बार-बार हैंड सैनिटाइजर के इस्तेमाल से हाथों में हो रही है एलर्जी? इन 3 सामग्रियों से घर पर बनाएं सैनिटाइजर

 बार-बार सेनिटाइजर का इस्तेमाल करने से हाथों में एलर्जी हो रही। हाथों में एलर्जी न हो उसके लिए जरूरी है कि घर पर बने सेनिटाइजर का इस्तेमाल किया जाए।

Meena Prajapati
Written by: Meena PrajapatiPublished at: Feb 02, 2021
बार-बार हैंड सैनिटाइजर के इस्तेमाल से हाथों में हो रही है एलर्जी? इन 3 सामग्रियों से घर पर बनाएं सैनिटाइजर

दुनिया भर में फैले कोरोना वायरस से बचने के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organization) ने सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क लगाना, अच्छे से हाथ धोना और हैंड सेैनिटाइजर का इस्तेमाल (Use Of Hand Sanitizer) करने की गाइडलाइन्स दी थीं, जिन्हें लोग अभी भी फॉलो कर रहे हैं। लेकिन ज्यादा हैंड सैनिटाइजर का इस्तेमाल त्वचा को नुकसान (Sanitizeris Harmful for skin ) भी पहुंचा रहा है। दरअसल जिन लोगों की स्किन सेंसटिव होती है, उन्हें हैंड सैनिटाइजर से दिक्कत जल्दी हो सकती है। पिछले दिनों कुछ ऐसी खबरें आईं जिनमें सैनिटाइजर के इस्तेमाल से आग लगने व त्वचा संबंधी परेशानियां सामने आईं। हैंड सैनिटाइडर के इस्तेमाल से हाथों में ड्राइनेजस, रैशिज, खुजली, स्कीन का लाल हो जाना जैसी समस्याएं दिख सकती है। आप भी अगर उन लोगों में शामिल हैं जिनकी स्किन सेंसटिव है और सेनिटाइजर से एलर्जी हो रही है तो यहां हम आपको बता रहे हैं कि घर पर हैंड सैनिटाइजर (Homemade handsanitizer) कैसे बनाया जा सकता है। 

कब करें सैनिटाइजर का इस्तेमाल (When to use sanitizer)

विश्व स्वास्थ्य़ संगठन के मुताबिक जब आपके पास हाथ धोने के लिए साबुन और पानी न हो तब सैनिटाइजर का इस्तेमाल करें। सेनिटाइजर में एल्कोहल की मात्रा अधिक होती है जो त्वचा को नुकसान पहुंचा सकता है। बाजार के सैनिटाइजर में ऐसे कैमिकल होते हैं जो आपके हाथों के सहारे सीधे आपके खून में जाते हैं  और पूरे शरीर में पहुंच जाते हैं। ऐसे में एक कोरोना से बचने के लिए कई अन्य बीमारियां शरीर में सैनिटाइजर के माध्यम से पहुंच सकती हैं। हाथ धोने के आलस से लोग ज्यादातर सैनिटाइजर का इस्तेमाल करते हैं, ऐसे में उन्हें त्वचा संबंधी व अन्य परेशानियां हो सकती हैं। यह जरूरी नहीं है कि सभी को सैनिटाइजर से परेशानी होगी, पर हो सकता है जिनकी स्कीन सेंसटिव है, उन्हें सैनिटाइजर से परेशानी हो रही हो। 

इसे भी पढ़ें- क‍िस कंडीशन में न लगवाएं कोरोना का टीका? ICMR एक्सपर्ट से जानें कोरोना वैक्सीन से जुड़े ऐसे 14 सवालों के जवाब

इन 3 सामग्रियों से बनाएं सैनिटाइजर (How to make sanitizer at home)

यों तो विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भी बाजार में बनने वाले सैनिटाइजर के लिए दिशानिर्देश बताए हैं जिनमें उन्होंने तरीका भी बताया है कि सैनिटाइजर कैसे बनाना है, लेकिन जिन लोगों को एल्कोहल बेस्ड सैनिटाइजर से दिक्कत हो रही है तो वे घर पर भी सैनिटाइजर बना सकते हैं। तो आइए जानते हैं घर पर सैनिटाइजर बनाने का तरीका।

1.रबिंग एल्कोहल या आइसोप्रिफल एल्कोहल

सैनिटाइजर बनाने के लिए आपको सबसे पहले रबिंग एल्कोहल की जरूरत पड़ेगी। रबिंग एल्कोलह बैक्टीरिया को मारता है। यह बैक्टीरिया केवल मारता ही नहीं बल्कि उसे आगे बढ़ने भी नहीं देता। रबिंग एल्कोहल फंगस व वायरस को भी मारता है।

2.एलोवेरा जेल

साफ हाथों से एलोवेरा की पत्तियों से जेल निकालें।

3.एसेंशियल ऑयल

एसेंशियल ऑयल में आप लवेंडर ऑयल, टी ट्री ऑयल या नींबू के जूस का इस्तेमाल कर सकते हैं। टी ट्री ऑयल मलेलुका अल्टोफोलिया चाय के पेड़ के पत्तों का तेल है। लवेंडर और टी ट्री ऑयल मिलना मुश्किल हो तो आप नींबू के जूस का इस्तेमाल कर सकते हैं।

