य लक्षण है। जब ये स्थिति होती है तो बच्चों में हार्मोन असंतुलन का प्रभाव हो सकता है। 

इसे भी पढ़ें: हमेशा सुस्त और थका-थका सा रहता है आपका बच्चा? खाने में शामिल करें ये 4 हेल्दी विटामिन

इलाज

आपको बता दें कि बच्चों में हार्मोनल असंतुलन का इलाज उनकी स्थितियों पर देखा जाता है, जैसे उनकी गंभीरता और कारण है। इस स्थिति में आपको केवल एक एंडोक्रिनोलॉजिस्ट से सलाह लेने के साथ इलाज दे सकता है। इसलिए अगर आपको बच्चों में हार्मोनल असंतुलन के लक्षण दिखते हैं तो आप तुरंतबाल रोग विशेषज्ञ से बात करें। 

 

Read more articles on Children's Health in Hindi

 

Disclaimer