Vaginal Steaming: कितनी सुरक्षित और फायदेमंद है वैजाइनल स्टीमिंग जानें फायदे और नुकसान

वैजाइनल स्टीमिंग, वैजाइना संबंधी समस्याओं को दूर करने और योनि स्वास्थ्य में सुधार के लिए एक प्रभावी तरीका है, लेकिन क्या यह कितना सुरक्षित है? जानिए।

Sheetal Bisht
Written by: Sheetal BishtPublished at: Dec 20, 2019Updated at: Dec 20, 2019
Vaginal Steaming: कितनी सुरक्षित और फायदेमंद है वैजाइनल स्टीमिंग जानें फायदे और नुकसान

वैजाइना, महिला के शरीर का एक बहुत ही महत्वपूर्ण और कोमल अंग है। मासिक धर्म से प्रजनन तक, यह एक महिला के स्वास्थ्य में यह एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। वैजाइना की साफ—सफाई के लिए डॉक्टर भी हमेशा सलाह देते हैं। इसके अलावा, आपकी अच्छी सेहत और वैजाइना की सफाई के लिए बाजार में बहुत सारे प्रॉडक्ट उपलब्ध हैं, जो इन उत्पादों की आवश्यकता को उजागर करते हैं। लेकिन वहीं बेहतर वैजाइनल हेल्थ के लिए 'वेजाइनल स्टीमिंग' नाम की थेरेपी भी की जाती है, जो कथित तौर पर वैजाइना को साफ करने में मदद करती है। लेकिन सवाल यह उठता है कि क्या यह वास्तव में आपके निजी भागों को साफ करने का एक सुरक्षित तरीका है? आइए यहां आपको इसका जवाब और वैजाइनल स्टीमिंग से जुड़ी सभी बाते बताते हैं।

अमेरिकी अभिनेत्री ग्वेनेथ पाल्ट्रो ने खुलासा किया कि वह वैजाइना स्टीमिंग का अभ्यास करती हैं, इस थेरेपी ने दुनिया भर में लोकप्रियता हासिल की। इसके लाभों के बारे में बात करते हुए, इस थेरेपी को वैजाइना को साफ करने, अनियमित अवधियों का इलाज करने, मासिक धर्म में ऐंठन और सूजन और प्रजनन क्षमता बढ़ाने के लिए जाना जाता है। वैजाइनल स्टीमिंग को योनी स्टीमिंग या वी-स्टीमिंग के रूप में भी जाना जाता है। हालांकि, इस थेरेपी के साथ कुछ जोखिम भी आते हैं जैसे कि जलन आदि।

इसे भी पढ़ें: वर्कआउट करते वक्त वजाइनल हेल्थ से जुड़ी इन बातों का रखें ख्याल, नहीं तो हो सकती हैं आप परेशान

वैजाइनल स्टीमिंग कैसे काम करती है?

वैजाइनल स्टीमिंग के में तुलसी, रोजमैरी, कैमोमाइल, मगवॉर्ट, कैलेंडुला और वर्मवुड जैसी जड़ी-बूटियों के साथ एक स्टीमिंग पॉट होता है, जो महिला स्वास्थ्य को बढ़ावा दे सकता है। कहा जाता है कि इन जड़ी-बूटियों से योनि के ऊतकों में गहराई तक प्रवेश करके थेरेपी से लाभ होता है। कुछ लोग घर पर इस थेरेपी को करते हैं, लेकिन एक एक्सपर्ट के साथ ही यह करना बेहतर है।

वैजाइनल स्टीमिंग में जड़ी-बूटियों की भाप यानि वैजाइना में प्रवेश करती है, जिससे प्रजनन प्रणाली से संबंधित बीमारियों को ठीक करने में मदद मिलती है। आइए यहां वैजाइनल स्टीमिंग प्रक्रिया के स्टेप जानें:

  • सबसे पहले गर्म पानी का पॉट लें और फिर इसमें चुनी हुई जड़ी बूटियों को डाल दें। अब आप इस ढक्कन को कवर करें।
  • इसे 2—3 मिनट तक ढककर रखें।
  • अब एक स्टूल लें और पॉट को नीचे रखें। शरीर के निचले भाग के कपड़े निकालने लें और बाद में पॉट के पास बैठ जाएं। कोशिश करें कि भाप आपके वैजाइना तक पहुंचे।
  • अगर आप एक तौलिया के साथ शरीर के निचले भाग को कवर करते हैं, तो सही तरीके से हर्बल भाप आपकी वैजाइना तक नहीं पहुंच पाती।
  • आमतौर पर यह 30 मिनट के लिए किया जाता है लेकिन यह भिन्न भी होता है।

वैजाइनल स्टीमिंग के फायदे

वैजाइनल स्टीमिंग को योनि सफाई और प्रजजन स्वास्थ्य में सुधार के लिए एक प्राकृतिक उपचार के रूप में देखा जाता है। यहाँ वैजाइनल स्टीमिंग के कुछ संभावित लाभ हम आपको बता रहे हैं, जिनमें कि यह वैकल्पिक चिकित्सा राहत प्रदान करती है:

  • मानसिक तनाव और चिंता
  • डिप्रेशन
  • हार्मोनल असंतुलन
  • अनियमित पीरियड्स
  • बवासीर
  • पाचन संबंधी समस्याएं
  • फर्टिलिटी
  • वैजाइनल इंफेक्शन

वैजाइनल स्टीमिंग के नुकसान

यह प्रक्रिया अच्छे और बुरे दोनों कारणों से जानी जाती है। एक तरफ, जहां यह कई महिलाओं के स्वास्थ्य से जुड़ी समस्याओं को हल करने में सहायक है, वहीं इससे कुछ महिलाओं को गंभीर जलन और चोटें भी आई हैं।

जर्नल ऑफ ऑब्स्टेट्रिक्स एंड गायनेकोलॉजी में प्रकाशित एक मामले के अनुसार, एक 62 वर्षीय कैपेडा की महिला, जो वेजाइनल प्रोलैप्स से पीड़ित थी, उनने इस तरीके को आजमाया। जिसके पीछे उसका उद्देश्य वैजाइना की समस्या से छुटकारा पाना था। उसे एक चीनी डॉक्टर द्वारा सर्जरी से बचने के लिए इस उपचार का सुझाव दिया गया था। दुर्भाग्य कि वह इस प्रक्रिया के दौरान वैजाइना व उसके आसपास जल गई। जिसके बाद न केवल उसे जलने का इलाज करना पड़ा, बल्कि योनि के आगे के भाग की सर्जरी भी करनी पड़ी।

इससे पता चलता है कि इस चिकित्सा के कुछ नियम हैं, जिससे कुछ फायदे और वहीं असावधानी से कुछ नुकसान भी हैं।

  • योनि से भाप लेने से शरीर के प्राकृतिक पीएच स्तर में बाधा आ सकती है।
  • यह योनि की प्राकृतिक चिकनाई को प्रभावित करेगा।
  • इससे योनि में चोट और जलन पैदा हो सकती है।

Read more articles on Women's Health in Hindi

Disclaimer