क्या बिना सर्जरी के भी हो सकता है किडनी स्टोन का इलाज? जानें क्या कहते हैं डॉक्टर

क्या हर मरीज को किडनी स्टोन से छुटकारा पाने के लिए सर्जरी की है जरूरत? चलिए डॉक्टर से जानते हैं इस विषय की पूरी जानकारी

Kishori Mishra
Written by: डॉ.नितिन श्रीवास्तवPublished at: Sep 20, 2021Written by: Kishori Mishra
क्या बिना सर्जरी के भी हो सकता है किडनी स्टोन का इलाज? जानें क्या कहते हैं डॉक्टर

भारत में किडनी स्टोन की समस्या काफी आम हो चुकी है। लगभग 10 से 15 फीसदी लोगों को अपनी लाइफ में कभी न कभी किडनी स्टोन की समस्या का सामना करना पड़ता है। इसमें से 50 से 70 फीसदी लोगों को कई बार किडनी स्टोन की समस्या हो सकती है। ऐसे में यह प्रश्न उठना स्वभाविक हो जाता है कि क्या किडनी स्टोन से छुटकारा पाने के लिए सर्जरी कराना जरूरी है? क्या कोई ऐसा अन्य तरीका नहीं है जिससे सर्जरी से बचा जा सके? गुड़गांव स्थित Artemis Hospital के यूरोलॉजी एंड किडनी ट्रांसप्लांट डिपार्टमेंट के डॉक्टर नितिन श्रीवास्तव बताते हैं कि किडनी स्टोन को लेकर अंतरराष्ट्रीय दिशानिर्देशों में बताया गया है कि किडनी स्टोन की समस्या से जूझ रहे सभी मरीजों को सर्जरी की आवश्यकता नहीं पड़ती है। कई रिसर्च में यह देखा गया है कि किडनी में मौजूद स्टोन यूरिन के माध्यम से छोटे-छोटे पथरी के टुकड़े बाहर निकल जाते हैं। इसके अलावा कभी-कभी दवाइयों का सहारा लेकर यूरिन पाइप के माध्यम से पथरी को बाहर निकालने की कोशिश की जाती है। चलिए डॉक्टर नितिन से जानते हैं कि बिना सर्जरी से किडनी स्टोन की समस्या से कैसे पाया जा सकता है छुटकारा-

किन स्थिति में बिना सर्जरी के किडनी स्टोन का किया जा सकता है इलाज? 

डॉक्टर नितिन बताते हैं कि किडनी स्टोन का इलाज करने के दौरान हमारी यह प्राथमिकता होती है कि इससे किडनी की कार्यप्रणाली पर कोई असर न पड़े। किडनी स्टोन का इलाज शुरू करने से पहले हमें स्टोन का साइज और उसकी परिस्थितियों का जानना जरूरी होता है, ताकि सुरक्षित तरीके से किडनी स्टोन का इलाज किया जा सके।  सर्जरी का तुरंत फैसला करने से पहले किडनी स्टोन का सही तरीके से निरीक्षण करना जरूरी होता है। हालांकि, कुछ मामलों में स्टोन मूत्र मार्ग में प्रवेश करके आपकी परेशानियों को बढ़ा सकती हैं। लेकिन अगर मूत्र मार्ग में किसी तरह का संक्रमण या फिर रुकावट पैदा न हुई हो तो सर्जरी के अलावा अन्य विकल्पों का सहारा लिया जा सकता है। राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय दिशानिर्देशों के मुताबिक, किडनी की पथरी या मूत्रवाहिनी की पथरी में अगर नीचे दी गई परिस्थितियां हैं, तो सर्जरी के लिए जाने से पहले चिकित्सीय इलाज पर विचार करना बेहतर हो सकता है। 

इसे भी पढ़ें - पेशाब की थैली में पथरी के कारण, लक्षण और बचाव के तरीके

पथरी का आकार

डॉक्टर नितिन के मुताबिक, अगर पथरी का साइज 6 mm से बड़ा होता है, तो इस स्थिति में पथरी का इलाज सर्जरी के द्वारा ही संभव है। वहीं, अगर पथरी का साइज 6 mm से कम है और यह मूत्रवाहिनी के नीचे चला गया है, तो इसका इलाज बिना सर्जरी के 70 फीसदी तक संभव हो सकता है। 

पथरी का स्थान

अगरी पथरी मूत्रवाहिनी के नीचने हिस्से में मौजूद है, तो इस स्थिति में बिना सर्जरी के पथरी का इलाज करना संभव है। वहीं, अगर पथरी मूत्रवाहिनी के ऊपरी भाग में फंस गया है, तो इस स्थिति में स्टोन निकालने के लिए सर्जरी का सहारा लिया जा सकता है।

