coronavirus: घर के अंदर कितनी तेजी से फैलता है कोरोना वायरस, जानें अध्ययन में क्या आया सामने

दुनियाभर में कोरोना वायरस का प्रकोप तेजी से फैल रहा है, जानें आपके घर में कितनी तैजी से इसका संक्रमण फैलता है। 

Vishal Singh
लेटेस्टWritten by: Vishal SinghPublished at: Jun 20, 2020Updated at: Jun 20, 2020
coronavirus: घर के अंदर कितनी तेजी से फैलता है कोरोना वायरस, जानें अध्ययन में क्या आया सामने

कोरोना वायरस (Coronavirus) दुनियाभर में एक बड़ी बीमारी बन हुआ है, जिसे लेकर कई देश रिसर्च और इसकी दवा बनाने में लगे हुए हैं। तब तक सभी डॉक्टर्स और वैज्ञानिकों का कहना है कि बार-बार इस्तेमाल करने वाली चीज को साफ करते रहें, अपने हाथों को धोते रहें और एक-दूसरे से दूरी बनाकर रखें। कई महीनों से फैले इस संक्रमण ने सभी को ये समझा दिया है कि कैसे इससे बचा जा सकता है, क्योंकि वायरस लंबे समय तक एरोसोल कणों पर श्वसन बूंदों और यहां तक कि लिंग के माध्यम से लोगों के बीच फैलता है।

हम किसी सार्वजनिक स्थान पर जाते समय खास तरह का ध्यान रखने की जरूरत पड़ती है। बाहर तो अधिकतर लोग इस संक्रमण से बचने का तरीका इस्तेमाल करते हैं, लेकिन क्या घर पर बचाव संभव है या आप जानते हैं कि घर के अंदर ये संक्रमण कितनी तेजी से फैलता है। एक नए अध्ययन से पता चला है कि कोविड -19 घर के अंदर करीब दो बार संक्रामक है, जैसे कि सार्स जैसी समान बीमारियों की तुलना में, एक कोरोनोवायरस (Coronavirus) रोगी के बहुत पहले रोगाणु फैलने से बहुत ज्यादा लक्षण दिखाई देते हैं।

covid-19

अध्ययन के अनुसार

शोधकर्ताओं जो चीन और संयुक्त राज्य अमेरिका में स्थित हैं उन्होंने दावा किया है कि यह खोज आने वाले समय में नए संक्रमण की संख्या को कम करने में हमारी मदद कर सकता है। इस अध्ययन के लिए शोधकर्ताओं ने चीन के गुआंगझोउ शहर में कोरोनावायरस (Coronavirus) से पीड़ित करीब 350 रोगियों और उनके करीब 2 हजार संपर्कों के डेटा का इस्तेमाल किया। पूरे डेटा की समीक्षा करने के बाद वायरस के हमले की दर का अनुमान लगाने में सक्षम थे। शोधकर्ताओं को पता चला कि एक औसत मरीज के पास बीमारियों का संक्रमण होने का केवल 2.4 फीसदी मौका है, जिसके साथ वे नहीं रहते हैं। 

इसके साथ ही संक्रमण की संभावना 60 साल से ऊपर के लोगों में सबसे ज्यादा देखी गई थी, और 20 साल से कम उम्र के लोगों में ये समस्या सबसे कम मापी गई थी। इस अध्ययन में शोधकर्ताओं ने पाया कि एक कोविड-19 (COVID-19)रोगी के परिवार के सदस्य या फ्लैटमेट को संक्रमित करने की संभावना काफी ज्यादा मापी गई थी - ये करीब 39 फीसदी था। इससे पहले कि वे बाद में लक्षणों को दिखाना शुरू कर देते थे। 

covid-19

इसे भी पढ़ें: कोरोना वायरस से बुजुर्गों को बचाने के 10 वास्‍तु टिप्‍स, जानिए वास्‍तु विशेषज्ञ डॉ. रविराज से

कोविड-19 के संक्रमण को रोकने में पहले ही हो गई है देरी

अध्ययन के लेखक ने चेतावनी दी है कि मॉडल मान्यताओं की एक श्रृंखला पर आधारित है, जैसे कि कोविड -19 (Coronavirus) के संचरण की हाल की जानकारी, ऊष्मायन की लंबाई के बारे में और कब तक रोगसूचक मामले संक्रामक हैं, जिनमें परिवर्तन अनुमानों की सटीकता को प्रभावित कर सकते हैं। कई यूरोपीय देशों ने, सप्ताह भर चलने वाले लॉकडाउन को शुरू करने से पहले ही घर पर रहने के लिए सार्वजनिक स्वास्थ्य सलाह जारी की थी कि हर कोई कोशिश करें कि ज्यादा से ज्यादा घरों में ही रहें। शोधकर्ताओं का कहना है कि कोविड -19 को व्यापक रूप से प्रसारित होने से रोकने के लिए पहले ही बहुत देर हो चुकी है।

इसे भी पढ़ें: दिल्ली की इस मशहूर डायटीशियन ने बताई कोरोना से जंग की कहानी, स्‍वाद-गंध न महसूस होने से शुरू हुए थे लक्षण

बचाव

  • अपने हाथों को साबुन से बार-बार धोएं।
  • बार-बार अपने चेहरे को छूने से बचें।
  • हाथ मिलाना और लोगों को गले लगाना बंद करें।
  • अपनी इस्तेमाल चीज न किसी को दें और न ही किसी का सामान इस्तेमाल करने के लिए लें। 
  • खांसने और छींकने पर अपना मुंह और नाक जरूर ढकें।
  • सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा पालन करें। 

Read More Article On Health News In Hindi

Disclaimer