मैथ पढ़ने और टेबल्स याद रखने में फिस्ड्डी है आपका बच्चा? दिमाग तेज करने के लिए पिलाएं ये 3 ब्रेन बूस्टिंग जूस

बच्चों को रोज सुबह ये जूस देना एक ब्रेन बूस्टर की तरह काम करता है। वहीं ये उनकी लॉजिकल और कॉग्नेटिव थिंकिंग को भी बढ़ाता है।

Pallavi Kumari
Written by: Pallavi KumariUpdated at: Oct 05, 2020 10:55 IST
मैथ पढ़ने और टेबल्स याद रखने में फिस्ड्डी है आपका बच्चा? दिमाग तेज करने के लिए पिलाएं ये 3 ब्रेन बूस्टिंग जूस

बच्चों को  मैथ्स पढ़ाना और टेबल्स को याद करवाना मां-बाप के लिए भी एक चुनौती की तरह होती है। ज्यादातर बच्चे, यहां तक कि हम और आप में से कई लोगों को भी टेबल्स याद नहीं होंगे। तो हम में से कितने अब भी जोड़-घटाव करने में धीमे होंगे। दरअसल ये सब हमारे ब्रेन का कमाल है। कोई बच्चा किसी चीज को कितनी जल्दी समझता है और उसे कितना याद रख पाता है ये सब उसके दिमाग पर निर्भर करता है। मस्तिष्क के कुछ पार्ट्स अलग-अलग तरीकों से चीजों को समझने और याद रखने में एक बड़ी भूमिका निभाते हैं। इसकी वजह से ही कुछ बच्चों का दिमाग साइंस वाला होता है और कुछ बच्चों का आर्ट्स वाला। ऐसे में अगर आपका बच्चा भी इन कामों को करने में फिस्ड्डी है, तो कुछ चीजें हैं जो आपके बच्चे के ध्यान, स्मृति और उत्पादकता को बढ़ाने में (How To Improve Mind Power)आसानी से मदद कर सकते हैं।

insidebrainboostingtips

बच्चों का दिमाग कैसे बढ़ायें   (How To Improve Mind Power)

साइंस को समझने से लेकर आइडिया जेनरेटिंग तक कई अलग-अलग स्थितियां हैं, जिनमें अधिक ध्यान और बेहतर संज्ञानात्मक कार्य जरूरी होता है। यह आपको कम समय में अधिक काम करने की अनुमति देता है, और समस्याओं के अनूठे समाधान निकालने में मदद करता है। ऐसे में कुछ विटामिन्स और एंटीऑक्सीडेंट्स आपकी मदद कर सकते हैं। वहीं खान-पान में कुछ बदलाव भी आपके बच्चे के दिमाग को मजबूत बनाने में मदद कर सकते हैं। जैसे कि कुछ जूस (Brain-Boosting Juices),जो कि एंटीऑक्सिडेंट या प्रोबायोटिक्स से भरपूर होते हैं, वो आपके बच्चे के दिमाग को तेज बनाने में मदद कर सकते हैं। तो आइए जानते हैं ऐसे ही कुछ जूस के बारे में।

इसे भी पढ़ें : Children's health: हमेशा सुस्त और थका-थका सा रहता है आपका बच्चा? खाने में शामिल करें ये 4 हेल्दी विटामिन

ब्रेन बूस्टिंग जूस (Brain-Boosting Juices)

1.संतरे का जूस

संतरे खाने के कई फायदे हैं। ये विटामिन सी में समृद्ध होता है। 1 कप (240 एमएल) संतरा जूस में 93% तक विटामिन-सी होता है। खास बात ये है कि ये  विटामिन न्यूरोप्रोटेक्टिव लाभ देता है। कई अध्ययन बताते हैं कि जिन लोगों में विटामिन सी के की मात्रा अधिक थी, वो बाकी लोगों की तुलना में ध्यान में ज्यादा बेहतर थे। वहीं ऐसे लोगों की मेमोरी भी अच्छी थी। ऐसे में रोज सुबह अपने बच्चों को विटामिन-सी से भरपूर ऑरेंज जूस देना उनके दिमाग को  कंस्ट्रेट  में ज्यादा मदद कर सकता है।

2.चुकंदर का जूस या स्मूदी

बीटजूस या चुकंदर खाना  सिग्नलिंग की प्रक्रिया को समझने में तेजी से मदद कर सकता है। यानी कि जो बच्चे भाषा सीखने में कमजोर हैं उनके लिए बीटजूस  पीना बहुत फायदेमंद है। दरअसल चुकंदर  नाइट्रेट से समृद्ध है और नाइट्रिक ऑक्साइड का एक अग्रदूत है, जिसका उपयोग आपका शरीर सेल ऑक्सीकरण को बढ़ावा देने और रक्त प्रवाह को बेहतर बनाने के लिए करता है। ये नाइट्रिक ऑक्साइड भाषा  सिग्नलिंग, सीखने और उन्नत निर्णय लेने के लिए जिम्मेदार आपके मस्तिष्क के क्षेत्रों में भूमिका निभा सकता है और चुकंदर का रस नाइट्रिक ऑक्साइड उत्पादन को बढ़ाकर इन प्रभावों को बढ़ा सकता है। इस तरह ये आपके बच्चे के लिए ब्रेन बूस्टर का काम कर सकता है।

insidebrainboostingjuices

इसे भी पढ़ें : क्या आपका टीनएज बच्चा तनाव में है? 10-12 साल से बड़ी उम्र के तनावग्रस्त बच्चों में अक्सर दिखते हैं ये 7 लक्षण

3.हल्दी की जड़ों से बना स्मूदी

हल्दी में कई औषधीय गुण होते हैं। वहीं हल्दी की जड़ों में एंटीऑक्सीडेंट करक्यूमिन होता है, जो आपके शरीर के मस्तिष्क में समझने और रिएक्ट करने की प्रक्रिया को तेज कर सकता है। वहीं ये मानसिक कमियों और न्यूरोजिकल विकारों को कम करने में भी बहुत कारगर है। ऐसे में आप अपने बच्चे को दूध में हल्दी की जड़ों को उबाल कर दे सकते हैं। कुछ नहीं तो आप इससे अन्य फलों के साथ मिला कर जूस या स्मूदी बना सकते हैं। इस तरह रोजाना इसे पीना आपके बच्चे के दिमाग को तेज कर सकता है।

वहीं इन सबके अलावा आप अपने बच्चों को कुछ दिमागी एक्सरसाइज करने के लिए भी कह सकते हैं। वहीं रोज सुबह खाली पेट बादाम खाना भी उनके दिमाग को तेज बना सकता है। तो अगर आपके बच्चे को ऐसी कोई भी परेशानी है और आपको लगता है कि वह पढ़ाई में बाकी लोगों की तुलना में स्लो है, तो आपको उनकी डाइट में इन तीन ब्रेन बूस्टिंग जूस को जरूर शामिल करना चाहिए।

Read more articles on Children's Health in Hindi

Disclaimer