Health Tips: इन 4 तरीकों से आपकी वैजाइनल हेल्‍थ को प्रभावित कर सकती है मेंटल हेल्‍थ

आपके मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य का असर आपके पूरे शरीर पर पड़ता है। शायद आप न जानते हों, कि आपकी मेंटल हेल्‍थ आपकी वैजाइनल हेल्‍थ को भी प्रभावित कर सकती है।

Sheetal Bisht
Written by: Sheetal BishtUpdated at: Mar 26, 2021 13:24 IST
Health Tips: इन 4 तरीकों से आपकी वैजाइनल हेल्‍थ को प्रभावित कर सकती है मेंटल हेल्‍थ

क्‍या आप भी चिंता या तनाव महसूस कर रहे हैं? अगर हां, तो आपको इसे तुरंत कंट्रोल करने की जरूरत है। ऐसा इसलिए क्‍योंकि चिंता या तनाव लेना न केवल आपकी मानसिक सेहत को बिगाड़ता है, बल्कि यह आपके लिए कई शारीरिक समस्‍याएं भी पैदा करता है। आपको जानकर हैरानी हो सकती है कि चिंता या तनाव का आपकी वैजाइनल हेल्‍थ पर भी बुरा असर होता है। जी हां, आपकी मेंटल हेल्‍थ और वैजाइनल हेल्‍थ आपस में जुड़ी हैं।

अक्‍सर देखा जाता है कि यदि आप बहुत अधिक तनाव या चिंता के शिकार हो रहें हैं, तो इससे आपके मेंस्‍ट्रुअल साइकिल में बदलाव आता है। ऐसा इसलिए होता है क्‍योंकि आपका भावनात्‍मक स्‍वास्‍थ्‍य आपकी कई समस्‍याओं को पैदा कर सकता है। तनाव और चिंता आपके शरीर में तनाव हार्मोन कोर्टिसोल को रिलीज करता है। इससे आपके शरीर में हार्मोनल असंतुलन पैदा होता है, जो कि महिलाओं में उनकी मेंस्‍ट्रुअल साइकिल को प्रभावित करता है। आइए यहां जानिए कि कैसे आपकी मेंटल हेल्‍थ आपकी वैजाइनल हेल्‍थ से जुड़ी है।  

mental health

मेंटल हेल्‍थ का वैजाइनल हेल्‍थ पर प्रभाव

आपकी मेंटल हेल्‍थ आपकी वैजाइनल हेल्‍थ पर इन 4 तरीकों से असर डाल सकती है:

इसे भी पढ़ें: महिलाओं में वजाइनल समस्याओं का कारण बनता है यीस्ट इंफेक्शन, जानें लक्षण और इलाज

वैजाइनल इंफेक्‍शन

ऐसा माना जाता है कि जब आपके शरीर में तनाव हार्मोन कोर्टिसोल अधिक मात्रा में रिलीज होता है, तो यह वैजाइना फ्री ग्‍लाइकोजन और लैक्‍टोबैसिली बैक्‍टीरिया के  स्‍तर को कम कर सकता है। इसके अलावा, यह आपकी वैजाइना के पीएच लेवल को भी प्रभावित करता है। इससे यह वैजाइनल इंफेक्‍शन का कारण भी बन सकता है।

प्रेगनेंसी कॉम्प्लिकेशन को बढ़ाए

यदि आप अपनी गर्भावस्‍था के दौरान या पहले तनाव लेते हैं, तो यह प्रेगनेंसी कॉम्प्लिकेशन को बढ़ा सकता है। ऐसा माना जाता है कि गर्भावस्‍था में तनाव गर्भवती महिलाओं की वैजाइनल हेल्‍थ को नुकसान पहुंचाता है। कुछ मामलों में यह प्रेगनेंसी में इंफेक्‍शन और प्री-टर्म लेबर यानि समय से पहले जन्‍म का कारण बन सकता है।

इसे भी पढ़ें: पीरियड्स के बिना ही वजाइना और यूटरस में होता है पीरियड्स जैसा दर्द? हो सकती है आपको ये 5 गंभीर परेशानियां

टेस्‍टोस्‍टेरोन की कमी

ऐसा माना जाता है कि यदि आप अधिक तनाव या चिंता महसूस करते हैं, तो यह टेस्‍टोस्‍टेरोन हार्मोन की कमी का कारण बन सकता है। ऐसा तनाव हार्मोन कोर्टिसोल की वृद्धि के कारण होता है। यह आपकी सेक्‍सुअल हेल्‍थ को भी प्रभावित कर सकता है। इसलिए आपको मेंटली हेल्‍दी रहने की जरूरत है, क्‍योंकि आपकी मेंटल हेल्‍थ आपकी वैजाइनल और सैक्‍सुअल हेल्‍थ दोनों से जुड़ा है।

vaginal health

यौन संचारित संक्रमण का कारण

आपको जानकर आश्‍चर्य होगा कि तनाव महिलाओं में यौन संचारित संक्रमण का कारण बन सकता है। अधिक तनाव के कारण गो‍नोरिया, एचआईवी और फंगल इंफेक्‍शन आदि संक्रमणों का खतरा बढ़ सकता है। इसलिए आपको मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य के प्रति सचेत रहना चाहिए।

इस प्रकार आप अपनी मेंटल हेल्‍थ का विशेष ध्‍यान दें, क्‍योंकि यह आपकी सेहत को एक नहीं कई तरीकों से प्रभावित कर सकता है। इसलिए यदि आप तनाव और चिंता महसूस करते हैं, तो आप अपने खानपान का विशेष ध्‍यान दें और नियमित व्‍यायाम को अपने जीवन का अहम हिस्‍सा बनाएं। इसके अलावा, आप हमेशा सकारात्‍मक रहने की कोशिश करें।

Read More Article On Mind And Body In Hindi

Disclaimer