बनाने की विधि (Recipe)

जब यह सभी सामग्री आपके पास आ जाए तब आप सबसे पहले अपने हाथों को अच्छे साफ कर लें। जिन चीजों का इस्तेमाल आप सैनिटाइजर बनाने में कर रहे हैं उन्हें अच्छे से साफ कर लें। सबसे पहले चार चम्मच रबिंग एल्कोहल को एक साफ कटोरी में डालें फिर इसमें सात से आठ बूंदें नींबू या टी ट्री ऑयल डालें फिर एक चम्मच एलोवेर जेल मिलाएं। इस सामग्री को अच्छे से साफ चम्मच से मिलाएं। इसके बाद एक कांच की बोतल में इस मिश्रण को भर लें और सैनिटाइजर की तरह इस्तेमाल करें। 

इसे भी पढ़ें : सार्वजनिक टॉयलेट को इस्तेमाल करने में रहें थोड़ा सावधान, कोरोना संक्रमण का खतरा है ज्यादा

सैनिटाइजर में एलोवेरा और नींबू मिलाएं 

हैंड सैनिटाइजर बनाने के लिए हमने जो रबिंग एल्कोहल लिया था उससे हाथों में ड्राइनेस आ सकती है। उस ड्राइनेस को खत्म करने के लिए सैनिटाइजर में एलोवेर जेल मिलाया गया ताकी हाथ मॉश्चराइज रहें। हाथों से एल्कोहल की बदबू न आए उसके लिए नींबू का जूस या एसेंशियल ऑयल का इस्तेमाल किया गया है। 

सैनिटाइजर का सही इस्तेमाल (Right use of sanitizer)

सैनिटाइजर का इस्तेमाल तभी करें जब आपके पास साबुन न हो। जो भी सैनिटाइजर आप इस्तेमाल कर रहे हैं उसे तब तक हाथों पर मलें जब तक हाथ सूखे न हो जाएं। हथेलियों व उंगलियों के बीच में अच्छे से सेनिटाइजर को मलें। अगर आपके हाथ गंदे हैं तो पहले साबुन से अच्छे से धोएं फिर सुखाकर सैनिटाइजर लगाएं। जब भी आप बाहर जाकर किसी सर्फेस को छुएं तो हाथों को सैनिटाइज कर लें।

साबुन ज्यादा बेहतर (Soap is better)

विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक सैनिटाइजर आपके हाथों के किटाणुओं को तो मारता ही है और कोरोना को फैलने से भी रोकता है लेकिन यह भी देखने में आया है कि ज्यादा सैनिटाइजर का इस्तेमाल स्किन को एलर्जी दे सकता है। इसलिए हाथ साफ करने का सबसे अच्छा तरीका है कि आप साबुन से हाथ धोएं। 

इसे भी पढ़ें - आपके बच्चों की आंखों को नुकसान पहुंचा सकते हैं हैंड सैनिटाइजर, शोध में हुआ खुलासा

बाहर जाते समय हैंड गल्वस रखें साथ (Keep the hand gloves with you while going out)

सैनिटाइजर का इस्तेमाल उस कंडीशन में किया जाता है जब आपके पास न पानी हो और न ही साबुन। जैसा कि नाम से ही जाना जाता है कि वह सैनिटाइजर जो हाथ में लेकर जाया जाता है। एक्सपर्ट ज्यादा सेनिटाइजर के इस्तेमाल की सलाह नहीं देते हैं। तो अगर आपकी स्किन ज्यादा सेंसटिव है या आप स्किन एलर्जीज से बचना चाहते हैं तो जरूरी है कि आप अपने साथ हैंड ग्लव्स लेकर चलें। ताकि कोई भी किटाणु आपके हाथों के सहारे आपके शरीर में न जाए। पर ध्यान रहे कि हैंड ग्लव्स इस्तेमाल करने के बाद कूड़ेदान में ही फेकें। सड़क पर कहीं भी न फेंक दें। यह बात अच्छी आदतों में शुमार करनी चाहिए। 

जब से कोरोना आया है तब से लोगों में पर्सनल हाइजीन को लेकर समझ बेहतर हुई है। लोगों को बार-बार बताया गया कि हाथ धोने से भी कोरोना आपके पास नहीं आएगा। डॉक्टरों का मानना है कि बहुत सी ऐसी बीमारियां हैं जो लोगों ने केवल पर्सनल हाइजीन मेंटन करके ठीक कर लीं। लगातार हाथ साफ रहने से जुकाम व फ्लू जैसी बीमारियां कम हुई हैं। बहुत सी ऐसी बीमारियां थीं जो केवल हाथों के धोने से दूर हुई हैं। 

Read more articles on Miscellaneous in Hindi

Disclaimer