इन 6 तरह के पानी के गरारे करने से गले की हर समस्या होती है दूर, जानें रोज गरारा करने के 11 फायदे

गले में खराश या भारीपन होने पर अकसर हम गरारे का उपयोग करते हैं। ऐसे में इसके लाभ और प्रकारों की पूरी जानकारी होनी जरूरी है।

Garima Garg
Written by: Garima GargPublished at: Feb 12, 2021Updated at: May 10, 2021
इन 6 तरह के पानी के गरारे करने से गले की हर समस्या होती है दूर, जानें रोज गरारा करने के 11 फायदे

गले में तकलीफ होने पर हम अक्सर घरेलू उपायों का इस्तेमाल करते हैं। इन घरेलू उपायों में सबसे ज्यादा प्रसिद्ध गरारे (Gargling) हैं। गले में दर्द हो या खराश, सबसे पहले हमारे मन में गरारे का ख्याल ही आता है। यह घरेलू नुक्सा हमेशा काम आने वाली चीज है। ऐसे में गरारे के फायदों को समझना बेहद जरूरी है। सबसे पहले हम आपको बता दें कि गरारे के लिए पानी अनेक चीजों के माध्यम से बनाया जा सकता है। आज हम आपको इन्हीं चीजों के बारे में बताएंगे। आज हम आपको इस लेख के माध्यम से बताएंगे कि गरारे करने के लिए पानी किन चीजों से तैयार किया जा सकता है साथ ही जानेंगे कि गरारे के लाभ क्या हैं? पढ़ते हैं आगे... 

 

गरारे के पानी के प्रकार (Types of Gargling Water)

वैसे तो गरारे के पानी को तैयार करने के लिए अधिकतर घरों में नमक का प्रयोग किया जाता है। लेकिन क्या आप  जानते हैं कि नमक के अलावा भी हमारी रसोई में ऐसी चीजें मौजूद हैं, जिनके सेवन से गले की काफी समस्याएं दूर हो सकती हैं, जानते हैं इनके बारे में...

1 - लौंग के पानी से करें गरारे

बता दें कि लौंग के अंदर ऐसे गुण पाए जाते हैं जो मुंह के कीटाणु को मारने का काम करते हैं। साथ ही ये गले की सूजन को भी कम करते हैं। ऐसे में आप एक गिलास पानी में दो-तीन लौंग डालकर उबालें और इस मिश्रण से गरारे करें। ऐसा करने से गले की सूजन और गले में जमा कफ दोनों ही बाहर आ जाएंगे। 

2 - अदरक के पानी से करें गरारे

अदरक के अंदर गले की अनेक समस्या को कम करने के गुण पाए जाते हैं। जहां अदरक की चाय बैचेनी को शांत करती है वहीं अदरक का रस गले में खराश को दूर करता है। ऐसे में आप एक गिलास पानी को उबालें और उसमें अदरक का पाउडर मिलाएं, बने मिश्रण से गरारे करें। बता दें कि अगर आप कच्चा अदरक का इस्तेमाल करना चाहते हैं तो पानी में थोड़ा सा अदरक कांटे और इस मिश्रण को उबालें और छान कर शहद मिला लें या लाल मिर्च डालकर गरारे करें।

3 - सेब के सिरके के पानी से करें गरारे

सेब के सिरके के अंदर गले की सूजन कम करने के गुण पाए जाते हैं। वही ये मुंह के कीटाणुओं को मारने का भी काम करता है। ऐसे में आप गले की कई समस्याओं से परेशान हैं तो सेब के सिरके के पानी से गरारे करें। इसके लिए आपको आधे गिलास पानी में दो चम्मच सेब का सिरका मिलाना होगा। लेकिन ध्यान दें कि इस पानी को उबालें नहीं बस गर्म करके गरारे करें। 

इसे भी पढ़ें - क्या है तोदरी? आयुर्वेदिक एक्सपर्ट से जानिए इसके 8 असरदार फायदे

4 - लाल मिर्च के पानी के करें गरारे

बता दें  कि लाल मिर्च के पानी से गरारे करने से गले की कई परेशानी का हल निकल सकता है। ऐसे में आप एक गिलास पानी को उबाल लें और उसमें लाल मिर्च का पाउडर डालकर मिलाएं। अब बने मिश्रण से गरारे करें। इस बात का ध्यान रखें कि शुरुआत में गले में थोड़ी सी जलन महसूस हो सकती है लेकिन गरारे करने से गला एक दम साफ हो जाएगा।

5 - हल्दी के पानी से करें गरारे

हल्दी के अंदर भी सूजन कम करने और मुंह के कीटाणु मारने के गुण पाए जाते हैं। ऐसे में हल्दी के पानी से गरारे करने से गले को बहुत फायदे मिल सकते हैं। इसके लिए आपको एक गिलास पानी में हल्का गर्म करना होगा और उसमें थोड़ी सी हल्दी मिलानी होगी। अब नमक डालकर गरारे करने होंगे। आराम मिलेगा। 

