Stages of Alzheimer’s Disease: अल्जाइमर रोग के इन 7 चरणों के बारे में जरूर जानिए और समझें इसके लक्षण

अल्जाइमर रोग एक मानसिक गिरावट है, जिससे बचाव के लिए जरूरी है कि आप इसके इन 7 चरण के बार में जानें और क्या होते हैं इसके लक्षण। 

Vishal Singh
अन्य़ बीमारियांWritten by: Vishal SinghPublished at: Sep 28, 2020
Stages of Alzheimer’s Disease: अल्जाइमर रोग के इन 7 चरणों के बारे में जरूर जानिए और समझें इसके लक्षण

अल्जाइमर रोग मानसिक गिरावट का एक प्रकार है जो आमतौर पर बढ़ती उम्र के साथ 60 से 65 साल या उससे ज्यादा उम्र के लोगों के साथ देखी जाती है। इसकी शुरुआत अल्जाइमर 40 - 65 साल की उम्र के लोगों में ज्यादा होने का खतरा होता है। इस बीमारी के दौरान अक्सर लोग अपनी याददाश्त में कमी और अलग बर्ताव के साथ रहने लगते हैं। इसके साथ ही ये एक ऐसा रोग है जो किसी को भी समय से पहले बूढ़े होने का सबसे आम कारण है। आइए हम आपको इस लेख के जरिए बताते हैं कि अल्जाइमर कितने चरणों में होता है। 

स्टेज 1- कोई हानि नहीं

अल्जाइमर रोग अलग-अलग प्रकार से रोगियों के लक्षण द्वारा दिखाई दिए जाते हैं, लेकिन इसके पहले चरण में रोगी में मनोभ्रंश का किसी भी तरह के लक्षण नजर नहीं आता। अल्जाइमर की इस स्थिति में कभी-कभी बिना संज्ञानात्मक गिरावट नहीं में दिखाया जाता है। पहले चरण में, अल्जाइमर रोग वाले व्यक्ति में मनोभ्रंश का कोई स्पष्ट लक्षण नहीं है। इस स्तर पर, अल्जाइमर रोग अनिश्चित है। इस अवस्था को कभी-कभी 

स्टेज 2- बहुत हल्की गिरावट

अल्जाइमर के दूसरे चरण में रोगियों की बढ़ती उम्र के साथ सामान्य भूलने या याददाश्त में कमी दिखाई देती है। इस चरण को अक्सर कम याददाश्त के साथ देखा जाता है। इसमें रोगी छोटी-छोटी चीजों को भूलने लगता है और चीजों को बार-बार चैक करने लगता है। ये लक्षण आमतौर पर रोगी के परिवार और दोस्तों द्वारा देखे जाते हैं। 

स्टेज 3- गिरावट में बढ़त

तीसरे चरण में रोगी की भूलने की समस्या बढ़ने लगती है और लक्षण तेजी से परिवार के लोगों या दोस्तों को दिखाई देने लगते है। ऐसी स्थिति में रोगी अक्सर तुरंत भूलने और लंबे समय तक भूलने लगता है। ये अल्जाइमर का एक मुख्य चरण माना जाता है जिसमें चिकित्सक द्वारा जांच कराना जरूरी हो जाता है। भूलने की समस्या अगर ज्यादा दिन तक दिखाई दे तो आप इसे अल्जाइमर रोग के लक्षण के रूप में देख सकते हैं और डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं। 

स्टेज 4- डिमेंशिया

अल्जाइमर रोग के इलाज के लिए चौथे चरण को परखना बहुत जरूरी होता है। इस स्थिति में अक्सर रोगी अपने मानसिक संतुलन को पूरी तरह से खोने लगता है। जैसे किसी भी चीज को सोचने में विफल होना, याद करने में कमी, पैसों के लेनदेन में कमजोर और रास्ते न याद रख पाना। 

इसे भी पढ़ें: सही खानपान से रोका जा सकता है अल्जाइमर रोग का खतरा, न्यूट्रीशनिस्ट से जानें डाइट

स्टेज 5- मानसिक स्वास्थ्य में तेजी से गिरावट 

मनोभ्रंश के इस चरण में रोगी को पूरी तरह से चिकित्सक के पास होना चाहिए, जिससे कि वो समय पर अपना इलाज कराने के साथ मानसिक स्वास्थ्य को स्वस्थ रख सके। इस स्थिति में रोगी अपने घर का पता, फोन नंबर और लोगों के नाम भूलने आदि लक्षण को दिखा सकता है। रोगी की स्थिति को ज्यादा बिगड़ता देख डॉक्टर आपको जांच की सलाह दे सकता है जो आपके लिए एक जरूरी प्रक्रिया है। 

स्टेज 6- आदतों में बदलाव

अल्जाइमर के छठे चरण में रोगी अपने मानसिक संतुलन को पूरी तरह से खो देता है और ऐसे में उसे कहीं भी जाने या किसी भी चीज को करने में किसी के साथ की जरूरत होती है। यहां तक कि वो खुद से खाना खाने और कपड़े पहनने में भी विकफ साबित होता है। स्टेज 5: रोग की गंभीर स्थिति और भारी गिरावट

इसे भी पढ़ें: इन 7 कारणों से युवाओं में बढ़ रहा है अल्जाइमर रोग, याददाश्त में कमी है पहला संकेत

स्टेज 7:अनियंत्रित बर्ताव के साथ रहना

इस स्थिति में रोगी पूरी तरह से अनियंत्रित आदतों के साथ रहने लगता है, इसमें न तो वो किसी के साथ बात कर पाता है न ही कुछ सोचने में। उन्हें इस स्थिति में कुछ भी समझाया जाना बहुत मुश्किल हो सकता है। इसलिए अल्जाइम रोग के इस चरण को गंभीर और आखिरी चरण माना जाता है, इसमें रोगी को पूरी तरह से चिकित्सक देखरेख की जरूरत होती है।  

Read more articles on Other Diseases in Hindi

Disclaimer