परीक्षण का स्टेज

अगर पथरी का परीक्षण समय से किया जाए, तो इस स्थिति में दवाइयों के सहारे किडनी स्टोन का इलाज किया जा सकता है। लेकिन अगर काफी दिनों से मूत्रवाहिनी में पथरी मौजूद है, तो इससे समस्या बढ़ने का खतरा ज्यादा रहता है। ऐसी स्थिति में डॉक्टर सर्जरी की सलाह दे सकते हैं। 

कुछ जटिलताएं

मूत्रवाहिनी में स्टोन होने पर अगर आपको किसी भी तरह की जटिलताएं जैसे- गुर्दे में सूजन या अन्य खतरा महसूस नहीं हो रहा है, तो इस स्थिति में सर्जरी के बिना किडनी स्टोना का इलाज किया जा सकता है।

किडनी में मौजूद एक छोटा सा स्टोन जो बिना किसी रुकावट या गंभीर लक्षण के किडनी के कोने में पड़ा है, तो इस स्थिति में दवाइयों से इसका इलाज किया जा सकता है। 

इसे भी पढ़ें - इन 10 कारणों से बढ़ता है किडनी की पथरी (किडनी स्टोन) का खतरा, डॉक्टर से जानें इनसे बचाव के लिए क्या करें

किडनी स्टोन हटाने के लिए कब पड़ती है सर्जरी की जरूरत?

  • किडनी में पथरी होने पर अगर आपको किसी तरह की रुकावट हो रही है, जिसके कारण आपको सहनीय दर्द, उल्टी जैसे लक्षणों का सामना करना पड़ रहा है, तो इस स्थिति में डॉक्टर सर्जरी की सलाह दे सकते हैं। 
  • किडनी की पथरी या मूत्र मार्ग में पथरी होने पर अगर यूरिन निकालने में किसी तरह की रुकावट उत्पन्न हो रही है और गुर्दे में सूजन और कार्य प्रणाली पर किसी तरह का असर दिख रहा है, तो इस स्थिति में सर्जरी की आवश्यकता होती है। 
  • किडनी में पथरी होने पर अगर मूत्र वाहिनी में संक्रमण फैल रहा है, जिसके कारण मरीज को बुखार हो गया है तो इस स्थिति में सर्जरी की आवश्यकता हो सकती है।
  • अगर किसी मरीज की सिर्फ एक किडनी कार्यशील (जन्मजात या अन्य बीमारी की वजह से 1 किडनी निकल गई हो) है, किडनी है, तो इस स्थिति में मरीज को सर्जरी की सलाह दी जाती है। 
  • अगर पथरी दोनों किडनी या दोनो मूत्रमार्ग में मौजूद होती है, तो इस स्थिति में दोनों ओर मूत्र प्रवाह में परेशानी आ सकती है। यह एक खतरनाक स्थिति हो सकती है। ऐसे में तुरंत सर्जरी की आवश्यकता होती है। 
  • किडनी स्टोन अगर कुछ सप्ताह से इलाज चल रहा है, लेकिन स्टोन बाहर नहीं निकल पा रहा है तो इस स्थिति में सर्जरी की आवश्यकता हो सकती है क्योंकि अधिक समय तक मूत्र मार्ग में स्टोन होने से टिश्यूज को नुकसान पहुंच सकता है। 

किडनी स्टोन के इलाज का विकल्प जानने के लिए यूरोलॉजिस्ट से करें बात

ऊपर बताई गई बातें कुछ अनुमानित दिशा-निर्देश हैं। लेकिन इसे आप एक नियम समझने की गलती न करें। क्योंकि हर व्यक्ति का इलाज एक जैसे दिशा-निर्देशों का पालन करके नहीं किया जा सकता है। मरीज की परिस्थिती को जानकर अलग-अलग तरह से इलाज किया जाता है। कुछ व्यक्तियों में किडनी स्टोन के लक्षण कम या फिर ज्यादा दिख सकते हैं। इसके अलाव कुछ लोगों की परिस्थियां अलग हो सकती हैं। जैसे मरीज को स्टोन के साथ-साथ अन्य बीमारियां जैसे- डायबिटीज, किडनी खराब होना इत्यादि समस्याएं हो सकती हैं। ऐसे में व्यक्ति का अलग तरीके से इलाज हो सकता है। इसलिए अगर आपको किडनी स्टोन की परेशानी है, तो अपने यूरोलॉजिस्ट से संपर्क करें। ताकि डॉक्टर आपका सही से निरीक्षण करने उचित इलाज की सलाह दें। किडनी स्टोन होने पर अगर आप सर्जरी नहीं करवा रहे हैं और चिकित्सीय उपचार ले रहे हैं, तो अपने डॉक्टर से बीच-बीच में जरूर बात करते रहें, ताकि आपकी निगरानी सही से हो सके। 

Read More Articles on other -diseases in Hindi

 
Disclaimer