इसे भी पढ़ें : इमली ही नहीं बल्कि इसके बीज भी हैं शरीर के लिए फायदेमंद, जानें इमली के बीज के 8 फायदे और इस्तेमाल का तरीका

6 - नमक के पानी से करें गरारे

हर घर में गरारे नमक के पानी से किए जाते हैं। चूंकि नमक के अंदर एंटीबैक्टीरियल गुण पाए जाते हैं जो मुंह में मौजूद कीटाणुओं को मारते हैं। साथ ही ये गले के दर्द सूजन को भी कम करते हैं। ऐसे में आप एक गिलास पानी को गर्म करके उसमें नमक डालें। बनें मिश्रण से गरारे करें। आराम मिलेगा।

गरारे से मिलने वाले लाभ (Gargling Benefits)

गरारे करने से गले को अनेक लाभ हो सकते हैं। जानते हैं इनके बारे में... 

1 - बता दें कि बैक्टीरियल संक्रमण या वायरल इन्फेक्शन से टॉन्सिल की संभावना बढ़ जाती है, ऐसे में गले में गरारे करने से टॉन्सिल होने की समस्या को दूर किया जा सकता है।

2 - बता दें कि गरारे करने से मसूड़ों की सूजन कम होती है। साथ ही ये मुंह में लगने वाली चोट को भी जल्दी ठीक करते हैं।

3 - कुछ लोगों को बैक्टीरिया के कारण मसूड़ों से खून आने लगता है। ऐसे में गरारे करने से न केवल बैक्टीरिया निकलते हैं बल्कि मसूड़ों से खून आना भी बंद हो जाता है।

4 - जो लोग सूखी खांसी से परेशान हैं वह गरारे के जरिये इस परेशानी को बढ़ने से रोक सकते हैं। 

5 - अगर नियमित रूप से गरारे किए जाएं तो दांतों में कीड़ा लगने की संभावना कम हो जाती है।

6 - गरारे करने से मुंह और दांतों के बीच जो खाना फंसा होता है वह आसानी से निकल जाता है और दांत सड़ने से बच जाते हैं।

7 - गले में मौजूद बैक्टीरिया द्वारा बनाए जाने वाला एसिड गरारे करने से दूर होता है।

8 - जो लोग सर्दी और फ्लू से परेशान होने के चलते खराश के शिकार हो जाते हैं। उन लोगों को बता दें कि गरारे करने से खराश में आराम मिलता है।

9 - गरारे करने से नाक में जमा बलगम, और सांस की नली साफ होती है।

10 - आपने देखा होगा कि गले में सूजन आने के पीछे कभी-कभी एलर्जी भी एक कारण होती है। ऐसे में गरारे करने से इस एलर्जी को दूर किया जा सकता है।

11 - जो लोग रोज गरारे करते हैं उनमें ऊपरी श्वसन तंत्र संक्रमण का खतरा कम हो जाता है।

इन बातों का रखें ख्याल

गरारे करते वक्त इन बातों का रखें ख्याल-

1 - जब भी गरारे करें तो मिश्रण को कम से कम 30 सेकेंड तक अपने मुंह में रखें। 

2- अगर आपको नमक के पानी स गरारे करने में दिक्कत महसूस हो रही है तो आप सादे पानी से भी गरारे कर सकते हैं।

3 - अगर आप नमक के पानी से गरारे नहीं कर पा रहे हैं तो आप इसमें नींबू और शहद भी मिला सकते हैं। ऐसा करने से भी गला साफ हो जएगा। 

4 - गरारे वाला मिश्रण गले तक ही रोकें। इसे पेट में न जानें दें। 

5 - गले को सीधे रखकर गरारे नहीं किए जाते। इसके दौरान गले को थोड़ा सा झुकाएं। 

6- ध्यान रखें कि कुछ माउथवॉश में अल्कोहल पाया जाता है। ऐसे में ऐसे माउथवॉश से बचें। 

7- नमक के पानी के गरारे करने के लिए आप पानी में नमक को अच्छे से घोल लें वरना गले में छिलन पैदा हो सकती है।  

नोट- गरारे करने से गला स्वस्थ व साफ रहता है लेकिन कभी-कभी समस्या कुछ और सकती  है जो गरारे से ठीक नहीं होती। अगर ऐसा कुछ महसूस हो तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। साथ ही उपर बताई गई किसी भी चीज से आपको एलर्जी हो तो उसके पानी से गरारे न करें वरना हो सकता है कि ऐसा करने से परेशानी बढ़ जाएं। 

  Read more articles on Home Remedies in Hindi
Disclaimer