छोटी-छोटी गलतियों के कारण लोगों में बढ़ रही हैं आंखों की ये 4 समस्याएं, जानें कैसे रखें अपनी आंखों को स्वस्थ

पूर्ण स्वास्थ्य की तरह ही आंखों का ख्याल रखना भी आपके लिए बहु़त जरूरी है, जानें आंखों से संबंधित आम स्थितियां क्या हैं और इनसे बचाव का क्या तरीका है। 

Vishal Singh
Written by: Vishal SinghUpdated at: Nov 18, 2020 17:33 IST
छोटी-छोटी गलतियों के कारण लोगों में बढ़ रही हैं आंखों की ये 4 समस्याएं, जानें कैसे रखें अपनी आंखों को स्वस्थ

खुद को बीमारियों से दूर रखने के साथ अपने पूर्ण स्वास्थ्य को स्वस्थ रखने के अलावा जरूरी है आंखों का ख्याल रखना। आंखों का ध्यान न देने के कारण आंखों से संबंधित कई गंभीर रोग हो सकते हैं। आंख हमारे शरीर के उन हिस्सों में से एक है जिनका काम सबसे ज्यादा होता है, ऐसे ही आंख उतना देर काम करती है जितनी देर हम सोते नहीं है। लेकिन अलग-अलग कारणों से आंखों का स्वास्थ्य बिगड़ने लगता है जिस कारण ये समस्या गंभीर होने के साथ ही एक रोग में बदल जाती है। इन्हीं कारणों से डॉक्टरों और एक्सपर्ट की सलाह होती है कि आप समय-समय पर अपनी आंखों की जांच करवाते रहें। जिससे की आंखों की स्थिति का पता चल सके। आप सभी को ये जानना जरूरी होता है कि आंखों से संबंधित आम रोग कौन से हैं और इनसे बचाव क्या है। हम आपको इस लेख में बताने जा रहे हैं कि आंखों से संबंधित आम समस्याएं क्या हैं और उनसे बचाव कैसे किया जाए।

eye problems

आंखों से संबंधित आम समस्याएं

मोतियाबिंद 

कई लोग आपने देखे होंगे जो मोतियाबिंद जैसी समस्या का सामना कर रहे हैं, इसका समय पर इलाज न कराने के कारण आंखों की रोशनी को भी हानि हो सकती है। इस स्थिति में आंख में दर्द और देखने की क्षमता कम होने लगती है। मोतियाबिंद आमतौर पर बढ़ती उम्र में देखा जाता है जिसमें डायबिटीज और यूवी रेज को मुख्य कारण माना जाता है। 

मैक्युलर डिजेनेरेशन

बढ़ती उम्र में लोग मैक्युलर डिजेनेरेशन जैसी समस्या का भी सामना कर रहे होते हैं, जो एक आंखों से संबंधित बीमारी है। इस स्थिति को ज्यादातर लोग 60 की उम्र के बाद ही देखते हैं। आपको बता दें कि इस स्थिति में आपकी आंखों के मैक्युला नष्ट होने लगते हैं जो आपकी रेटिना का एक हिस्सा है। इस कारण आपकी आंखों की रोशनी भी कम होने लगती है। मैक्युलर डिजेनेरेशन के दो प्रकार होते हैं, जिसमें एक सूखा और गीला होता है। गीले की स्थिति में रक्त वाहिकाएं बढ़ने लगती हैं और शुष्क की स्थिति में कोशिकाएं टूटने लगती हैं। जिस कारण रोशनी पर इसका सीधा असर पड़ता है। 

इसे भी पढ़ें: आंखों की जांच के लिए डॉक्‍टर के पास कब जाएं? पढ़ें नेत्र रोग विशेषज्ञ की सलाह

आंख पर जोर पड़ना

आंख पर जोर पड़ना एक आम समस्या है जिसे लोग अक्सर नजरअंदाज करते हैं जबकि ये आंखों की एक गंभीर समस्या है। ये उन लोगों में ज्यादा देखी जाती है जो लोग दिनभर कंप्यूटर और लैपटॉप पर काम करते हैं , इस कारण आंखों पर थकावट होने लगती है और आंखें भारी होने लगती है। इसे आप नजरअंदाज करते हैं तो ये आगे जाकर रोग में भी बदल सकता है, इसलिए जरूरी है कि आप आंखों को पर्याप्त आराम दें। इसके साथ ही अगर आप कंप्यूटर नियमित रूप से काम करते हैं तो जरूरी है कि आप समय-समय पर आंखों की जांच कराएं। 

रात में अंधापन या रतौंधी

रात में कम दिखाई देना या बिलकुल दिखाई न देना एक प्रकार की गंभीर स्थिति है जिसे नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। इसे रतौंधी भी कहा जाता है। नीरसता, मोतियाबिंद, केराटोकोनस, और विटामिन ए की कमी से एक प्रकार का रतौंधी रोग होता है जिसे इलाज के जरिए ठीक किया जा सकता है। ऐसे में आपको ज्यादा आंखों पर जोर देने की जरूरत नहीं है बल्कि आप डॉक्टर से संपर्क कर चश्मे का इस्तेमाल करना शुरू करें। ये आपके लिए आरामदायक और एक बेहतरीन विकल्प हो सकता है। 

इसे भी पढ़ें: इन 5 कारणों से आंखों में हो जाती है कलर ब्‍लाइंडनेस की समस्‍या, ऐसे करें उपचार

आंखों को स्वस्थ कैसे रखें

  • आंखों को स्वस्थ रखने का सबसे अच्छा तरीका है कि आप नियमित रूप से आंखों की जांच कराएं, जिसमें आपको अपनी आंखों की स्थिति के बारे में सही जानकारी मिल सकती है। 
  • पूर्ण स्वास्थ्य के साथ ही आंखों को स्वस्ख रखने के लिए जरूरी है कि आप हेल्दी डाइट का पालन करें, जो आपकी आंखों के स्वास्थ्य को बढ़ावा दें। इसके लिए आप अपने डॉक्टर से संपर्क कर डाइट प्लान कर सकते हैं। 
  • धूम्रपान सिर्फ आपके फेफड़ों को ही नुकसान नहीं पहुंचाता बल्कि ये आपके पूर्ण स्वास्थ्य से लेकर आंखों को भी खराब करने का काम करता है। इसलिए आपको धूम्रपान का सेवन कम से कम करना चाहिए या इसका त्याग कर देना चाहिए। 
  • नींद का हमारी सेहत पर सीधा असर होता है, ऐसे ही आंखों के स्वास्थ्य पर भी नींद का असर होता है। अगर आप रोजाना पर्याप्त नींद नहीं लेते तो आपको गंभीर स्थिति का सामना करना पड़ सकता है। इसलिए आप रोजाना कम से कम 7 घंटे की नींद जरूर लें। 

आंखों का ख्याल रखना उतना ही जरूरी है जितना आप अपने पूर्ण स्वास्थ्य की देखभाल करते हैं। इसलिए आपको आंखों से संबंधित आम समस्याओं और बचाव के तरीकों के बारे में जानकारी होनी चाहिए।

Read More Article On Other Health Diseases In Hindi

Disclaimer